पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लाखों की धोखाधड़ी:अमेरिका की जेल से युवक को छुड़वाने के नाम पर 18.79 लाख रुपए की धोखाधड़ी, मां-बेटी पर केस

अम्बाला12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

अमेरिका की जेल में बंद युवक को छुड़वाने के नाम पर मां-बेटी ने 18.79 लाख रुपए हड़प लिए। इस मामले में बलदेव नगर पुलिस ने शेखपुरा के माया राम की शिकायत पर चंडीगढ़ के सेक्टर-40 निवासी इंदु राणा व उसकी बेटी शिखा राणा के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है। माया राम ने शिकायत दी थी कि उसका भाई गुरमेल राम साल 2018 में अमेरिका गया था। जिसे एजेंट ने गलत तरीके से भिजवाया था। जिसके कागजात पूरे न होने पर अमेरिका पुलिस ने उसे जेल में डाल दिया था।

अमेरिका में कोई जानकारी न होने से वे लोग घबरा गए थे। इस दौरान चंडीगढ़ में ड्राइवरी करने वाले अम्बाला निवासी उनके रिश्तेदार सुभाष ने चंडीगढ़ के सेक्टर-40 निवासी इंदु राणा को यह बात बताई। जिसकी बेटी शिखा अमेरिका में थी। इंदु ने उसे भरोसा दिया कि उनके अमेरिका में अच्छे तालुकात हैं। वे गुरमेल राम को न केवल छुड़वा सकते हैं बल्कि वहां पक्का करवा सकते हैं। इंदु ने सुभाष की बात फोन से शिखा से भी कराई। जिसने उसे गुरमेल राम को छुड़ाने का भरोसा दिया। सुभाष मां-बेटी की बातों में आ गया।

सुभाष ने ये बात माया राम व गुरमेल राम की पत्नी मीना रानी को बताई। सुभाष ने उनकी बात इंदु से कराई। जिसने उन्हें भी गुरमेल राम को जेल से निकलवाने व अमेरिका में पक्का कराने का भरोसा दिया। जनवरी 2019 में इंदु उनके गांव शेखपुरा भी आई। गुरमेल को छुड़वाने व पक्का कराने की एवज में इंदु ने 21 लाख रुपए मांगे। इस दौरान शिखा से वाट्सएप पर बात कराई। शिखा ने उन्हें कहा कि अगर वे जल्द गुरमेल को नहीं निकलवाएंगे तो अमेरिका पुलिस उसे जान से मार देगी। इनकी बातों में आकर उन्होंने पैसे का बंदोबस्त करना शुरू कर दिया।

11 लाख रुपए उधार लिए, 6 लाख बैंक लिमिट से, बाकी गहने व भेड़-बकरी बेचकर जुटाए

माया राम के मुताबिक उसने अपने भाई को छुड़ाने के लिए 6 लाख रुपए बैंक लिमिट से निकलवाए। 5 लाख रुपए गांव के गुरदीप सिंह व 6 लाख सरपंच तरसेम सिंह से उधार लिए। शेष 4 लाख रुपए अपनी भेड़-बकरियां व गहने बेचकर जुटाए। 18 फरवरी 2019 को इंदु का फोन आया कि वह जरूरी काम के चलते गांव नहीं आ सकती और उसे अम्बाला सिटी के कालका चौक पर आकर पैसे दे जाएं। वह गुरमेल की पत्नी मीना रानी, सरपंच तरसेम राम के साथ गया व इंदु को पैसे देकर आए। इंदु ने फिर उन्हें विश्वास दिलाया कि वह एक महीने में गुरमेल को जेल से निकलवा देगी और पक्का करवा देगी।

पहले लटकाया और फिर 2.21 लौटाए, गुरमेल राम को डिपोर्ट कर दिया: माया राम के मुताबिक आरोपी इंदु बहाना बनाकर मामले को लटकाती रही। जिसने उसके भाई को जेल से बाहर नहीं निकलवाया। बाद में उनका फोन रिसीव करना भी बंद कर दिया। जून-जुलाई 2019 में अमेरिका से उसके भाई गुरमेल को डिपोर्ट कर दिया गया। इसके बाद वे आरोपी के पास पैसे के लिए चक्कर काटते रहे। दिसंबर 2019 में इंदु ने उन्हें 21 लाख लौटाने की बात की। अमेरिका से शिखा ने सुभाष को मनी ट्रांसफर के जरिए एक हजार डालर भेजे और डेढ़ लाख नकद इंदु ने उसे दिए। आरोपियों से मिले 2 लाख 21 हजार रुपए सुभाष ने उन्हें वापस किए। लेकिन 18.79 लाख रुपए बार-बार मांगने पर भी नहीं लाैटाए।

खबरें और भी हैं...