• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • For The Sports Project In Ambala, 168 Crore Football gymnastics swimming Major Competitions Will Be Sanctioned In 5 Years.

अब खेला होबे:अम्बाला में खेल प्रोजेक्ट के लिए 5 साल में मंजूर हुए 168 करोड़ फुटबॉल-जिम्नास्टिक-स्वीमिंग की बड़ी प्रतियोगिताएं हो सकेंगी

अम्बाला8 महीने पहलेलेखक: रमिंद्र सिंह
  • कॉपी लिंक
अम्बाला | कैंट के वार हीरोज मेमोरियल स्टेडियम में बन रहा फुटबाॅल ग्राउंड। - Dainik Bhaskar
अम्बाला | कैंट के वार हीरोज मेमोरियल स्टेडियम में बन रहा फुटबाॅल ग्राउंड।
  • वार हीराेज मेमाेरियल स्टेडियम, प्रदेश के पहले आधुनिक फुटबाॅल स्टेडियम व ऑल वेदर स्वीमिंग पूल का निर्माण अंतिम चरण में, बाॅक्सिंग हॉल का निर्माण भी जारी

अम्बाला के खिलाड़ियाें ने खेल मुकाबलों में अपना वर्चस्व स्थापित करते हुए जिले को गौरवमयी क्षणाें की अनुभूति करवाई है। मगर, समय के साथ खेलों का ढांचा मजबूत नहीं रहा, जिस कारण प्रतिस्पर्धा की दौड़ में खिलाड़ी पिछड़ते गए। अब फिर से खेल का ऐसा ढांचा अम्बाला में खड़ा किया गया है जोकि प्रदेश के किसी भी अन्य जिले में नहीं है।

6 साल की ही बात करें तो यहां लगभग 168 करोड़ रुपए की लागत से अंतरराष्ट्रीय स्तर के मानकों के अनुरूप अलग-अलग खेलों का ढांचा तैयार किया जा रहा है। गृह मंत्री अनिल विज की देखरेख में यह सभी खेल योजनाएं पास हुई।

फुटबाॅल कभी अम्बाला की पहचान थी, मगर समय के साथ इस खेल में खिलाड़ियों की चमक कम हुई। मगर अब इसी फुटबाॅल को फिर से जीवंत करने के लिए अम्बाला कैंट के वार हीराेज मेमाेरियल स्टेडियम में प्रदेश का पहला आधुनिक फीफा अप्रूव्ड फुटबाॅल स्टेडियम बनाया जा रहा है, जहां डे-नाइट मुकाबले होंगे।

फुटबाॅल के अलावा एथलेटिक्स, स्वीमिंग, जिम्नास्टिक और बैडमिंटन के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर की सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं, जोकि प्रदेश के अन्य किसी भी जिले में अब तक नहीं हैं। खेलों के साथ-साथ खिलाड़ियों के रहने का भी प्रबंध किया गया है और आधुनिक बाॅयज स्पोर्ट्स हाॅस्टल भी बनकर तैयार है।

पोलीग्रास युक्त फुटबाॅल ग्राउंड केवल अम्बाला में : 117 करोड़

वार हीरोज मेमोरियल स्टेडियम में 117 करोड़ रुपए की लागत से निर्माणाधीन आधुनिक फुटबाॅल स्टेडियम पोलीग्रास युक्त होगा। ऐसा स्टेडियम में प्रदेश में किसी अन्य जिले में नहीं है। फतेहाबाद में फुटबाॅल का केवल सिंथेटिक ग्राउंड है, जबकि अम्बाला में 3 हजार दर्शकों की क्षमता वाला फुटबाॅल स्टेडियम होगा, जहां डे-नाइट मुकाबले होंगे। इस स्टेडियम में अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों के अलावा हीरो इंडिया फुटबाॅल लीग के मुकाबले भी होंगे।

आगे क्या योजना: स्टेडियम का निर्माण 2 माह में पूरा होना तय है। खेल विभाग की योजना यहां फुटबाॅल नर्सरी स्थापित करने की है। नर्सरी में 25 खिलाड़ियों का चयन विभाग करके उन्हें विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा।

फुटबाॅल ग्राउंड के साथ 400 मीटर एथलेटिक्स का पहला सिंथेटिक ट्रैक

स्टेडियम में फुटबाॅल ग्राउंड की आउटर बाउंड्री के चारों ओर 400 मीटर एथलेटिक्स का ट्रैक बनेगा। यह ट्रैक सिंथेटिक का होगा। प्रदेश में फुटबाॅल ग्राउंड के साथ यह अपनी तरह का पहला एथलेटिक्स ट्रैक होगा जहां राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर के मुकाबले कराए जा सकेंगे।

आगे क्या योजना: खेल विभाग द्वारा एथलेटिक्स की नर्सरी भी अम्बाला में खोली जाएगी जहां खिलाड़ियों को प्रशिक्षित किया जाएगा।

साउंड प्रूफ जिम्नास्टिक हॉल का नया रूप, सवा करोड़ के आधुनिक उपकरण : लागत 8.18 करोड़

