पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दुखद:कर्ज में डूबे सेना के क्लर्क ने जहर खाकर जान दी, 3 सूबेदारों समेत 18 पर मरने को मजबूर करने का केस

अम्बाला14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक बिजेंद्र सिंह। - Dainik Bhaskar
मृतक बिजेंद्र सिंह।
  • आनंद नगर-ए में बनी कोठी में आधी रात को बिगड़ी तबीयत, चंडीगढ़ के अस्पताल में मौत

कैंट में आर्मी के सब एरिया हेडक्वार्टर के स्टेशन सेल में अकाउंट क्लर्क 44 वर्षीय बिजेंद्र सिंह ने सोमवार आधी रात को घर में कोई जहरीला पदार्थ खा लिया। उल्टियां होने पर परिजन पड़ोसी की कार में पहले कैंट सिविल अस्पताल और वहां से चंडीगढ़ सेक्टर-32 के अस्पताल में लेकर गए लेकिन जान नहीं बचाई जा सकी।

बिजेंद्र अपने साथ जो बैग रखते थे, उसमें से 2 सुसाइड नोट मिले। बिजेंद्र की पत्नी सुनीता की शिकायत पर 18 लोगों के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने का केस दर्ज किया है। जिन लोगों पर केस दर्ज हुआ है, उनमें फौज के 3 सूबेदार, हवलदार, करियाना स्टोर संचालक, सरपंच आदि शामिल हैं।

आरोप है कि इन लोगों के साथ बिजेंद्र का पैसों का लेन-देन था। बिजेंद्र इनसे ब्याज पर पैसे लेता था और किसी काम में लगाता था। कोरोना की वजह से हुए लॉक डाउन के कारण काम थोड़ा बिगड़ गया और अब ये लोग बार-बार घर व ऑफिस में पैसे मांगने पहुंच रहे थे। कुल कितने का लेन-देन था, इसका जिक्र न तो सुसाइड नोट में है और न ही परिजन बता पा रहे हैं। बिजेंद्र मूलरूप से जींद के गांव जामनी के थे और कई सालों से बोह रोड पर आनंद नगर-ए में 111 वर्गगज के प्लॉट में डबल स्टोरी कोठी बनाकर रह रहे थे। उनके 17 साल का बेटा रितिक और 15 साल की बेटी शालू हैं।

पुलिस ने अशोक कुमार, कृष्ण कुमार, सूबेदार रामपाल, सूबेदार सुल्तान, सूबेदार बलकार, एक्स हवलदार सीता राम व बलबीर सिंह, लाला रामनिवास, विवेक सिंगला, बंटी सरदार, तोपखाना निवासी मोनू, राजबीर, राम शंकर, बाबू, हरपाल, संतोष, गांव खुर्दी निवासी सरपंच गुरमीत, सन्नी के खिलाफ मिलकर आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज कर लिया है।

पत्नी बोलीं- बिजेंद्र तनाव में थे, छुट्‌टी लेकर जींद गए तो आरोपियों ने घर को ताला लगा दिया

लेनदार दफ्तर व घर में आकर धमकाते थे, सोमवार शाम को तीन लोग मिलने के लिए आए तो रात को खाना नहीं खाया
पति लोगों से पैसे लेता था और उसके बदले ब्याज देता था। पैसे लेकर क्या करता था, इस बारे में उन्हें कुछ नहीं पता। लॉकडाउन की वजह से जब समय पर ब्याज का पैसा नहीं दे पाए तो लोगों ने परेशान करना शुरू कर दिया। बच्चों को उठाने की धमकी दी गई। दफ्तर के लोग भी पैसे की वजह से परेशान कर रहे थे।

पति ने अधिकारियों को बोल कर बाहरी लोगों के दफ्तर में आने पर रोक लगाई तो लोगों ने घर पर आना शुरू कर दिया। इस वजह से पति डिप्रेशन में आ गए। डॉक्टर को चेक कराया तो उन्होंने एकांतवास में रहने की सलाह दी। पति ने छुट्‌टी ली और परिवार जींद में चले गए। पीछे से आनंद नगर ए निवासी हरपाल सिंह, बोह रोड पर दिल्ली करियाना स्टोर संचालक सन्नी और आनंद नगर-ए निवासी संतोष ने घर पर ताला लगा दिया। वापस लौटने पर ताला तोड़कर घर में घुसे। सोमवार को दो लोगों ने दफ्तर में पहुंचकर परेशान किया था।

