पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • Maneuver Of Disturbance... Canceled After 10 Minutes With Permit, Completed The Work, Then Added Jumpers With Tripping

ट्रांसफार्मर शिफ्ट करने का मामला:गड़बड़ी का पैंतरा... परमिट लेकर 10 मिनट बाद कैंसिल कराया, काम पूरा किया फिर ट्रिपिंग लेकर जोड़ दिए जंपर

अम्बाला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अम्बाला | विकासपुरी में जांच करने आए कैंट एक्सईएन के सामने अपनी बात रखते जेई विशाल प्रभाकर। - Dainik Bhaskar
अम्बाला | विकासपुरी में जांच करने आए कैंट एक्सईएन के सामने अपनी बात रखते जेई विशाल प्रभाकर।
  • लाेगाें को बिना फॉल्ट सुबह 10:20 से दोपहर 1:10 बजे तक झेलना पड़ा पावर कट

विकासपुरी में बिना डिपॉजिट एस्टीमेट के ट्रांसफार्मर शिफ्ट करने का खेल किस तरह से खेला गया है, इससे भी जांच के दौरान पर्दा उठ गया है। सामने आया है कि 16 जुलाई को 10:20 बजे लाइनमैन ने परमिट लिया था, लेकिन 10 मिनट के बाद ही लाइनमैन अश्विनी खन्ना ने काम करने के लिए कोई कर्मी न होने की बात कहकर परमिट कैंसिल करा दिया था। इसलिए कबीर नगर फीडर के उपभोक्ताओं की पहले 10 मिनट बिजली बंद रही। लेकिन ट्रांसफार्मर बदलने के लिए 10 मिनट में ही जंपर काट दिए गए थे।

इसके बाद दूसरे एरिया में सप्लाई चल गई और विकासपुरी में बत्ती गुल रही। फैक्टरी मालिक सुनील के अलावा अन्य लोगों ने भी बिजली गुल होने की बात जांच के लिए पहुंचे कुरुक्षेत्र के कंस्ट्रक्शन विंग के एक्सईएन राजीव आनंद व कैंट एक्सईएन जेसी शर्मा के सामने बताई। इस जांच का एक वीडियो बुधवार को सोशल मीडिया पर वायरल भी हुआ। जिसमें बिजली गुल होने और ट्रांसफार्मर शिफ्टिंग के बारे में लोग बयान देते नजर आ रहे हैं।

लोगों में बिजली निगम के प्रति गुस्सा भी नजर आ रहा है। जेई विशाल प्रभाकर भी परमिट लेकर कैंसिल कराने की बात लाइनमैन पर डाल रहे हैं तो वहीं लाइनमैन अश्विनी खन्ना जेई पर आरोप लगा रहे हैं कि उन्हाेंने जेई के कहने पर परमिट लिया है। जेई-लाइनमैन की आपसी खींचतान जांच अधिकारी के सामने भी जगजाहिर हुई। इसलिए नाराज जांच अधिकारी कैंट एक्सईएन जेसी शर्मा वीडियो में जेई व लाइनमैन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की बात बोल रहे हैं।

सस्पेंड जेई प्रभाकर का आरोप- लाइनमैन अश्विनी को दबाव में आकर इंडस्ट्रियल एरिया में लगाया गया
लाइनमैन अश्विनी खन्ना सब-डिविजन बब्याल में तैनात थे। नई सब-डिविजन इंडस्ट्रियल एरिया के गठन के बाद स्टाफ को तैनात करने के आदेशों की एक कॉपी भी सामने आई है। यह आदेश 21 जून 2021 के हैं और कैंट के पूर्व एक्सईएन पवन नरुला की ओर से इन्हें जारी किया गया है। एक्सईएन के आदेशों के बाद लाइनमैन के नाम का कोई जिक्र नहीं था। बाद में पेन के साथ लाइनमैन मेहर दास का नाम काटकर लाइनमैन अश्विनी खन्ना का नाम जोड़ा गया था।

इस कटिंग के मामले में एक्सईएन नरुला ने कहा कि लाइनमैन अश्विनी की काफी शिकायतें थी और एसडीओ अतितोष के साथ बातचीत करने के बाद लाइनमैन अश्विनी को नई सब-डिवीजन में लगाया गया था। उधर, बिजली निगम से जुड़े एक उच्च अधिकारी का कहना है कि यदि एक्सईएन को कटिंग करनी थी तो उस कटिंग को अपने साइन करके सत्यापित करना चाहिए था। यह नियम भी है। इसके अलावा सस्पेंड जेई विशाल प्रभाकर ने आरोप लगाया कि लाइनमैन अश्विनी को दबाव में आकर इंडस्ट्रियल एरिया में लगाया गया है। इसी दबाव के चलते ही आदेशों में बाद में कटिंग की गई है।

खबरें और भी हैं...