पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना की चाल:2427 सैंपल में से 80 पॉजिटिव मिले, संक्रमण दर अब 4 प्रतिशत से नीचे

अम्बाला सिटीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • वैक्सीनेशन की रफ्तार बेशक धीमी, फिर भी घट रहा पॉजिटिविटी रेट
  • 4 की मौत, दोनों डोज लगवाने वाले टीकावीर अब एक लाख के पार

जिले में कोरोना की दोनों डोज लगवाने वाले टीकावीरों की संख्या शनिवार को एक लाख को पार कर गई। शनिवार को जिले में 338 लोगों ने कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाई और इसके साथ ही दूसरी डोज लगवाने वालों का आंकड़ा 1,00,295 हो गया। कुल वैक्सीनेशन की बात करें तो जिले में अब तक 4 लाख 10 हजार 450 लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है।

मई माह में ही 79,024 को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगी और 37,837 को दूसरी डोज लगी है। वहीं, शनिवार को कुल 3,050 लोगों को वैक्सीन लगाई गई है और इनमें से 18 प्लस श्रेणी में 1014 ने अपनी पहली डोज लगवाई। जबकि 18 से 44 आयु वर्ग में 1271 ने वैक्सीन की पहली डोज लगवाई। इसी प्रकार 60 से अधिक के आयु वर्ग में 50 ने पहली डोज व 111 ने दूसरी डोज लगवाई।

मई माह के दौरान 88,716 ने कोविशील्ड वैक्सीन लगवाई है। अम्बाला वैक्सीनेशन के मामले में गुरुग्राम व फरीदाबाद के बाद प्रदेश में तीसरे स्थान पर है। हालांकि, जनसंख्या घनत्व के हिसाब से बात करें तो अम्बाला पहले नंबर पर है।

जिले में अब संक्रमण दर लगभग सवा तीन प्रतिशत चल रही है। शनिवार को संक्रमण दर 3.29 प्रतिशत रही। शुक्रवार को लिए 2427 सैंपल में से महज 80 मरीज मिले हैं। इससे पहले 26 मई को 2.10 प्रतिशत, 27 मई को 3.25 प्रतिशत व शुक्रवार को 3.58 प्रतिशत संक्रमण दर रही थी।

शनिवार को 80 नए कोरोना मरीज आने से अब कुल कोरोना संक्रमित की संख्या 29,323 हो गई है। 232 मरीज ठीक होने के बाद डिस्चार्ज हुए हैं। जिससे अब जिले में एक्टिव मरीजों की संख्या 766 रह गई है और रिकवरी रेट 95.77 प्रतिशत पहुंच गया है।

हालांकि, चिंताजनक पहलू यह है कि अभी भी जिले में कोरोना से मौतें हो रही हैं। हालांकि, अब मई माह के शुरुआती दिनों की तुलना में आधी मौतें हो रही हैं। शनिवार को भी चार मौतें हुई हैं और अब जिले में कोरोना से जान गंवाने लोगों की संख्या 475 हो गई है। मई माह में अब तक 234 लोग जान गंवा चुके हैं, यानी कोरोना से आधी मौतें मई में ही हुई। जिले की मृत्यु दर अब 1.59 प्रतिशत चल रही है जबकि राज्य में कोरोना से औसत मृत्यु दर 1.08 प्रतिशत है।

पतरेहड़ी निवासी रिटायर्ड जेई की कोविड-19 से मौत

कोरोना से पतरेहड़ी निवासी 60 वर्षीय रामकुमार की मौत हो गई। रामकुमार जनवरी 2019 में बिजली बोर्ड से बतौर जेई रिटायर हुए थे। बेटे मनोज ने बताया कि उनके पिता की कुछ दिन पहले तबीयत खराब हुई थी। खांसी और सांस लेने में दिक्कत थी। लक्ष्ण होने पर पर कोरोना टेस्ट करवाया तो 12 मई को रिपोर्ट पॉजिटिव आई। 27 मई को हालत गंभीर होने पर एमएम अस्पताल, मुलाना में भर्ती किया गया। यहां ऑक्सीजन लेवल गिरने पर ऑक्सीजन व बाइपेप स्पोर्ट पर रखा गया। शनिवार को दोपहर को उन्होंने दम तोड़ दिया।

18 दिन पहले छोटे बेटे को कोरोना से मौत हुई थी, अब बड़े बेटे की हार्ट अटैक से जान गई

बराड़ा | 18 दिन पहले छोटे बेटे की कोरोना से मौत के गम से पिता अभी उबर भी नहीं पाए थे कि 33 साल के बेटे की भी माैत हाे गई। बड़े बेटे का निधन हार्ट अटैक से बताया जा रहा है। जानकारी के अनुसार डेरा थली गांव के जिले सिंह के छोटा बेटा संदीप कुमार कोरोना पॉजिटिव हाे गए थे।

इलाज के दौरान उसकी 11 मई को उनकी मौत हो गई थाी। अब बड़े बेटे कमल सिंह (33) की तबीयत अचानक खराब हाेने से उनकी मौत हो गई। डॉक्टरों ने बताया कि कमल सिंह की हार्ट अटैक आया है। दोनों बेटों की मौत के बाद परिवार तो गमगीन है ही, साथ में छाेटे से इस गांव में भी दुख का माहौल है।

कंस्ट्रक्शन साइट पर लिए 70 सैंपल

कैंट के रेस कोर्स की कंस्ट्रक्शन साइट पर शनिवार को 70 सैंपल लिए हैं। डॉ. राजेंद्र राय ने बताया कि यहां कंस्ट्रक्शन में लेबर काम कर रही है और स्वास्थ्य विभाग ने मौके पर पहुंच कर एहतियातन सैंपल लिए हैं। जिससे कि लेबर में कोरोना संक्रमण को चिन्हित किया जा सके।

अर्बन एरिया की तुलना में गांवों में ज्यादा मिल रहे मरीज

शनिवार को जो कोरोना मरीज मिले हैं उनमें से अम्बाला सिटी से 14, कैंट से 9, चौड़मस्तपुर सीएचसी एरिया में 13, नारायणगढ़ में 2, मुलाना में 23, शहजादपुर में 12 व बराड़ा से सात मरीज मिले। इन आंकड़ों से साफ जाहिर है कि अब अर्बन एरिया की तुलना में गांवों में से ज्यादा मरीज निकल रहे हैं। जितने मरीज सिटी व कैंट में मिले हैं उतने तो अकेले मुलाना से ही मिले हैं। होम आइसोलेट मरीजों को लेकर भी कुछ ऐसी ही स्थिति है।

अभी सिटी में 206 मरीज होम आइसोलेट हैं जबकि कैंट में 68, चौड़मस्तपुर सीएचसी के एरिया में 136, मुलाना में 114, बराड़ा में 39, नारायणगढ़ में 12 व शहजादपुर में 147 मरीज होम आइसोलेट हैं।

खबरें और भी हैं...