• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • Leaving The Work Of Tour travels, The Father Prepared The House For The Marriage Of The Son In November, The Broken Dreams After Seeing The Dead Body In The Hospital

नशे की ओवरडाेज से हत्या का मामला:टूर-ट्रैवल्स का काम छोड़ नवंबर में बेटे की शादी के लिए पिता ने घर तैयार किया, अस्पताल में लाश देख टूटे सपने

अम्बालाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गृहमंत्री के सामने हाथ जोड़कर कार्रवाई की मांग करते साहिल के परिजन। - Dainik Bhaskar
गृहमंत्री के सामने हाथ जोड़कर कार्रवाई की मांग करते साहिल के परिजन।
  • निष्पक्ष जांच के लिए परिजन व ग्रामीण गृहमंत्री से मिले
  • रात को साहिल की सेहत बिगड़ने पर सूरज को कार लेकर बुलाया था

टूर-ट्रैवल्स का काम करने वालेे अशोक राणा के घर की जिम्मेदारी 24 वर्षीय बेटे साहिल ने उठा ली थी। इसलिए अशोक ने अपनी ट्रैवल्स में लगी गाड़ियां बेच दी थी और साहिल का रिश्ता यमुनानगर में पोस्ट ऑफिस में लगी युवती से करके 2 नवंबर की शादी तय की थी। एक तरफ दुबई से साहिल के घर आने का इंतजार था और दूसरी तरफ अशोक घर तैयार करने में जुटे थे। लेकिन साहिल की शादी की इन खुशियाें पर 7 सितंबर काे ही ग्रहण लग गया। जब परिजन साहिल के बीमार होने की सूचना पाकर रोटरी अस्पताल पहुंचे तो स्ट्रेचर पर मृत हालत में पड़े साहिल के मुंह से झाग निकल रही थी।

महेश नगर पुलिस अशोक राणा की शिकायत पर मोंटी राणा, आशीष उर्फ गुल्लू व सूरज राणा के खिलाफ साजिशन हत्या का मामला दर्ज कर सूरज को गिरफ्तार कर चुकी है। 3 दिन के रिमांड के पहले दिन पुलिस सूरज से निशानदेही कराने में जुटी रही। उधर, बब्याल में नशे के बढ़ते कारोबार के चलते अशोक राणा समेत गांव के अन्य लोग गृहमंत्री अनिल विज के आवास पर पहुंचे। परिजनों ने गृहमंत्री से कहा कि इस मामले की निष्पक्ष जांच कराई जाए।

परिजनों ने कहा कि साहिल को जिन युवकों ने नशे की ओवरडोज या जहरीला पदार्थ दिया है वो आपराधिक किस्म के हैं। मोंटी राणा पर केस दर्ज है और सूरज, आशीष उर्फ गुल्लू के बारे में पूरा गांव जानता है। गृहमंत्री ने कहा कि एसआईटी गठित कराकर मामले की निष्पक्ष जांच कराई जाएगी। हालांकि, साहिल की पोस्टमार्टम रिपोर्ट अभी नहीं आई है। इसलिए अभी यह स्पष्ट नहीं है कि मृतक की मौत किस वजह से हुई है। लेकिन परिजन आरोप लगा रहे हैं कि साहिल की मुंह से झाग निकल रही थी इसलिए मौत की वजह जहरीला पदार्थ खाने से लग रही है।

2 आरोपी अभी फरार: आरोपी मोंटी व आशीष फरार हैं। मोंटी के भाई हैप्पी को पुलिस पूछताछ के लिए महेश नगर थाने लाई थी। पुलिस का कहना है कि गांव के मौजीज व्यक्तियों ने कहा कि वह अपने स्तर पर मोंटी को पुलिस के सामने पेश कर देंगे। मोंटी के भाई हैप्पी का मामले में लेना-देना नहीं है। इसलिए पुलिस ने हैप्पी को पूछताछ के बाद छोड़ दिया। इस पर पीड़ित पक्ष आपत्ति जता रहा है। पीड़ित परिवार का कहना है कि मोंटी आपराधिक किस्म का है और दूसरे युवक नशे की गतिविधियों में संलिप्त हैं।