फुटबाॅल के बाद जिम्नास्टिक ने अम्बाला को पहचान दिलवाई। अब स्टेडियम के जिम्नास्टिक हॉल को नया रूप दिया गया है। यह प्रदेश का नंबर वन जिम्नास्टिक हॉल बन गया है, जहां अंतरराष्ट्रीय मुकाबले कभी भी कराए जा सकते हैं। पिछले दिनों स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया दिल्ली से आई टीम ने हॉल की तारीफ की थी।

सितंबर 2019 में यह हॉल बनकर तैयार हुआ था, जिस पर 7 करोड़ की लागत आई है। पूरा हाॅल साउंड प्रूफ है जबकि यहां लाइट्स, दर्शकों के लिए कुर्सियां, बड़ी एलईडी स्क्रीन है। हॉलैंड से पिछले साल ही 1.18 करोड़ रुपए की लागत से अंतरराष्ट्रीय स्तर के जिम्नास्टिक उपकरण उपलब्ध कराए गए हैं, जोकि प्रदेश में किसी अन्य जिम्नास्टिक सेंटर में नहीं हैं।

आगे यह योजना: जिम्नास्टिक की भी नर्सरी खेल विभाग द्वारा शुरू कराई जाएगी। बाॅयज व गर्ल्स के लिए यहां 2 नर्सरियां होंगी।

प्रदेश का पहला ऑल वेदर इंडौर स्वीमिंग पूल : लागत 30 करोड़

स्टेडियम में 30 करोड़ की लागत से प्रदेश का पहला ऑल वेदर इंडोर 50 मीटर स्वीमिंग पूल तैयार किया गया है। इसके अलावा 25 मीटर वार्मअप पूल भी तैयार किया गया है। फरीदाबाद व राई स्पोर्ट्स स्कूल में 50 मीटर का स्वीमिंग पूल तो है, मगर वह ऑल वेदर व इंडोर नहीं है।

अम्बाला के दोनों पूल को भरने के लिए 30 लाख लीटर पानी लगेगा, मगर एक बार इसे भरने के बाद इसी पानी को फिल्टर कर दोबारा इस्तेमाल किया जा सकेगा। सर्दियों में पानी गर्म रखने के लिए दोनों पूल में 9 हीट पंप लगाए गए हैं। पूल में करीब 300 दर्शकों के बैठने की क्षमता होगी। ऐसा पूल प्रदेश में अब तक नहीं है।

आगे क्या योजना: खेल विभाग पूल में नियमित कोचिंग के अलावा 25 खिलाड़ियों का चयन नर्सरी के लिए करेगा। खिलाड़ियों को प्रशिक्षण के अलावा रहने की सुविधा व डाइट प्रदान की जाएगी।

बैडमिंटन हॉल में एक साथ 4 कोर्ट: लागत 4.50 करोड़

सुभाष पार्क के निकट बना स्व. शहीद मुकेश आनंद मेमोरियल स्पोर्ट्स काॅम्प्लेक्स में प्रदेश का पहला ऐसा बैडमिंटन हॉल तैयार किया गया है जहां एक साथ बैडमिंटन के 4 कोर्ट बनाए गए हैं। पंचकूला, गुरुग्राम और फरीदाबाद में बैडमिंटन कोर्ट है, मगर एक साथ 4 कोर्ट कहीं नहीं हैं। 4.50 करोड़ की लागत से अक्टूबर 2018 में मंत्री अनिल विज ने इस हॉल का उद्घाटन किया था। अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप हॉल साउंड प्रूफ है जिसमें 250 से ज्यादा दर्शकों के बैठने की व्यवस्था है।

मल्टीपर्पस बाॅयज स्पोर्ट्स हाॅस्टल : लागत 8.41 करोड़

स्टेडियम के सामने ही 7.63 करोड़ की लागत से मल्टीपर्पस बाॅयज स्पोर्ट्स हाॅस्टल तैयार किया गया है। हालांकि हिसार, भिवानी, गुरुग्राम व कुरुक्षेत्र में भी स्पोर्ट्स हाॅस्टल हैं। मगर, अम्बाला में नया बना यह हाॅस्टल मल्टीपर्पस है, जहां कुश्ती, टेबल टेनिस व वुशू के मुकाबले हो सकते हैं। 250 खिलाड़ियों के यहां रहने की क्षमता है। 78 लाख की लागत से खेल विभाग द्वारा यहां फर्नीचर भी उपलब्ध कराया जाएगा।

नया बाक्सिंग हॉल वार्मअप पूल की दूसरी मंजिल पर

पहले बाॅक्सिंग हॉल स्टेडियम में पुराने बने मल्टीपर्पस हॉल में था, मगर इसे टूटने के कारण अब वार्मअप पूल के ऊपर दूसरी मंजिल पर नया बाॅक्सिंग हॉल होगा। यहां बाॅक्सिंग रिंग के अलावा अन्य सुविधाएं खिलाड़ियों को प्रदान की जाएंगी।

स्टेडियम में नए बने जिम्नास्टिक हॉल में अभ्यास करते खिलाड़ी।
स्टेडियम में नए बने जिम्नास्टिक हॉल में अभ्यास करते खिलाड़ी।
खबरें और भी हैं...