70 दिन बाद चली ट्रेन / ट्रेन से कोई अस्थियां लेकर हरिद्वार गया तो कोई दो माह बाद लौट रहा घर

स्टेशन पर ट्रेन में सवार होते यात्री स्टेशन पर ट्रेन में सवार होते यात्री
X
स्टेशन पर ट्रेन में सवार होते यात्रीस्टेशन पर ट्रेन में सवार होते यात्री

  • मेट्रो व एयरपोर्ट की तर्ज पर केवल यात्रियों को स्टेशन पर आने की अनुमति, पहले दिन चली 4 ट्रेनें

दैनिक भास्कर

Jun 02, 2020, 06:30 AM IST

अम्बाला. रेलवे ने 70 दिनों बाद यात्रियों के लिए ट्रेनों का संचालन सोमवार से शुरू कर दिया है। कई ट्रेनों का रेक उपलब्ध नहीं होने की वजह से पहले दिन 4 ट्रेनें ही अम्बाला कैंट रुट पर चल पाईं।
ट्रेन में पहला सफर मुसीबतों में फंसे वह यात्री कर रहे थे जोकि लॉक डाउन घोषित होने के बाद कहीं न कहीं फंस गए थे। कोई अपने रिश्तेदारों की अस्थियां प्रवाह करने के लिए ट्रेन में सफर कर रहा था तो कोई ड्यूटी पर लौट रहा था। हर यात्री के पास अपनी ही एक कहानी थी। स्टेशन पर बेहद सुरक्षात्मक तरीके से रेलवे ने यात्रियों की एंट्री करवाई। एयरपोर्ट एवं मेट्रो की तर्ज पर केवल उन्हीं यात्रियों को स्टेशन पर दाखिल होने दिया गया जिनके पास यात्रा का टिकट था। कैंट रेलवे स्टेशन पर सोमवार को महज 4 ट्रेनों का ठहराव था जिनमें ट्रेन नंबर 02054-53 जनशताब्दी एक्सप्रेस, 04650 सरयू-यमुना एक्सप्रेस और 02057 जनशताब्दी एक्सप्रेस शामिल थी। ट्रेन में सवार होने वाले एवं उतरने वाले यात्रियों ने लॉक डाउन के कारण कहीं न कहीं फंसे होने की कहानी बयां की।

हरिद्वार में प्राइवेट जॉब करता हूं, लॉकडाउन से पहले किसी काम से अम्बाला आया था

^ अम्बाला में बीएसएनएल कार्यालय में जॉब करने वाले मनोज कुमार अमृतसर के रहने वाले हैं। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन से पहले वह अमृतसर गए थे। तभी लॉकडाउन घोषित हो गया। दो माह से वह वापस नहीं लौट पा रहे थे। अब अमृतसर से अम्बाला के लिए पहली ट्रेन चली तो वह वापस अम्बाला पहुंच सके हैं।

^ अम्बाला के रहने वाले सुरेंद्र ने बताया कि वह हरिद्वार में प्राइवेट जॉब करते हैं। लॉकडाउन घोषित होने से कुछ पहले वह अम्बाला काम से आए थे। उन्हें वापस जॉब पर जाना था, मगर तभी लॉकडाउन की घोषणा हो गई। वह यहीं पर ही फंस गए, अब लॉक डाउन खुला तो ट्रेन में वह वापस हरिद्वार लौट रहे हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना