• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • Out Of 12, Only 2 Vendors Of The Company Reached, The Mobiles Shown To The Number Holders Of ~ 9 Thousand, They Are Cheap 12 Up To One And A Half Thousand Online

सरकार नंबरदारों को दे रही मोबाईल का लालच:12 में से 2 कंपनी के ही वेंडर पहुंचे, नंबरदारों को ~9 हजार के जो माेबाइल दिखाए, वो ऑनलाइन ‌डेढ़ हजार तक सस्ते 12 में

अम्बालाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पंचायत भवन में नया माेबाइल चलाता नंबरदार। - Dainik Bhaskar
पंचायत भवन में नया माेबाइल चलाता नंबरदार।
  • पंचायत चुनाव से पहले नंबरदाराें काे खुश करने की कवायद, कुछ खुश हुए तो कुछ मायूस ही लौटे
  • ज्यादातर नंबरदाराें के साथ बेटे, पाैते, परिचित अाए थे, जो ऑनलाइन रेट भी चेक कर रहे थे

पंचायत चुनाव से पहले सरकार ने नंबरदाराें काे माेबाइल देकर खुश करने की काेशिश की गई, लेकिन कई नाराज हाे गए। साेमवार काे सिटी के पंचायत भवन में अम्बाला ब्लाॅक 1 के सभी नंबरदाराें काे माेबाइल दिए गए। 75 वर्ष से ऊपर नंबरदाराें काे भी माेबाइल मिले। 12 वेंडरों में से केवल 2 कंपनी के वेंडर ही पहुंचे थे। लावा कंपनी के वेंडर के पास 9 हजार के मोबाइल ही नहीं थे जबकि सैमसंग कंपनी के वेंडर दोपहर बाद पहुंचे, उनके पास मोबाइल नहीं थे, इसलिए रजिस्ट्रेशन ही किया।

तहसीलदार मनीष कुमार माइक से अवाज लगाकर एक-एक नंबरदार काे बुला रहे थे। नंबरदाराें काे माेबाइल पर आया मैसेज दिखाना था। तहसीलदार संबंधित एरिया के पटवारी काे बुलाते थे और नंबरदार काे पहचानने के लिए बाेलते थे। पटवारी के पहचानने के बाद नंबरदार काे ई-वाउचर जारी किया गया। कई नंबरदार ऐसे थे, जिनके पास माेबाइल ही नहीं था। जब उनका नंबर आया ताे मैसेज नहीं दिखा सके। उन्हें मैसेज दिखाने के लिए कहा गया। इसी तरह एक नंबरदार ने सिम जेब में डाला हुआ था। जब तहसीलदार ने मैसेज दिखाने काे कहा ताे नंबरदार सिम दिखाकर बाेला कि सिम ताे जेब में है। तभी नंबरदार ने अपने बेटे काे माेबाइल लेकर बुलाया और सिम डालने के बाद मैसेज आने पर ई-वाउचर मिल सका।

कई नंबरदार माेबाइल देखकर खुश हाे गए और माैके पर ही माेबाइल चलाकर देखने लगे। ज्यादातर नंबरदाराें के साथ उनके बेटे, पाैते, परिचित आए थे, जाे ऑनलाइन माेबाइल की कंपनी व रेट चेक कर रहे थे। शाम तक 300 में से 250 से ज्यादा काे ई-वाउचर मिल चुके थे। वहीं, सुबह ई-रूपी वाउचर एसडीएम हितेष कुमार, नगराधीश मुकुंद व डीआरओ कैप्टन विनोद शर्मा की देखरेख में वितरित किए गए। जिला राजस्व अधिकारी कैप्टन विनाेद शर्मा ने कहा कि नंबरदाराें काे माेबाइल देने के लिए चंडीगढ़ से वेंडराें काे सूचना दी गई थी, मगर दाे ही वेंडर यहां पहुंचे। कई नंबरदाराें ने माैके पर भी माेबाइल लिए हैं। मंगलवार काे कैंट एसडीएम कार्यालय में ई-वाउचर मिलेंगे। इसके बाद नारायणगढ़ व बराड़ा में माेबाइल के लिए ई-वाउचर दिए जाएंगे। नंबरदार किसी भी उम्र का हाे, सभी काे माेबाइल दिए जा रहे हैं।

ये मजबूरी रही...

सुबह 1 वेंडर पहुंचने के चलते न चाहते हुए भी लावा कंपनी का माेबाइल लेना पड़ा
मेले में 2 ही कंपनियाें के वेंडर पहुंचे। यही नहीं उन कंपनियाें के पास 9 हजार तक माेबाइल नहीं मिला। नंबरदार महंगे फाेन लेने पर मजबूर हाे गए। लावा कंपनी के काउंटर पर सुबह 9 हजार वाला काेई माेबाइल नहीं था। नंबरदार लावा कंपनी का जेड 93पी माेबाइल 3जीबी रैम व 32 जीबी राेम 10 हजार 700 रुपए में लेने काे मजबूर हाे गए, जबकि यह माेबाइल ऑनलाइन डेढ़ हजार सस्ता मिल रहा है। सुबह कंपनी कर्मचारियों के पास 9 हजार वाले माेबाइल का स्टाॅक नहीं था। कंपनी के मार्केटिंग मैनेजर प्रवीन कुमार ने कहा कि सुबह उनके पास 9 हजार रुपए वाले माेबाइल का स्टाॅक नहीं है। स्टाॅक मंगवाया गया है।

सैमसंग कंपनी के वेंडर ने केवल रजिस्ट्रेशन ही किया, मोबाइल बाद में देंगे
सैमसंग कंपनी कर्मचारी भी दाे से तीन घंटे लेट पहुंचे। कंपनी की ओर से ग्लैक्सी-ए 03 काेर 2जीबी रैम, 32 जीबी राेम 8800 रुपए का था, जबकि यह ऑनलाइन करीब डेढ़ हजार सस्ता है। इसी तरह कंपनी की ओर से ए03 3जीबी रैम, 32जीबी राेम 10 हजार 599 रुपए, ए03 4जीबी रैम, 64जीबी राेम 11 हजार 900 का ऑप्शन भी दिया गया। कंपनी ने माेबाइल माैके पर नहीं दिए। कंपनी के बिजनेस डवलपमेंट क्वालिटी डिपार्टमेंट से अभनीत तिवारी ने कहा कि नंबरदाराें के माेबाइल के लिए रजिस्ट्रेशन किए गए हैं। कुछ दिनाें बाद माेबाइल मिलेंगे। जाे माेबाइल वह पसंद करेंगे, वही दिए जाएंगे। जिला राजस्व अधिकारी कैप्टन विनाेद शर्मा ने कहा कि कंपनी कर्मचारियों ने नंबरदाराें काे माेबाइल के माॅडल दिखा दिए हैं। कुछ दिन बाद उनकाे माेबाइल मिल जाएंगे।

खबरें और भी हैं...