• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • The Crooks Behind The Bank Of India Bank Rai Market, If The Person Started Taking Goods In The Police Line, Then The Money Was Withdrawn

एक्टिवा की डिग्गी से 147000 चोरी:बैंक ऑफ इंडिया राय मार्केट से पीछे लगे बदमाश, पुलिस लाइन में व्यक्ति सामान लेने लगा तो निकाले पैसे

अंबाला5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बलदेव नगर थाना का फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
बलदेव नगर थाना का फाइल फोटो।

हरियाणा के अंबाला शहर में मैसर्ज औसा इंडस्ट्रियल प्रोडक्ट्स प्राइवेट लिमिटड के कर्मचारी से चोरी का मामला सामने आया है। चोर एक्टिवा की डिग्गी में रखा 1 लाख 47 हजार का कैश ले उड़े। कंपनी के कर्मचारी ने बैंक ऑफ इंडिया राय मार्केट से राशि का चैक कैश करवाया था। पैसों को एक्टिवा की डिग्गी में रखने के बाद वह अंबाला शहर पुलिस लाइन की राघव डायरी पर सामान लेने चला गया।

सामान रखने के लिए डिग्गी खोली तो उड़े होश

एक्टिवा बाहर खड़ी करके सामान खरीदने लगा तो चोर कैश लेकर फरार हो गए। वापस लौटकर सामान रखने के लिए डिग्गी खोली तो कैश गायब था। तब तक शोर मचाता, चोर आंखों से ओझल हो गए थे। 9 दिसंबर को दिनदहाड़े चोरी हुई थी, लेकिन पहले कंपनी के कर्मचारी अपने स्तर पर मामले की जांच करते रहे। अब जाकर कंपनी एचआर विभाग के कर्मचारी विशाल मेहता ने बलदेव नगर थाने में अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज करवाया।

बैंक से पीछे लगे थे बदमाश, फुटेज लेकर जांच करेगी पुलिस

शिकायतकर्ता विशाल मेहता ने बताया कि कंपनी के कर्मचारी गोविंद सिंह रावत को बैंक तथा बाजार के सभी कार्यों के लिए रखा हुआ है। एक लाख तो दूसरा चैक 50 हजार रुपए का कैश करवाने के लिए भेजा था। कैश करवाने के बाद 3 हजार रुपए गोविंद ने कंपनी के खाते में जमा करवा दिए, बाकि की राशि लेकर एक्टिवा की डिग्री में रख दी थी। जांच अधिकारी सब इंस्पेक्टर रवि ने बताया कि कंपनी के कर्मचारियों ने बताया है कि बैंक में ही 2 युवक संदिग्ध दिखे है जो वहीं से पीछा कर रहे होंगे। पुलिस फुटेज लेकर मामले की जांच करेगी।

एक्टिवा में लगी थी चाबी, इसलिए पहले कर्मचारी पर था शक

जांच अधिकारी रवि ने बताया कि वारदात के समय व्यक्ति सामान लेने गया तो चाबी एक्टिवा में ही लगी थी। कंपनी के कर्मचारी पहले कर्मचारी से यह जानना चाह रहे थे कि आखिर चाबी कैसे छुटी, बदमाशों को कैसे पता लगा कि पुलिस लाइन की दुकान पर ही कर्मचारी रूकेगा। इस कहानी को झूठा समझ रहे थे। मामले की गंभीरता से जांच करने के बाद कंपनी को कोई सुराग नहीं लगा तो पुलिस में शिकायत दी।

खबरें और भी हैं...