• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • Demonstration In Ambala Cantt SDM Office. 8 Families Agitated Over Lack Of Identification Of Pit Manure Land, Demand For Action

अंबाला कैंट SDM कार्यालय में प्रदर्शन:गड्ढा खोद जमीन की निशानदेही न होने पर भड़के 8 परिवार, कार्रवाई की मांग

अंबाला4 महीने पहले
एसडीएम कार्यालय पहुंचे गांव कलरेहड़ी के परिवार।

हरियाणा के अंबाला कैंट स्थित एसडीएम कार्यालय में गांव कलरेहड़ी के करीब 8 परिवारों ने रोष प्रदर्शन किया। इन परिवारों का कहना है कि सरकार द्वारा परिवारों को दी गई एक-एक मरले की जमीन पर अन्य ग्रामीणों ने कब्जा किया हुआ है, लेकिन 8 माह से उस जमीन की निशानदेही के लिए वे भटक रहे हैं।

खोदकर फसल की बुवाई की

गांव कलरेहड़ी निवासी सतीश कुमार, अमरजीत सिंह, गुरदास, कृष्ण व बलदेव ने बताया क‌ि सरकार द्वारा 8 परिवारों को एक-एक मरले की जमीन दी थी। सभी परिवार एससी व एसटी समाज से हैं। उनकी जमीन पर जमीदार लोगों ने कब्जा किया हुआ है। जमीदार लोगों ने शर्त रखी थी कि गेहूं की फसल कट जाने पर आप अपनी निशानदेही करवा लेना।

गेहूं की फसल कट जाने पर भी जमीदार लोगों ने फसल की दोबारा से बुवाई कर दी है। वे उनकी जमीन को छोड़ना ही नहीं चाहते। इस मामले में हमारी 4 मई को DC और SDM से बात हुई थी, जिसमें 4 मई को SDM के निर्देशानुसार तहसीलदार कानूनगो रण सिंह को मीटिंग में बुलाया गया और हम लोगों से बात हुई, जिसमें निशानदेही कराने के आदेश दिए गए थे।

इसके बाद कानूनगो रण सिंह ने दोबारा 8 परिवारों को निशानदेही की दरखास्त देने की बात कही। कई बार निशानदेही की दरखास्त रण सिंह को दे चुके हैं, इसके बावजूद निशानदेही नहीं हुई। कहीं भी हमारी सुनवाई नहीं हो रही है। इसलिए अब हम अपने हकों के लिए सड़कों पर उतर आए हैं। अगर अब भी सुनवाई नहीं हुई तो मुख्यमंत्री को शिकायत देंगे।

कानूनगो पर मिलीभगत से काम करने के आरोप

गुस्साए परिवारों ने कानूनगो पर जमींदारों से मिलकर काम करने के आरोप लगाए हैं। परिवारों ने कहा कि उनकी निशानदेही एक लीगल प्रक्रिया है, लेकिन वे अभी तक तहसील के चक्कर काटने को मजबूर हैं। वे SDM और DC के समक्ष गुहार लगा चुके हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। अब कानूनगो ने 25 मई को निशानदेही कराने का आश्वासन दिया है।