फैमिली कार्ड में इनकम कम करवाने 125 ने किया आवेदन:सरकारी सुविधाओं का लाभ बंद हुआ तो पीपीपी में इनकम घटाने के लिए दौड़-भाग

अम्बाला सिटीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
परिवार पहचान पत्र (पीपीपी) में इनकम की गलत जानकारी देने वालों की परेशानी कम नहीं हो रही है। - Dainik Bhaskar
परिवार पहचान पत्र (पीपीपी) में इनकम की गलत जानकारी देने वालों की परेशानी कम नहीं हो रही है।

परिवार पहचान पत्र (पीपीपी) में इनकम की गलत जानकारी देने वालों की परेशानी कम नहीं हो रही है। पहले तो काफी लोगों ने इसे हलके में लिया और मनचाही इनकम लिखवा दी। अब सरकार द्वारा पीपीपी को सरकारी योजनाओं से जोड़ने पर काफी लोग इनकम कम करवाने के लिए धक्के खा रहे हैं। लाेगाें काे कई सरकारी याेजनाओं से हाथ धाेना पड़ रहा है। बहुत से लोगों व बुजर्गों की पेंशन कटने लगी है।

काफी लोगों को इसके नोटिस मिल चुके हैं। ये लोग इनकम को ठीक करवाने के लिए एडीसी ऑफिस, समाज कल्याण विभाग व सीएचसी सेंटराें के चक्कर काट रहे हैं। लेकिन पाेर्टल में इनकम काे ठीक करने का ऑप्शन ही माैजूद नहीं है। अक्टूबर 2021 से अभी तक 125 लाेगाें ने परिवार पहचान पत्र में इनकम कम करने के लिए आवेदन किया है।

इन लाेगाें की सीएससी सेंटर से इनकम कम नहीं हाे रही। ऐसे लाेगाें के केस एडीसी ऑफिस से एनआईसी ऑफिस भेजे जा रहे हैं। वहां से केस चंडीगढ़ भेजे जा रहे हैं। अभी इन केस में हाेगा क्या यह स्पष्ट नहीं है। डीआईओ विनय गुलाटी ने बताया कि अक्टूबर से अभी तक 125 केस इनकम कम करवाने के लिए पहुंचे हैं। यह केस चंडीगढ़ भेजे गए हैं। 4 से 5 केस राेजाना इनकम कम करवाने के लिए आ रहे हैं।

किसी ने कहा- नाैकरी चली गई ताे काेई बाेल रहा गलती से लिखी गई ज्यादा इनकम

आय कम करवाने के लिए ऐसे-ऐसे बहाने आ रहे.. पत्नी को मेरी तनख्वाह नहीं पता था, मेरे पिता जी अलग रहते हैं

केस- 1 : पत्नी को मेरी तनख्वाह नहीं पता थी, उसने गलत आय लिखवा दी। तनख्वाह कम है लेकिन पत्नी को लगता था मैं ज्यादा पैसा कमाता हूं।

केस- ​​​2 : जब परिवार पहचान पत्र बना था, तब सरकारी सेवा से रिटायर पिता जी साथ रहते थे, अब अलग हैं। मैं तो प्राइवेट नौकर हूं और तनख्वाह थोड़ी है।

केस- 3 : सीएससी पर पड़ोसी साथ था, उसे दिखाने के चक्कर में अपने परिवार की ज्यादा आय दिखा दी थी, असल में तो आधी से भी कम है।

केस- 4 : हमें नहीं पता था कि इससे सरकारी योजना का फायदा मिलना बंद हो जाएगा। बुढ़ापा पेंशन रिकवरी का नोटिस आ गया है।

लाेगों के सवाल और उनके जवाब

Q. परिवार पहचान में कितनी बार जानकारी एडिट कर सकते हैं?
काेई भी परिवार पहचान पत्र में दाे बार जानकारी काे सीएससी सेंटर में जाकर या खुद एडिट कर सकता है। तीसरी बार जानकारी एडिट नहीं हाेगी।

Q. इनकम बढ़ानी है ताे क्या करें‌?
इनकम बढ़वाने के लिए सीएससी सेंटर जाएं। वहां जाकर इनकम से जुड़ा प्रूफ अटैच करना हाेगा जैसे सैलरी स्लिप या तहसील से बना इनकम सर्टिफिकेट।

Q. इनकम कम करवानी है ताे?
यह सीएससी से नहीं होगा। तहसील से इनकम सर्टिफिकेट बनवाना हाेगा। इनकम सर्टिफिकेट के साथ आधार कार्ड, परिवार पहचान पत्र की काॅपी अटैच हाेगी। यह फाइल एडीसी ऑफिस में जाएगी। यहां से एनआईसी ऑफिस में। एनआईसी से केस चंडीगढ़ भेजे जा रहे हैं।

Q. गलती से इनकम ज्यादा लिखी गई या नाैकरी चली गई ताे क्या करें?
इसके लिए भी तहसील से इनकम सर्टिफिकेट बनवाना हाेगा। यह केस भी चंडीगढ़ जाएंगे। इनकम कम हाेगी या नहीं अभी यह स्पष्ट नहीं है।

Q. जाति गलत है ताे क्या करें।
​​​​​​​सीएससी सेंटर से जाति प्रमाण पत्र लगाकर करेक्शन के लिए ऑनलाइन अप्लाई करना हाेगा। यहां से ऑटाेमेटिक अप्रूवल के लिए केस पटवारी के पास जाएगा। वह रिकाॅर्ड चेक कर ठीक करेंगे।

14 पैरामीटर : अगर दाे बार जानकारी एडिट की ताे तीसरी बार नहीं हाेगी
परिवार पहचान पत्र में इनकम के अलावा 14 पैरामीटर ऐसे भी हैं, जिनमें गलत जानकारी भरने से लाेगाें की परेशानी बढ़ी है। इनमें परिवार के सदस्य का नाम, लास्ट नेम, माता-पिता का नाम, फर्स्ट नेम, मार्का, अलाइव स्टेटस, मैरिज स्टेटस, दिव्यांग, क्वालीफिकेशन, अकाउंट नंबर, माेबाइल नंबर, डेट ऑफ बर्थ, आधार नंबर व कई अन्य जानकारियां भी शामिल हैं। सीएससी सेंटर में जाकर या खुद ही परिवार पहचान पत्र की साइट पर करेक्शन माॅड्यूल ऑप्शन में जाकर दाे बार डिटेल ठीक कर सकते हैं। माेबाइल पर ओटीपी मिलेगा। जिसके भरने के बाद डाटा अपडेट हाेगी। अगर दाे बार डाटा अपडेट कर चुके हैं ताे तीसरी बार नहीं कर पाएंगे। तीसरी बार के लिए एडीसी ऑफिस से अप्रूवल लेनी हाेगी। करेक्शन माॅड्यूल में इनकम ठीक नहीं हाेगी।

खबरें और भी हैं...