पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना संक्रमण:कोरोना के बाद 18 दिन में तीन अस्पताल बदले, कैडबरी कंपनी के एजीएम की नहीं बच सकी जान

अम्बालाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अम्बाला सिटी | रामबाग में मशीन से अंतिम संस्कार करते नगर निगम कर्मी। - Dainik Bhaskar
अम्बाला सिटी | रामबाग में मशीन से अंतिम संस्कार करते नगर निगम कर्मी।
  • कोरोना से 30, 32 और 37 साल के युवाओं की मौत, डेढ़ साल की बच्ची की मां सोनिया भाटिया ने भी दम तोड़ा
  • 37 साल के विक्रम बजाज के चाचा सुमित साड़ी के मालिक जोगेंद्र बजाज की भी जुलाई 2020 कोरोना से हुई थी मौत

कोरोना अब जान नहीं बल्कि बहुत से परिवारों से उनके मां-बाप का साया भी छीन रहा है। पिछले 24 घंटे में कोरोना से दम तोड़ने वालों में 3 की उम्र 30, 32 और 37 साल थी। प्रेम नगर नगर निवासी 37 साल के विक्रम बजाज को परिजन 18 दिन में तीन अस्पतालों में लेकर गए लेकिन वे कोरोना से जीत नहीं सके। वे कैडबरी कंपनी में एजीएम थे।

परिजनों ने बताया कि 17 अप्रैल को विक्रम की कोविड पॉजिटिव रिपोर्ट आई थी। पहले उन्हें मिशन अस्पताल में भर्ती कराया गया। 4 दिन बाद सेहत मे सुधार न होने पर जालंधर के कैपिटल अस्पताल ले गए। वहां 10 दिन रहे। तबीयत में सुधार न होने पर बुधवार को कैंट के मिलिट्री अस्पताल लाया गया, लेकिन वीरवार दोपहर को उन्होंने दम तोड़ दिया।

दुखद पहलू है कि विक्रम के जाने से उनके 9 साल के बेटे माहिर के सिर से पिता का साया उठ गया। पत्नी पूजा स्कूल में जॉब करती हैं। बजाज परिवार के लिए काेविड से यह दूसरा झटका है। पिछले साल उनके चाचा जोगेंद्र बजाज की मौत हो गई थे। वे सुमित साड़ी के संचालक थे।

इसी तरह पटेल नगर में कोरोना ने डेढ़ साल की बच्ची बांसुरी से उसकी मां छीन ली। पति मनीष भाटिया ने बताया कि उनकी 30 साल की पत्नी सोनिया मंगलवार को तबीयत खराब हुई थी। उन्हें सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया। बुधवार को रिपोर्ट पॉजिटिव आई, वीरवार काे उनकी मौत हो गई। स्वास्थ्य विभाग की बुलेटिन में पिछले घंटे में कोरोना से 7 मौतों को दिखाया है। हालांकि सिटी के श्मशान घाट में कोविड प्रोटोकॉल से 5 और कैंट में 7 अंतिम संस्कार हुए।

वीरवार को जो 7 मौतें हुई उनमें सबसे ज्यादा 3 मौतें कैंट में हुई। जिले में जिन लोगों की जान गई वे 30 साल से 74 साल उम्र के बीच के थे। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक सभी मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे और कोरोना के अलावा अन्य गंभीर बीमारियों से भी जूझ रहे थे। कैंट के पटेल नगर की रहने वाली 30 वर्षीय महिला की मौत हुई।

वहीं, कैंट में दूसरी मौत राजा पार्क के रहने वाले 47 वर्षीय व्यक्ति, दयालबाग की 63 वर्षीय महिला की हुई। वहीं, सिटी में नवनीत नगर के रहने वाले 74 वर्षीय व्यक्ति की मौत हुई। वहीं, आसा सिंह गार्डन के 69 साल के व्यक्ति व धनाना गांव के 62 साल के व्यक्ति की मौत हुई। वीरवार को जिले में हुई सात मौतों के बाद कोरोना से हो रही मौतों का कुल आंकड़ा 301 हो गया है।

वीरवार को 401 कोरोना संक्रमित मिले। चिंताजनक पहलू यह भी है कि अब हर पांचवां सैंपल पॉजिटिव मिल रहा है। इसका अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि पहले दिसंबर 2020 से फरवरी तक 1673 मरीज मिले थे जबकि अब मई के छह दिनों में ही 2486 मरीज मिल चुके हैं।

मौतों का आंकड़ा 300 पार

वीरवार को कोरोना से हो रही मौतों का आंकड़ा 300 पार कर गया। इनमें से मई के पहले छह दिनों में ही जिले में 60 लोगों की मौत हो गई। जबकि इससे पहले दिसंबर 2020 से इस साल अप्रैल तक के 5 महीनों में 58 मौतें हुई थीं।

ऑब्जर्वेशन होम से 6 केस मिले

सिटी स्थित ऑब्जर्वेशन होम से 6 कोरोना संक्रमित मिले हैं। इसके साथ ही होम में मौजूद 71 बच्चों समेत 85 लोगों में से 45 संक्रमित मिल चुके हैं।

खबरें और भी हैं...