पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सांसों का संकट:हीलिंग टच अस्पताल में ऑक्सीजन घटी तो प्रबंधन ने डीसी से लेकर मंत्री तक साधा संपर्क, एक टन मिली

अम्बाला सिटी11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अम्बाला सिटी | सिविल अस्पताल में बाहर रखे अाॅक्सीजन के सिलेंडर। - Dainik Bhaskar
अम्बाला सिटी | सिविल अस्पताल में बाहर रखे अाॅक्सीजन के सिलेंडर।
  • अस्पताल प्रबंधन बोला- रोजाना डेढ़ टन की जरूरत और मिल रही एक टन
  • कोरोना के अलावा वेंटिलेटर पर चल रहे दूसरों मरीजों पर भी खर्च हो रही ऑक्सीजन
  • कोविड बेड बढ़ाने में ऑक्सीजन का टोटा बना अड़चन, गंभीर मरीजों के लिए बन रही मुश्किल

स्वास्थ्य विभाग की तरफ से 50 बेड कोविड यूनिट की परमिशन पाने वाले पार्क हीलिंग टच के कसंट्रेटर प्लांट से ऑक्सीजन कम हुई तो प्रबंधन के हाथ पांव फूलने लगे। ऑक्सीजन के लिए डीसी, कमिश्नर, एसीएस से लेकर स्वास्थ्य मंत्री तक संपर्क साधा। इतने प्रयासों से रात में एक बार आधा टन व सुबह एक बार 300 किलो ऑक्सीजन मिली। इसके बाद मंगलवार दोपहर में जाकर एक टन ऑक्सीजन अस्पताल को मिल पाई। अस्पताल के मुताबिक जो ऑक्सीजन मिली है वह भी अगले दिन दोपहर तक ही चलेगी।

अस्पताल के जीएम जगमोहन ओबराय ने बताया कि उन्हें रोजाना डेढ़ टन ऑक्सीजन की जरूरत है और ऑक्सीजन एक टन मिल रही है। उन्हें स्वास्थ्य विभाग कोविड यूनिट के हिसाब से ऑक्सीजन दे रहा है लेकिन उनके पास कोरोना मरीजों के अलावा किडनी आदि बीमारियों से जूझ रहे मरीज भी वेंटिलेटर पर हैं। एक वेंटिलेटर पर प्रति मिनट 15 से 20 किलो ऑक्सीजन कंज्यूम हो रही है। अब उन्हें कहां लेकर जाएं।

सोमवार को उनके पास 15 कोरोना मरीज व 15 अन्य मरीज वेंटिलेटर पर थे। कुल 45 काेरोना मरीज अस्पताल में भर्ती हैं। उनके पास अस्पताल में कोविड बेड बढ़ाने की क्षमता है लेकिन ऑक्सीजन नहीं होने से नहीं कर पा रहे हैं। दूसरी तरफ यही हाल सरकारी अस्पतालों में भी है। स्वास्थ्य विभाग के पास बेड बढ़ाने की क्षमता है लेकिन ऑक्सीजन नहीं होने से कोविड यूनिट शुरू नहीं कर पा रहे हैं। सिटी के सद्दोपुर व कैंट के कैंसर अस्पताल में कोविड यूनिट बनाने का काम लटक गया है।

सिविल अस्पताल में ऑक्सीजन के कसंट्रेटर प्लांट की इंस्टालेशन शुरू होने राहत की उम्मीद

राहत की खबर यह है कि मंगलवार को सिटी सिविल अस्पताल में लगाए जा रहे कसंट्रेटर प्लांट के इंस्टालेशन का काम शुरू हो गया है। हालांकि, यहां एक अड़चन सामने आई जब प्लांट से लेकर आइसोलेशन वार्ड तक बिछाई गई पाइप लाइन क्षमता के मुताबिक नहीं मिली। इस कसंट्रेटर प्लांट की क्षमता 6 हजार किलोलीटर की है। जिससे अस्पताल के 100 बेड को सप्लाई दी जाएगी। अभी तक सिलेंडर को जोड मैनीफोल्ड प्लांट बनाया हुआ था। जिसका सीएम ने 29 अप्रैल को उद्घाटन किया था, लेकिन वह भी चल नहीं पाया था।

सरकारी अस्पताल में नहीं ऑक्सीजन बेड, मरीजों को कर रहे एडजस्ट

नए मरीजों की संख्या रोजाना बढ़ रही है। इनमें से गंभीर मरीजों के लिए संकट ये है कि सरकारी अस्पतालों में ऑक्सीजन युक्त बेड खत्म हो चुके हैं। जिससे मरीजों को भटकना पड़ रहा है। ज्यादातर लोग ऐसे हैं जो प्राइवेट अस्पताल को वहन नहीं कर पाते हैं। वहीं, ऑक्सीजन को लेकर नोडल अधिकारी डॉ. सुखप्रीत ने बताया कि अभी मरीजों को एडजस्ट कर रहे हैं। जब तक ऑक्सीजन पर्याप्त नहीं होगी तब तक बेड क्षमता नहीं बढ़ा पा रहे हैं।

हालांकि, उनके पास इंफ्रास्ट्रक्चर है और इसमें सामाजिक संस्थाएं व आर्मी भी काम करने को तैयार हैं। मंगलवार को भी एक संस्था की तरफ से बेड व गद्दे भेंट किए गए। डॉ. सुखप्रीत ने बताया कि अगर किसी को ऑक्सीजन व बेड की जरूरत है तो वे सीधे अस्पताल से ही संपर्क करें।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें