मांग / जिस 11 केवी लाइन शिफ्ट को शिफ्ट करने की मांग जनवरी से कर रहे उसकी चपेट में आकर झुलसी बच्ची, पीजीआई रेफर

The scorching girl who has been demanding to shift the 11 KV line shift since January, PGI refer
X
The scorching girl who has been demanding to shift the 11 KV line shift since January, PGI refer

  • करधान में मजदूर आरसीसी दीवार बना रहे थे, जाल का एक सरिया बच्ची ने उठाया और दीवार पर चढ़ी तो लगा करंट

दैनिक भास्कर

May 30, 2020, 05:00 AM IST

अम्बाला. करधान गांव में टांगरी बांध पर खेलने गई 10 साल की सलौनी उर्फ अंजली के हाथ में पकड़ा सरिया 11 केवी के ट्रांसफार्मर पर लगी तार से छू गया। इससे धमाका हुआ और बच्ची करंट लगने से झुलस गई। उसे सिविल अस्पताल लाया गया, जहां से डाॅक्टराें ने पीजीआई चंडीगढ़ रेफर कर दिया।


टांगरी बांध की एक साइड में 2 ट्रांसफार्मर लगे हैं, जिनके बीच के बिजली के तार काफी नीचे झूल रहे हैं। खेलते-खेलते बच्ची ने लोहे का सरिया उठाया और नवनिर्मित बांध की दीवार पर चढ़ गई। इसी बीच बच्ची के हाथ में पकड़ा सरिया झूल रहे बिजली के तार को छू जाने से धमका हुआ। बांध की दीवार बनाने में जुटे नगर परिषद के ठेकेदार के मजदूर और मिस्त्री काम छोड़ साइड में भागे। उधर, 500 गज दूरी पर बच्ची का मकान था, इसलिए करंट लगते देख महिलाएं और अासपास के लोग बच्ची की तरफ भाग पड़े। अंजली का एक हाथ पूरी तरह से झुलस गया था और पांव के साथ टांगों पर करंट लगा है। मां भी बेटी को देखकर बेहोश हो गई। इसलिए गंभीर हालत में कार में बच्ची के साथ-साथ मां को भी कैंट सिविल अस्पताल लाया गया। बच्ची के पिता का नाम राम अवतार उर्फ बिंद्री है, जो मेहनत मजदूरी करता है। राम अवतार के पिता सदा राम को कुछ समय पर निधन हो चुका है। करधान चौकी के पास सदा राम अपने 3 बेटों के साथ ही काम करते थे।


पिता की बब्याल सब-डिवीजन में पड़ी है तारें शिफ्ट करने की फरियाद : करधान निवासी बच्ची के पिता राम अवतार सिंह ने गांव में रहने वाले हरदयाल सिंह, बृज भूषण सहित भाजपा के बूथ प्रधान शक्ति सिंह के जरिए शिकायत गृह मंत्री अनिल विज को दी थी। जनवरी में दी शिकायत में लोगों ने अंदेशा जताया था कि टांगरी बांध पक्का होने से 11 केवी लाइन के बिजली के तार काफी नीचे हो चुके हैं। इन तारों के नीचे यदि कोई खड़ा हो अौर गलती से हाथ ऊपर उठा ले तो करंट लग सकता है। मंत्री ने झूलते तार को शिफ्ट करने के आदेश बिजली निगम के एसई को दिए थे। जहां से मांगपत्र पहले एक्सईएन कार्यालय कैंट और बाद में बब्याल सब-डिवीजन में एसडीओ के पास पहुंचा। सब-डिविजन ने 11 फरवरी को मांगपत्र पर एस्टीमेट तैयार किया, लेकिन तार शिफ्ट नहीं िकए।

लापरवाही पर मई में जेई का फीडर चार्ज बदला  
करधान के कुछ किसानों की ट्यूबवेल की मोटर और स्टार्टर खराब हो गए थे। किसान जब एकजुट होकर जेई के पास पहुंचे थे तो कहासुनी हो गई। इसलिए मामले की शिकायत मंत्री विज से की थी। बिजली निगम ने शिकायत के आधार पर लापरवाही बरतने पर जेई से ब्राह्मण माजरा और मंगलई फीडर का चार्ज लेकर दूसरे फीडर का चार्ज दे दिया था।

लाेगाें ने एसडीओ से पूछा- हादसे का जिम्मेदार कौन
हादसे के बाद बब्याल एसडीओ अतितोष जेई के साथ मौके पर पहुंचे। लोगों ने एसडीओ से पूछा कि बच्ची के साथ हुए हादसे का जिम्मेदार कौन है? इस पर एसडीओ ने कहा कि जल्द ही ताराें को शिफ्ट कर दिया जाएगा। लाेगाें ने कहा कि मांगपत्र देने के बाद अाज तक बिजली निगम क्यों नहीं जागा। इस बारे एक्सईएन कैंट पवन नरूला ने कहा कि मीटिंग चल रही है। बाद में ही कुछ बताया जा सकता है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना