पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कड़ासन गोलीकांड:गोंदी परिवार की महिलाएं गृहमंत्री से बाेलीं- दोनों पक्षों में चली थी गोलियां, एजेंसी से निष्पक्ष जांच कराने की मांग की

नारायणगढ़10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • एकतरफा कार्रवाई का आरोप

कड़ासन गोलीकांड में आरोपी विशाल गाेंदी के परिजनों ने गृहमंत्री अनिल विज से मिलकर निष्पक्ष जांच की मांग की। गोंदी परिवार का आरोप है कि शहजादपुर पुलिस ने दूसरे पक्ष से मिलीभगत कर एकतरफा कार्रवाई की है। गोंदी परिवार की उषा रानी, सोहन देवी, शालू गोंदी, नेहा गोंदी ने गृहमंत्री से कहा कि 31 अगस्त को भी 6 मरले के प्लाॅट पर उनके परिवार और गुरनाम सिंह के परिवार के बीच विवाद हुआ था।

मामला शहजादपुर पुलिस के संज्ञान में लाया गया था। पुलिस ने दोनों पक्षों को बुलाया था। दोनों ने पुलिस को लिखकर दिया था कि झगड़ा नहीं करेंगे। वहीं गोंदी परिवार पहले ही स्थानीय अदालत के फैसले के खिलाफ जिला अदालत में अपील दायर कर चुका था। जिस पर सुनवाई 6 सितंबर को होनी थी। गुरनाम सिंह ने प्लाॅट पर निर्माण शुरू किया ताे फिर दोनों पक्ष थाने में गए थे। जहां प्यादे ने गुरनाम सिंह को समन तामील करवाया था।

इसके बावजूद गुरनाम के सहयोगियों ने प्लाॅट पर काम जारी रखा। इसी बात को लेकर मौके पर झगड़ा हुआ था। गोंदी परिवार की महिलाओं ने गृहमंत्री से कहा कि झगड़े में दोनों तरफ से गोलियां चली थी, लेकिन पुलिस ने एकतरफा कार्रवाई करते हुए उनके खिलाफ हत्या के प्रयास का केस दर्ज किया। झगड़े के अगले दिन पुलिस की मौजूदगी में गुरनाम सिंह ने प्लाॅट की चारदीवारी कर कमरे बना दिए।

पुलिस घर से कैमरे और डीवीआर ले गई
गोंदी परिवार ने गृहमंत्री को बताया कि झगड़े के बाद पुलिस उनके घर आई थी। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज लेने की बजाय डीवीआर और कैमरे साथ ले गई। जबकि पुलिस ने दूसरे पक्ष के कैमरों की फुटेज तक नहीं देखी। पुलिस ने उनकी 4 कारें भी कब्जे में ले रखी हैं। महिलाओं ने गृहमंत्री से मांग की कि किसी और एजेंसी से निष्पक्ष जांच करवाई जाए।

खबरें और भी हैं...