पुलिस की अभी तक की जांच रिपोर्ट- ग्रैंड होटल में बिगड़ी थी साहिल की तबीयत

महेश नगर पुलिस ने बताया कि 6 सितंबर को दिल्ली से वोल्वो बस में बैठकर मर्चेंट नेवी में कार्यरत बब्याल निवासी साहिल राणा कैंट पहुंचा था। जहां से मोंटी आशीष के साथ साहिल को लेकर ग्रैंड होटल में गए थे। जहां रूम नंबर 107 लिया। सीसीटीवी में रूम के लिए पेमेंट व कमरा भी साहिल ही सिलेक्ट करते नजर आ रहा है। रात को साहिल की तबियत बिगड़ने पर मोंटी सूरज को बुलाने के लिए बाहर जाता दिख रहा है। पुलिस को बताया गया कि रात को सूरज को कार लेकर बुलाया गया था ताकि वह उसे निजी अस्पताल ले जा सके।

पुलिस ने बताया कि जांच में यह भी सामने आया कि जब 36 हजार रुपए का बिल बना तो इलाज महंगा देखकर 7 सितंबर को दिन में मोंटी रोटरी अस्पताल में गया था। जहां बातचीत करने के बाद शाम को निजी अस्पताल से डिस्चार्ज करा लिया। जहां से एंबुलेंस में लेकर बेसुध साहिल को रोटरी अस्पताल में पहुंचे थे। रोटरी के डाॅक्टर ने पुलिस को बताया कि जब युवक उनके पास आया तो उसका ऑक्सीजन लेवल 30 से 35 के बीच में था और हार्ट बीट बहुत कम थी। मुश्किल से 10 मिनट तक साहिल अस्पताल में जिंदा रह पाया। जब युवकों को एंट्री कराने के लिए कहा तो सभी भाग गए थे। संजीव का आरोप और शक जताया है कि एंबुलेंस में भी साहिल के साथ कुछ गलत किया गया है।

परिजन बोले- प्राइवेट अस्पताल की लापरवाही है
परिजन संजीव राणा ने बताया कि रोटरी अस्पताल में डाॅक्टरों से जानकारी हासिल करने के बाद आराेपी प्राइवेट अस्पताल पहुंचे थे। जहां आरोपी तीनों युवकाें ने साहिल काे रात 9:23 बजे दाखिल कराया था। जब अस्पताल की सुपरिंटेंडेंट्स से बात की तो तीनों युवकों ने उन्हें कहा था कि उनसे बहुत बड़ी गलती हो गई है। आप पैसे की चिंता मत करो, वह इलाज का पूरा खर्च उठाने के लिए तैयार हैं। इसके बाद डाॅक्टरों ने साहिल का इलाज शुरू कर दिया था और रात को ही बाहर से इंजेक्शन मंगवाकर देने शुरू कर दिए थे।

संजीव ने कहा कि इसमें अस्पताल प्रशासन की लापरवाही है, क्याेंकि एक बार भी साहिल के परिजनों को सूचित नहीं किया। सिर्फ बलदेव नगर पुलिस को रुक्का भेजकर लीपापोती कर दी गई। अगले दिन पुलिस रोटरी अस्पताल में युवक की मौत के बाद पहुंची। संजीव का आरोप है कि अस्पताल में इलाज का 36 हजार रुपए का बिल भी साहिल के पर्स से पैसे निकालकर चुकाया गया था। अस्पताल से युवकों को यह भी कहा गया कि साहिल रिकवर हो जाएगा। इंजेक्शन के बाद साहिल ने हाथ-पांव हिलाने शुरू कर दिए हैं, लेकिन युवक फिर भी नहीं माने।

आरोपी सूरज को हमने गिरफ्तार कर 3 दिन के रिमांड पर लिया हुआ है। पूछताछ जारी है। आरोपियों के खिलाफ सबूत जुटाने के लिए सीसीटीवी फुटेज चेक की है। ग्रैंड होटल में 2 युवक ही नजर आ रहे हैं और अस्पताल में 3 युवक साहिल को भर्ती कराने जाते दिखे हैं। हैप्पी के परिजनों ने कहा कि जल्द ही आरोपी मोंटी को वह पेश कर देंगे, बाकी पुलिस सच्चाई जानने के लिए जांच कर रही है।-सुरेश कुमार, एसएचओ, महेश नगर

खबरें और भी हैं...