सड़क दुर्घटना में कमी लाने के लिए बनाया जाएगा फ्लायओवर:शंभू टोल के पास से गुजर रहे हिसार फ्लाईओवर पर बनेगा क्लोवर लीफ

अम्बालाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इस तरह का होता है क्लोवर लीफ फ्लाइओवर - Dainik Bhaskar
इस तरह का होता है क्लोवर लीफ फ्लाइओवर
  • 5 विभागों की टीम ने 5 ब्लैक स्पॉट का किया दौरा
  • सद्दोपुर कट पर लगेंगे क्रैश बैरियर, सुल्तानपुर चौक पर बढ़ाई जाएगी विजिबिलटी

5 विभागों की टीम ने सोमवार को अम्बाला के 5 ब्लैक स्पॉट का दौरा किया। दौरे के दौरान टीम ने यहां हादसों के कारण जानने और उनके विकल्प पर मौके पर ही चर्चा की। सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए पूरे हरियाणा में 119 ब्लैक स्पॉट चिन्हित किए गए थे, जिनमें से अम्बाला से सुल्तानपुर चौक, सद्दोपुर के पास हाईवे कट, देवी नगर टोल प्लाजा के पास कट, मनका-मनकी के पास और कालपी चौक थे। डीसी की रिव्यू बैठक के बाद चयनित ब्लैक स्पॉट की रिपोर्ट तैयार कर ट्रैफिक आईजी को करनाल भेजी थी। जिसके बाद ये रिपोर्ट मिनिस्ट्री ऑफ रोड ट्रांसपोर्ट के पास गई और इन्हें ब्लैक स्पॉट डिक्लेयर किया था। मौके पर टीम में प्रोजेक्ट इंप्लीमेंट यूनिट से मेंटेनेंस मैनेजर सन्नी शर्मा, पीडब्ल्यूडी जेई जगदीप, एनएचएआई के साइट इंजीनियर आदित्य, आरटीए से सब इंस्पेक्टर सुलेख, डाटा एंट्री ऑपरेटर अजय, एसपी कार्यालय से को-ऑर्डिनेटर चरनजीत सिंह व ट्रैफिक थाना प्रभारी जोगिंद्र सिंह मौजूद रहे।

क्या है क्लोवर लीफ

क्लोवर लीफ दो प्रमुख राजमार्गोे के बीच एक मेन इंटरचेंज होता है, जो किसी वाहन को दाएं या बाएं मुड़ने या मेन एक्सप्रेस-वे को क्रॉसिंग किए बिना ट्रैफिक को एक लेन से दूसरी लेन में बदलने में मदद करता है। ऊपर से देखने में यह किसी पत्ते व तितली जैसा नजर आता है।

कालपी बाईपास पर साइन बोर्ड व मनका-मनकी में रंबल स्ट्रीप लगाने पर चर्चा

देवी नगर फ्लाईओवर
टीम सुबह साढ़े 11 बजे सबसे पहले देवी नगर टोल प्लाजा के पास पहुंची। एनएचएआई से साइट इंजीनियर का कहना था कि जिसने भी हिसार से सद्दोपर फ्लाइओवर बनाया है, उसे क्लोवर लीफ का ध्यान रखना चाहिए था। काफी देर विचार विमर्श के बाद निष्कर्ष निकला कि यहां पर क्लोवर लीफ बनाया जाएगा। यानी कि हिसार से आने वाले वाहन अगर पंजाब जाना चाहते हैं तो फ्लाइअोवर के ऊपर से फ्लाइओवर टोल की तरफ नीचे उतारा जाएगा। अगर किसी को शंभू की तरफ से चंडीगढ़ जाना है तो शंभू की ओर से भी फ्लाइओवर ऊपर की तरफ हिसार पुल से जुड़ेगा। इनके बीच में दो गोल फ्लाइओवर बनेंगे। इस कार्य पर साढ़े 4 करोड़ रुपए खर्च होंगे, जो कि एनएचएआई करेगा।
सद्दोपुर हाईवे
इसके बाद टीम सद्दोपर हाईवे पर पहुंची। यहां गांव के बाहर हाईवे पर फ्लाइओवर खत्म होते ही बने कट के कारण आए दिन होने वाले हादसों को देखकर एनएचएआई के अधिकारी ने पूछा कि ये कट किस लिए। जिस पर जवाब आया कि यहां के ग्रामीण व अन्य लोग इस गांव में से आने व जाने के लिए इस्तेमाल करते हैं। प्रोजेक्ट इंपलीमेंट यूनिट की तरफ से इस कट पर क्रैश बैरियर लगाने की बात कही गई। अब जिसे भी इस रोड के दूसरी तरफ जाना होगा तो उसे करीब आधा किलोमीटर बने कट तक चलकर ही आना होगा।
सुल्तानपुर बैरियर
इसके बाद टीम सुल्तानपुर बैरियर पहुंची। हादसे की वजह जानी। ट्रैफिक पुलिस से विचार किया और विकल्प निकला कि यहां विजिबिलिटी के लिए पोल पर रिफ्लेक्टर लगाए जाएंगे। मौक पर मौजूद ट्रैफिक पुलिस कर्मचारी का कहना था कि यहां मीटर न होने के कारण ट्रैफिक लाइटें 2021 से खराब बंद हैं। वहीं इस दौरान वहां से गुजर रहे बिजली निगम के जेई से रोककर बात की तो उन्होंने बताया कि यहां ट्रैफिक लाइटें चलाने के लिए पहले कुंडी से बिजली ली जा रही थी।
कालपी बाईपास
टीम कालपी बाईपास के पास ताे यहां सबसे पहले रोड किनारे लगी रेहड़ियाें व ऑटो को हटवाया। एक ऑटो का चालान भी किया। यहां विजिबिलिटी की कमी दिखी तो पीडब्ल्यूडी से आए अधिकारी ने साइन बोर्ड लगवाने की बात कही।
मनका-मनकी
मनका-मनकी के पास हाईवे पर की ओवर स्पीड व गलत दिशा में वाहन आने के कारण आए दिन हादसे हो रहे हैं। यहां विकल्प पर विचार किया तो विकल्प निकला कि या तो यहां रंबल स्ट्रीप लगाई जाए।

खबरें और भी हैं...