पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

महामारी में अनियमितताएं:कोर्ट ने डोगरा लैब को खोलने के दिए आदेश पुलिस मौके पर गई, पर बिना कार्रवाई लौटी

अम्बाला सिटीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अम्बाला सिटी | डोगरा लैब पर कार्रवाई करने पहुंची पुलिस टीम। - Dainik Bhaskar
अम्बाला सिटी | डोगरा लैब पर कार्रवाई करने पहुंची पुलिस टीम।
  • लैब की ओर से पेश वकील जैन का तर्क- जल्दबाजी में किया था सील

स्वास्थ्य विभाग ने सेक्टर-7 स्थित जिस डोगरा लैब को कोरोना महामारी में अनियमितताएं बरतने के लिए सील किया था। उसे जेएमआईसी विक्रमजीत सिंह की कोर्ट ने खोलने के आदेश दिए हैं। कोर्ट के आदेश के बाद वीरवार को विभाग की टीम पुलिस के साथ मौके पर गई, लेकिन सील खोले बिना वापस लौट गई।

डोगरा लैब के खिलाफ सेक्टर-9 पुलिस थाना ने एपेडमिक एक्ट के साथ डिजास्टर मैनेजमेंट के तहत कई धाराओं में मामला दर्ज किया था। विभाग ने लैब को सील कर दिया था। लैब सील करने के खिलाफ डॉ. वासु ने रिट डाली थी। डॉ. वासु के एडवोकेट रोहित जैन ने कोर्ट में बहस करते हुए कहा कि लैब को जल्दबाजी में बंद कर सील किया गया।

यह क्षेत्र की पहली लैब है जो नेशनल एक्रीडिएशन बोर्ड फॉर टेस्टिंग केलिब्रेशन आॅफ लैबोरेट्रीज से मान्यता प्राप्त है। मशीनों में जो टेस्ट लगाए गए हैं, उनकी समय सीमा है। जो मशीनें लैब में चल रही हैं उनके लिए सुपरविजन की जरूरत है। लैब में 15 कर्मी काम करते हैं। लैब बंद होने से उनकी भी आर्थिक हानि होगी।

महामारी के चलते लैब को गैर कानूनी तरीके से बंद किया गया है। दूसरे पक्ष ने बहस की कि जांच अभी चल रही है। इस प्रकार से लैब को खोलने की इजाजत नहीं मिलनी चाहिए।

कोर्ट ने आदेश में यह कहा- कोर्ट ने कहा कि कोई भी स्पेसिफिक ऑर्डर किसी कंपीटेंट अथाॅरिटी का नहीं है कि लैब को अनिश्चितकाल के लिए बंद किया जा सके। कोर्ट ने कहा कि बेशक जांच चल रही है, लेकिन याचिकाकर्ता जमानत पर है। याचिकाकर्ता को अपने व्यवसाय को छाेड़ने के लिए बाधित नहीं किया जा सकता। बिना स्पेसिफिक ऑर्डर के यह कार्रवाई की गई है।

खबरें और भी हैं...