अंबाला SD कॉलेज में दीक्षांत समारोह:केयू VC बोले- कागज की डिग्री से हम शिक्षित नहीं बन सकते; इंसानियत जरूरी

अंबाला5 महीने पहले
SD कॉलेज में आयोजित दीक्षांत समारोह में डिग्री वितरित करते केयू कुलपति प्रो. सोमनाथ सचदेवा व अन्य।

कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. सोमनाथ सचदेवा ने कहा है कि डिग्री हासिल करना शिक्षित होना नहीं है। डिग्री एकमात्र क्वालिफिकेशन है। हमें एजुकेशन के सही मतलब को समझने की जरूरत है। एक अच्छी सोच के साथ आगे बढ़ने के साथ इंसानियत बेहद जरूरी है। वे हरियाणा के अंबाला कैंट स्थित SD कॉलेज के दीक्षांत समारोह में बोल रहे थे। समारोह में शैक्षणिक सत्र 2018-19, 2019-20 और 2020-21 के UG/PG उत्तीर्ण कर चुके 626 विद्यार्थियों को डिग्री वितरित की गई। इनमें UG के 536 और PG के 90 विद्यार्थी शामिल हैं।

SD कॉलेज में आयोजित दीक्षांत समारोह में मंचासीन केयू वीसी प्रो. सोमनाथ सचदेवा व अन्य।
SD कॉलेज में आयोजित दीक्षांत समारोह में मंचासीन केयू वीसी प्रो. सोमनाथ सचदेवा व अन्य।

एजुकेशन का मतलब समझाया

VC प्रो. सचदेवा ने दीक्षांत समारोह में विद्यार्थियों को इंसानियत का भी पाठ पढ़ाया। उन्होंने एजुकेशन के मतलब समझाया। कहा कि एजुकेशन के साथ सत्य, अहिंसा, धर्म सभी का ध्यान रखें। संविधान के अनुसार हमारी जिम्मेदारियां, हमारे अधिकार क्या हैं। कहा कि अगर हम सड़क पर चलते हुए दूसरे की सेफ्टी का ध्यान नहीं रखते इसका मतलब हम अनपढ़ हैं। हम सभी बातों का ध्यान रखें।

आप कहीं भी चले जाए, लेकिन इंसानियत को हमेशा जिंदा रखें। हर किसी के दुख सुख में हमेशा सहयोग करें, जिनके पास कागज की यह डिग्री नहीं है वह भी आपसे ज्यादा एजुकेटेड हो सकता है। इससे पहले VC ने कॉलेज में IIC (इंस्टीट्यूट इनोवेशन काउंसिल) सेंटर का उद्घाटन किया।

विश्व की टॉप-10 कंपनियों में भारतीय CEO

प्रो. सोमनाथ सचदेवा ने कहा कि भारत विश्व का सबसे युवा देश है। भारत में 37 करोड़ युवा हैं। हमारे युवाओं की सोच में बहुत बड़ा परिवर्तन हुआ है। पहले समस्याओं से पीछा छुड़वाने की बात होती थी, लेकिन अब समस्याओं का समाधान के संकल्प लिया जाता है। उन्होंने युवाओं को आत्मनिर्भर बनने के प्रति प्रेरित किया और कहा कि आज विश्व की टॉप-10 कंपनियों के CEO भारतीय हैं।

इस मौके पर प्राचार्य डॉ. राजेंद्र सिंह, डॉ. जोगिंद्र रोहिल्ला, डॉ. सतबीर सिंह, डॉ. आशुतोष, डॉ. अलका शर्मा, डॉ. नवीन गुलाटी, डॉ. सुशील गोस्वामी, डॉ. प्रमजीत कौर, डॉ. गुलशन सिंह, डॉ. प्रेम सिंह, डॉ. मोहित, डॉ. गिरिधर गोपाल समेत अन्य मौजूद रहे।