पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दर्दनाक हादसा:ऑस्ट्रेलिया से आए गुरप्रीत की किसान आंदोलन से लौटते वक्त सड़क हादसे में मौत, 5 घायल

अम्बाला4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो।
  • गुरप्रीत चला रहा था ट्रैक्टर, ट्राॅली में थे 4 लाेग, ट्रक ने पीछे से मारी टक्कर

पंजाब में नवां शहर के गांव मुक्कीवाल लौट रहे 6 किसानों की ट्रैक्टर-ट्रॉली को पीछे से ट्रक ने टक्कर मार दी। हादसा अम्बाला-दिल्ली हाईवे पर मोहड़ा के नजदीक शिव शक्ति ढाबे के सामने हुआ। गांव मुक्कीवाल के युवा किसान 21 वर्षीय गुरप्रीत सिंह की मौत हो गई, जबकि गांव सुददा माजरा निवासी अमरीक सिंह उर्फ निर्मल सिंह को गंभीर चोटें आई हैं। ट्रॉली में सवार 4 लोगों को भी हल्की चोटें आई हैं। पड़ाव पुलिस ने गुरप्रीत सिंह के चाचा रणजीत सिंह की शिकायत पर अज्ञात ट्रक चालक पर आईपीसी की धारा 279 और 337 के तहत केस दर्ज किया है।

रणजीत सिंह ने बताया कि 12 दिसंबर को नवां शहर जिले के गांव मुक्कीवाल, सुददा माजरा और मानेवाल से 10 किसान 2 ट्रैक्टराें पर सवार होकर 13 दिसंबर को दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन में गए थे। जहां वह 3 दिन रहे। खेतों में गेहूं की फसल को पानी, खाद और स्प्रे करना था, इसलिए 10 में से 6 किसान बुधवार दाेपहर 12 बजे एक ट्रैक्टर-ट्रॉली लेकर दिल्ली से चले थे।

गुरप्रीत ट्रैक्टर चला रहा था। अमरीक सिंह साथ बैठा था। शाम 7 बजे उनकी ट्रैक्टर-ट्रॉली मोहड़ा के नजदीक शिव शक्ति ढाबा के सामने पहुंची तो पीछे से एक ट्रक ने टक्कर मार दी। ट्रॉली में सवार रणजीत सिंह ने बताया कि ट्रक चालक ने 3 बार ट्रॉली को टक्कर मारी थी। अंतिम टक्कर ट्रक चालक ने भागते वक्त ट्रॉली को मारी। टक्कर लगने से ट्रैक्टर रोड के बीच में ही पलट गया। हादसे में चालक गुरप्रीत सिंह, रणजीत सिंह, गांव मानेवाल निवासी मुख्तयार सिंह, बलबीर सिंह, बलबीर सिंह और अमरीक सिंह घायल हो गए। सभी को आदेश मेडिकल कॉलेज में ले जाया गया, जहां उपचार के दौरान गुरप्रीत ने दम तोड़ दिया। गुरप्रीत के सिर और पेट में ज्यादा चोट आई थी।

गुरप्रीत भाई- बहनों के साथ 3 साल ऑस्ट्रेलिया रहा, एक साल पहले पिता के साथ खेती करने आया था भारत
चाचा रणजीत सिंह ने बताया कि उनके भाई जगतार सिंह के पास 2 बेटे और 2 बेटियां हैं। जगतार का बड़ा बेटा गुरमुख सिंह और दोनों बेटियां शादी के बाद आॅस्ट्रेलिया में रहती हैं। गुरप्रीत सबसे छोटा है और 12वीं पास करने के बाद 4 साल पहले आस्ट्रेलिया चला गया था। जहां पर 3 साल रहने के बाद एक साल पहले लौट आया था, क्योंकि उनके भाई जगतार सिंह अकेले 8 एकड़ में खुद ही खेती कर रहे थे। इसलिए गुरप्रीत अपने पिता के साथ खेती में हाथ बंटवाने के लिए अाया था। गुरप्रीत की छोटी बहन गुरविंद्र भी कुछ समय पहले इंडिया आ गई थी। किसान आंदोलन चल रहा है। इसलिए तीनों गांव के किसान एकजुट होकर दिल्ली में आंदोलन में शामिल हाेने पहुंचे थे। लेकिन पीछे से गेहूं की फसल को पानी, खाद और स्प्रे करना था, इसलिए लौट रहे थे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

    और पढ़ें