• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • Election Of Final Waiter List In High Court, Court Sought Information From Officials, 5 People Including HDF Leader Chitra Filed Petition On 5 October For Non hearing Of Objections

नप चुनाव:फाइनल वाेटर लिस्ट काे हाईकाेर्ट में चुनाैती, काेर्ट ने अधिकारियों से मांगी जानकारी, आपत्तियाें पर सुनवाई न होने पर एचडीएफ नेत्री चित्रा समेत 5 लोगों ने 5 अक्टूबर को दायर की थी याचिका

अम्बाला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नगर परिषद चुनाव को लेकर चुनाव आयोग फाइनल वाेटर लिस्ट अगस्त में जारी कर चुका है, जिसे डेमोक्रेटिक फ्रंट की नेत्री चित्रा सरवारा समेत 5 लाेगाें ने हाईकोर्ट में चुनौती दी। 5 अक्टूबर को याचिका दायर कर अपील की कि लिस्ट को दुरुस्त किया जाए। पहली सुनवाई बुधवार को हुई। परिषद से क्लर्क दलेर सिंह रिकॉर्ड लेकर पेश हुए। हाईकोर्ट को बताया कि वार्डबंदी के बाद जो लिस्ट तैयार की थी उस पर 90 आपत्तियां आई थी। 39 आपत्तियां स्वीकार कर 51 को रिजेक्ट कर दिया।

परिषद ने हाईकाेर्ट में कहा कि याचिकाकर्ताओं ने ऑब्जेक्शन दर्ज कराया था, वो रिजेक्ट कर दिया था। लेकिन उन्होंने आगे अपील नहीं की थी। जबकि याचिकाकर्ता ने कहा कि उन्हाेंने रिवाइजिंग अथॉरिटी के सामने आापत्ति दर्ज कराई थी। अभियोजन पक्ष ने संयुक्त अपील 20 अगस्त को डीसी के पास दायर करने की बात हाईकाेर्ट काे बताई और कहा कि उस पर अभी कोई फैसला नहीं हुआ है।

अभियोजन पक्ष के मुताबिक 16 जुलाई को रिवाइजिंग अथॉरिटी के पास आपत्ति दर्ज कराई थी, जिस पर 27 जुलाई को फैसला देना था। इस फैसले के रिजेक्ट होने पर 30 जुलाई तक डीसी के पास अपील की जा सकती थी, लेकिन रिवाइजिंग अथॉरिटी ने उन्हें कोई सूचना नहीं दी। इसलिए 4 अगस्त तक डीसी ने वोटर लिस्ट फाइनल कर दी। इसके बाद फाइनल नोटिफिकेशन कोविड-19 के चलते 18 अगस्त की बजाए 31 अगस्त को सार्वजनिक किया। हाईकोर्ट ने अगली सुनवाई 23 मार्च 2022 को तय की है और याचिका के संबंध में अधिकारियाें से पूरी जानकारी मांगी है।

इन्होंने दायर की याचिका: एचडीएफ नेत्री चित्रा सरवारा, मतिदास नगर निवासी जसदीप सिंह, सुभाष कुमार भाषी, पूर्व पार्षद सुरेश त्रेहन व पूर्व पार्षद गगन डांस।

इनकाे बनाया पार्टी: यूएलबी के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी, राज्य चुनाव आयोग, डीसी अम्बाला, रिवाइजिंग अथॉरिटी म्यूनिसिपल काउंसिल, ईओ नगर परिषद कैंट।

हाईकोर्ट के सामने 5 प्वाइंट रखकर बताई कमियां

  • 1. एक वार्ड में दूसरे वार्ड के वोटर का नाम: नगर परिषद ने जो वोटर लिस्ट फाइनल की है उसमें काफी वोटर ऐसे हैं जिनके मकान एक वार्ड में हैं, लेकिन उन्हें वोट डालने के लिए दूसरे वार्ड में जाना पड़ेगा।
  • 2. आबादी से ज्यादा वोटर: याचिकाकर्ता का कहना है कि प्रस्तावित वार्ड नंबर 8 और 23 में आबादी से ज्यादा वोटर हैं, इसलिए सभी वार्ड को बराबर किया जाए।
  • 3. आबादी पूरी, वोटर बहुत कम: परिषद के प्रस्तावित वार्ड नंबर 17 और 19 ऐसे वार्ड हैं जिसमें आबादी तो पूरी है लेकिन वोटर बहुत कम हैं। वार्ड 17 में करीब 800 और 19 में करीब 2300 वोटर हैं।
  • 4. डेथ वोटर की वोट नहीं काटी गई: 15 जनवरी 2021 की वोटर लिस्ट के मुताबिक वोटर लिस्ट फाइनल की गई है, लेकिन 4 हजार वोटर ऐसे हैं जिनका निधन हो चुका है। लेकिन फिर भी उन्हें वोटर लिस्ट से नहीं हटाया गया।
  • 5. एक व्यक्ति की 2 और 3 वोट बनी हुई हैं: परिषद की फाइनल वोटर लिस्ट में 3 हजार से ज्यादा ऐसे वोटर हैं जिनकी वाेट डबल बनी हुई है। कुछ ऐसे वोटर हैं जिनकी 3 जगहों पर वोट बनी हुई है।

हमने हाईकोर्ट में याचिका दायर की है और मांग की है कि नगर परिषद वोटर लिस्ट को दुरुस्त करे। मुख्य तौर पर हमारी 5 आपत्तियां हैं जिसे दूर किया जाए। हमने हाईकोर्ट के सामने आपत्तियाें से संबंधित सबूत भी पेश किए हैं। साथ ही समय-समय पर रिवाइजिंग अथॉरिटी को दी गई शिकायतें भी पेश की। अम्बाला सिटी में हुए चुनाव के दौरान भी ऐसी समस्याएं आई थी, जिसमें वोटर को अपना वार्ड छोड़ दूसरे वार्ड में जाकर वोट डालनी पड़ रही थी। जनता के हितों को देखते हुए और पार्षद की तरफ से इन कमियों को दूर किया जाना जरूरी है।-चित्रा सरवारा, नेत्री, एचडीएफ अम्बाला।

खबरें और भी हैं...