ऑक्सीजन के लिए मारामारी:सोडा फैक्टरी संचालक ने मिशन अस्पताल को दिए 8 सिलेंडर, साइंस इंडस्ट्री से काेई मदद नहीं

अम्बाला6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मिशन अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर व टीम के साथ डॉ. सादिक। - Dainik Bhaskar
मिशन अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर व टीम के साथ डॉ. सादिक।
  • डीसी ने ऑक्सीजन सप्लाई के लिए डीलरों को 200 सिलेंडर उपलब्ध कराने को कहा था, लेकिन पहुंचे महज 30 सिलेंडर

जिले में मेडिकल ऑक्सीजन के लिए मारा-मारी मची हुई है। एकमात्र यूनाइटेड ट्रेडर्स एजेंसी पर दिनभर लोग ऑक्सीजन की मांग को लेकर पहुंच रहे हैं। एजेंसी के पास औसतन करीब 9 हजार किलो ऑक्सीजन की मांग प्रतिदिन आ रही है जबकि यहां से सप्लाई औसतन 7 हजार किलो तक ही हो पा रही है। हालांकि गृह मंत्री अनिल विज ने ऑक्सीजन का कोटा 162 एमटी से बढ़ाकर 232 एमटी करने की जानकारी दी है जिससे आने वाले दिनों में राहत मिलने की उम्मीद है।

वहीं आपदा की इस घड़ी में एक सोडा फैक्टरी के मालिक मनदीप सिंह ने मिशन अस्पताल को 8 सिलेंडर दिए। मगर हैरत है कि कैंट की सबसे बड़ी साइंस इंडस्ट्री से अब तक एक भी उद्यमी आगे नहीं आया जिसने स्वेच्छा से सिलेंडर इस्तेमाल के लिए दिए हों। वहीं ऑक्सीजन सप्लाई करने वाले डीलरों पर डीसी की अपील का कोई असर नहीं पड़ा है। डीसी ने डीलरों को 200 सिलेंडर उपलब्ध कराने को बोला था, मगर अब तक महज 30 सिलेंडर ही उपलब्ध हो सके हैं।

ऑक्सीजन की कमी, इसलिए फैक्टरी के सिलेंडर दिए | सोडा फैक्टरी संचालक मनदीप सिंह ने मिशन अस्पताल को 8 सिलेंडर दिए। एक सिलेंडर की क्षमता 60 लीटर है मनदीप ने बताया कि उन्हें जानकारी मिली थी कि मिशन अस्पताल में सिलेंडरों की कमी है जिसको लेकर उन्होंने फैक्टरी का काम कम करके सिलेंडर दिए।

उन्होंने बताया कि भविष्य में सिलेंडर रिफिल कराकर भी दिए जाएंगे। सिलेंडर मनदीप ने लांयस क्लब अम्बाला लोटस के अध्यक्ष संदीप सचदेवा के माध्यम से प्रदान किए। मौके पर प्रधान विक्रम आनंद, सचिव गुलाटी व अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे। वहीं अस्पताल के निदेशक डाॅ. सुनील सादिक ने कहा कि इस समय सिलेंडरों की भारी मांग है और ऐसे आपात समय में ऐसी मदद करना सराहनीय है।

केंद्र ने 232 एमटी किया प्रदेश में ऑक्सीजन का कोटा : विज

गृह मंत्री अनिल विज ने बताया कि केंद्र सरकार ने हरियाणा में ऑक्सीजन सप्लाई का कोटा 162 एमटी से बढ़ाकर 232 एमटी कर दिया हैं जिससे मरीजों को राहत मिलेगी। उन्होंने बताया कि ऑक्सीजन एयर लिफ्ट करने पर भी बातचीत चल रही है। जिला उपायुक्तों को आदेश दिए है कि अस्पतालों में बेड की कैपेसिटी बढ़ाने के साथ-साथ अस्थाई तौर पर अस्पताल स्थापित किए जाए।

अस्पताल, बैंक्वेट हॉल, स्कूल तथा धर्मशाला आदि में बनाए जा सकते हैं। अस्पतालों में मेनपावर की कमी को पूरा करने के लिए एमबीबीएस, पीजी के हॉयर कक्षाओं के विद्यार्थियों को लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि डॉयल 112 जोकि शुरू होना है उसके तहत नई एम्बुलेंस खरीदी गई थी अब जिलों में 20-20 नई एंबुलेंस हर जिले में आबंटित की गई है।

साइंस इंडस्ट्री में दर्जनों फर्म ऑक्सीजन का प्रयोग कर रहीं

अम्बाला साइंस इंडस्ट्री में दर्जनों ऐसी फर्म हैं जोकि ऑक्सीजन सिलेंडर का प्रयोग करते हैं । मगर हैरत है अब तक एक भी फर्म द्वारा आपदा को देखते हुए ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली एजेंसी को सिलेंडर उपलब्ध नहीं करवाए गए हैं । यहां सिलेंडरों की जबरदस्त कमी है, मगर आपदा के समय इंडस्ट्री से लोगों का आगे न आना हैरत का विषय है।

खबरें और भी हैं...