पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जिला शिक्षा अधिकारी सुरेश कुमार से मुलाकात:सेसिल कान्वेंट स्कूल के अभिभावकों ने वार्षिक चार्ज मांगने के आराेप लगाए, चेयरमैन बाेले- आराेप गलत, हमने फीस मांगी

अम्बाला सिटी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिटी के डीईओ ऑफिस में पहुंचे बच्चाें के परिजन। - Dainik Bhaskar
सिटी के डीईओ ऑफिस में पहुंचे बच्चाें के परिजन।
  • अभिभावक बोले-वार्षिक चार्ज के लिए भेजे जा रहे मैसेज, मैनेजमेंट का तर्क-सुप्रीम काेर्ट के ऑर्डर के हिसाब से फीस मांगी

कैंट के सेसिल कान्वेंट स्कूल के अभिभावकाें ने वार्षिक चार्ज मांगने का अराेप लगाया। इस संबंध में अभिभावकाें ने सिटी में जिला शिक्षा अधिकारी सुरेश कुमार से मुलाकात की। अभिभावकाें का कहना है कि 2020-21 सत्र के वार्षिक चार्ज (एनुअल चार्ज) ताे मांगे ही जा रहे हैं, साथ ही नए सेशन 2021-22 में एडमिशन के लिए मंथली फीस काे भी बढ़ाकर मांगा जा रहा है।

डीईओ सुरेश कुमार ने इस मामले में बीईओ ब्लाॅक टू काे मामले की जांच साैंपी है। उन्हाेंने 2 दाे दिन में रिपाेर्ट देने के लिए कहा है। वहीं, स्कूल चेयरमैन सुधीर विंदलस ने कहा कि स्कूल द्वारा अभिभावकाें से वार्षिक चार्ज मांगने के आराेप गलत हैं।

डीईओ ऑफिस में पहुंचे अभिभावकाें का कहना है कि काेराेनाकाल से सरकार के निर्देशानुसार अभिभावक स्कूल काे मासिक फीस जमा करवाते आ रहे हैं। मगर अब अभिभावकाें के पास वार्षिक चार्ज भरने के लिए भी मैसेज भेजे जा रहे हैं। वार्षिक चार्ज न देने पर बच्चाें का वार्षिक परिणाम राेकने की बात कही जा रही है। उनका कहना है कि कि डीईओ ने मैनेजमेंट के साथ बैठक भी की थी।

अब 31 मार्च काे परिणाम घाेषित हाेना था, इसलिए वह डीईअाे सुरेश कुमार के पास रिव्यू लेने गए थे कि उनके मामले में क्या कार्रवाई की गई। साथ ही इस बारे भी अवगत करवाया गया था कि स्कूल द्वारा नए सेशन के लिए मांगी जा रही मासिक फीस में भी बढ़ाेतरी की जा रही है।

काफी देर अभिभावकों की डीईए से बातचीत हुई। इसके बाद डीईओ ने ब्लाॅक टू बीईओ काे मामले की जांच साैंपी हैं। डीईओ सुरेश कुमार ने बताया कि ब्लाॅक टू बीईओ काे 2 दिन में मामले काे लेकर अपनी रिपाेर्ट देने के लिए कहा है।

नए सेशन के लिए सिर्फ 10 फीसदी फीस बढ़ाई : विंदलस

स्कूल चेयरमैन सुधीर विंदलस का कहना है कि अभिभावकाें का यह कहना गलत है कि उनसे वार्षिक चार्ज मांगे जा रहे हैं। सुप्रीम काेर्ट के ऑर्डर के हिसाब से ही जाे भी फीस बनती है, वह अभिभावकाें से ली जा रही है। किसी भी बच्चे काे फीस न भरने पर स्कूल से निकाला नहीं जा रहा और न ही उसका परिणाम राेका जाएगा।

उनका कहना है कि ऑर्डर में यह भी कहा गया है कि अगर अभिभावक फीस काे एक बार में देने में सक्षम नहीं है ताे वह 6 किस्ताें में 5 अगस्त तक जमा करवा सकते हैं, इसके लिए उन्हें पहले एप्लीकेशन देनी हाेगी। नए सेशन के लिए सिर्फ 10 प्रतिशत फीस बढ़ाई गई है। अभिभावकाें से 2019-20 सत्र वाली फीस ही 2020-21 में ही ली जा रही है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें