पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

डॉक्टरों पर हमलों के विरोध में ओपीडी पांच घंटे बंद:निजी अस्पताल के डॉक्टर आज दोपहर 2 बजे के बाद ही मरीजों को चेक करेंगे

अम्बालाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पिछले 2 सप्ताह में डॉक्टरों पर हमले के विरोध में आईएमए कोविड महामारी के चलते सिम्बोलिक प्रदर्शन करेगी। - Dainik Bhaskar
पिछले 2 सप्ताह में डॉक्टरों पर हमले के विरोध में आईएमए कोविड महामारी के चलते सिम्बोलिक प्रदर्शन करेगी।

अम्बाला के लगभग 250 निजी अस्पतालों में शुक्रवार को ओपीडी सुबह 8 बजे से दोपहर 2 बजे तक बंद रहेगी। लगभग 10 हजार मरीजों का निजी अस्पतालों में चेकअप 5 घंटे बाद ही हो‌गा। यह फैसला इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के आह्वान पर लिया गया है। पिछले 2 सप्ताह में डॉक्टरों पर हमले के विरोध में आईएमए कोविड महामारी के चलते सिम्बोलिक प्रदर्शन करेगी।

सिटी व कैंट समेत अम्बाला के अन्य स्थानों पर ओपीडी संपूर्ण रूप से बंद रहेगी। यह प्रदर्शन सेव द सेवियर्स के तहत किया जाएगा। आईएमए का कहना है कि पिछले काफी समय से डॉक्टरों पर हमले होते रहे हैं। लगातार मांग की जाती रही कि डॉक्टरों को सुरक्षा प्रदान की जाए, लेकिन सरकार ने अभी तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं की। कोरोना महामारी के समय डॉक्टरों पर जो हमले हुए हैं। उस समय केंद्रीय सरकार ने कानून में केवल थोड़ा सा बदलाव किया कर दिया। जो सिर्फ महामारी के दौरान लागू रहेगा।

ये हैं आईएमए की मांगें

आईएमए की मांग है कि केंद्रीय कानून बनाया जाए। जिसमें मरीज के तीमारदारों द्वारा डॉक्टरों पर हमले के बाद तुरंत केस दर्ज किया जाए। डॉक्टरों के प्रतिष्ठानों को सुरक्षित स्थान घोषित किया जाए। डॉक्टरों की सुरक्षा के मानक तय किए जाएं। डॉक्टरों पर हमले की जांच फास्ट ट्रैक कोर्ट से कराई जाए।

मांगों को मनवाने के लिए पूरे देश में विराेध किया जा रहा है। सभी डॉक्टर काली पट्टी बांधेंगे। कोविड नियमों का पालन करते हुए छोटे-छोटे प्रदर्शन किए जाएंगे।
डॉ. पूनम लांबा, अध्यक्ष, आईएमए, अम्बाला कैंट।

पिछले दो सप्ताह में असम, यूपी, दिल्ली, वेस्ट बंगाल के अलावा अन्य स्थानों पर डॉक्टरों पर हमले किए गए हैं। इसके विरोध में देशभर के 3.50 लाख विरोध प्रदर्शन करेंगे ताकि केंद्र डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए कानून बनाए। शुक्रवार को डॉक्टर काले बैज लगाकर तथा ओपीडी बंद कर अपना विरोध जताएंगे।
डॉ. अशोक सारवाल, अध्यक्ष, आईएमए, अम्बाला सिटी।

खबरें और भी हैं...