शाम को जब बेटा रितिक पिता को घर लेकर आया तो रोने लगे। शाम को पांच बजे 12 क्रॉस रोड पर रहने वाला बाबू और दो व्यक्ति घर आए। तीनों से पति ने ड्राइंग रूम में बैठकर 25 मिनट तक बात की। उनके जाने के बाद पति परेशान हो गए। सोमवार शाम को साढ़े 5 बजे बिजेंद्र ने पानीपत निवासी अपने जीजा मस्तान सिंह से फोन पर बात की।

बाबू से खुद को खतरा बताया था। पति ने बड़े भाई के बेटे एवं स्टेशन हेड क्वार्टर में ठेकेदार के अधीन नौकरी कर रहे सचिन के सामने रोने लगा और बहुत ज्यादा देनदारी होने की बात कही। रात को खाना भी नहीं खाया। सभी ने समझाया। इसके बाद बेडरूम में सोने के चले गए। रात को 12 बजे पति उल्टियां करने लगे।
जैसा पत्नी सुनीता ने एफआईआर में लिखवाया

सुसाइड नोट में गोली से मारने की धमकी का जिक्र
मैं परेशान चल रहा हूं और लोग मुझे गोली से मारने की धमकी दे रहे हैं। मेरे बच्चों को परेशान किया जा रहा है। सूबेदार रामपाल भी मुझे परेशान करता है, मेरे बच्चों को भी परेशान करता है मुझे गोली मारने की धमकी देता है। लाला रामनिवास मुझे हर रोज घर पर धमकी देकर जाता है, मुझे इससे (लाला) से खतरा है।

कई चिट कमेटियां घाटे में उठा रखी थी, बैंक का लोन खड़ा था, उधारी भी चढ़ी थी
बिजेंद्र सिंह ने कई चिट कमेटियां डाल रखी थी। कमेटी सदस्यों की कमेटियां भी घाटे में उठा रखी थी। कमेटी चलाने वाले एक व्यक्ति ने बताया कि पैसे की जरूरत बता कर उसने अन्य कमेटी सदस्यों की कमेटियां भी ले रखी थी। सदस्य अब घर के घर चक्कर काट रहे थे। रविवार को भी कमेटी के पैसे लौटा देने की बात कही थी। बिजेंद्र पैसे जल्द लौटा देने की बात कह देता था। उधर, बताते हैं कि कॉलोनी के अन्य लोगों से भी नौकरी लगवाने के नाम पर पैसा ले रखा था। (हालांकि इसकी पुष्टि नहीं हुई।)

बिजेंद्र सिंह ने बैंक से 15 साल पहले लोन लेकर मकान लिया था। करीब 18 लाख का लोन खड़ा है। तीन महीने पहले बिजेंद्र ने मकान बेचने का प्रयास किया था, कीमत करीब 24 लाख रुपए लगाई गई थी। परिवार की आपत्ति की वजह से मकान नहीं बिक पाया।

मैंने ब्याज पर एक लाख दिलवाया : सन्नी
आनंद नगर-बी में दिल्ली करियाना स्टोर चलाने वाले सन्नी ने बताया कि बिजेंद्र को 3 फीसदी ब्याज पर एक लाख रुपए दिया था। बिजेंद्र राशन भी यहीं से लेता था। किसी की शादी में बिजेंद्र ने उससे सामान भी दिलवाया। अब ब्याज भी नहीं आ रहा था और कॉलोनी से बिजेंद्र भाग गया था। नवंबर 2020 में उसने बिजेंद्र के वाट्सएप पर कई बार मैसेज भी छोड़े। एक बार भी उसने बिजेंद्र को जान से मारने की धमकी नहीं दी। बिजेंद्र बीमार होने और डॉक्टर के चेकअप के एडमिट कार्ड तक उसे वाट्सएप पर सेंड किए थे। उसे परेशान नहीं किया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप में काम करने की इच्छा शक्ति कम होगी, परंतु फिर भी जरूरी कामकाज आप समय पर पूरे कर लेंगे। किसी मांगलिक कार्य संबंधी व्यवस्था में आप व्यस्त रह सकते हैं। आपकी छवि में निखार आएगा। आप अपने अच...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser