पॉलीटेक्निक चौक के पास ई-रिक्शा पर गिरा पेड़, चालक जख्मी:लोगों ने डेढ़ साल पहले वन विभाग से की थी झुके पेड़ की शिकायत

अम्बाला3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिटी में पालीटेक्निक चौक के पास ई-रिक्शा पर गिरा सफेदे का पेड़ व घायल पंकज कुमार। - Dainik Bhaskar
सिटी में पालीटेक्निक चौक के पास ई-रिक्शा पर गिरा सफेदे का पेड़ व घायल पंकज कुमार।

पॉलीटेक्निक चौक के पास सिटी थाने के नजदीक सड़क किनारे डेढ़ साल से झुका सफेदे का पेड़ रविवार दोपहर करीब 12 बजे ई-रिक्शा के अगले हिस्से पर गिरा। हादसे में हीरा नगर निवासी ई-रिक्शा चालक 38 वर्षीय पंकज कुमार जख्मी हो गए। दुकानदारों ने डेढ़ साल पहले वन विभाग से पेड़ को कटवाने की मांग भी की थी, लेकिन विभाग ने पेड़ काे नगर निगम के अंतर्गत बता पल्ला झाड़ लिया था, जिसके चलते यहां हादसा हाे गया। पंकज ने बताया कि वह ई-रिक्शा चलाकर चौकी नंबर-3 की तरफ जा रहे थे। जब वह शंकर छोले वाले की दुकान के पास पहुंचे तो दुकान संचालक पवन ने उन्हें आवाज दी।

आवाज सुनकर उन्होंने जैसे ही ब्रेक लगाई तभी ई-रिक्शा के अगले हिस्से पर भारी-भरकम पेड़ गिरा। हादसे में उनके मुंह, हाथ व बाजू पर चोट आई। ई-रिक्शा भी बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। पंकज कुमार ने बताया कि उन्होंने पिछले साल अगस्त में ई-रिक्शा 6 हजार रुपए प्रति महीने की किस्त पर लिया था। अभी आखिरी किस्त देनी बाकी है। बता दें कि पेड़ गिरने के कारण वहां केबल लाइन भी टूट गई। गनीमत रही कि ई-रिक्शा में सवारियां नहीं थी और अन्य वाहन भी पेड़ की चपेट में आने से बच गए।

पेड़ को यहां से हटाने के लिए शाम करीब साढ़े 4 बजे वन विभाग से फॉरेस्ट गार्ड अमरजीत सिंह और नगर निगम से सुपरवाइजर शिव अपनी-अपनी टीम सहित पहुंचे। फॉरेस्ट गार्ड का कहना था कि उन्हें डीसी ऑफिस से इसकी सूचना आने के बाद वह यहां पहुंचे। उनका कहना था कि नगर निगम की टीम मौके पर आई लेकिन बिना किसी औजार के। वहीं दुकानदारों का कहना था कि चंद कदमों की दूरी पर सिटी थाने से कोई अधिकारी या कर्मचारी मौके पर नहीं पहुंचा।

डेढ़ साल पहले वन विभाग को दी थी शिकायत
दुकानदार कम्युनिकेशन हट संचालक प्रयास, कोहली शोकर दुकान संचालक प्रीत मोहन, वीटा बूथ संचालक अजय गाैड़, बुक स्टाल संचालक हर्ष व अन्य ने कहा कि इस पेड़ को काटने के लिए डेढ़ साल पहले वन विभाग को पत्र लिखा था। उस दौरान विभाग ने कहा था कि ये पेड़ नगर निगम के अंतर्गत आता है। इसलिए नगर निगम की तरफ से इसे काटा जा सकता है। दुकानदारों ने जनवरी में इसकी शिकायत सीएम विंडो पर दी और ट्विटर पर भी की। इसके बाद वन विभाग से टीम आई और फिर यही कहा कि ये पेड़ नगर निगम के अंतर्गत आता है। दुकानदारों ने सीएम के ट्विटर पर वन विभाग का यही जवाब लिखा, लेकिन समाधान नहीं हो सका था।

पेड़ निगम के अंडर या वन विभाग के, पता नहीं : चीफ सेनेटरी इंस्पेक्टर
नगर निगम के चीफ सेनेटरी इंस्पेक्टर सुनील दत्त का कहना है कि उन्हें इस बारे में जानकारी नहीं है कि ये पेड़ नगर निगम के अंडर आता है या वन विभाग के। ईओ का फोन आने पर मौके पर टीम भेजकर पेड़ को हटवा दिया था।

खबरें और भी हैं...