पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

न्यू लक्की नगर में ठीक नहीं हुआ ट्यूबवेल:10 दिन से काॅलोनियों में पानी का संकट, नया ट्यूबवेल लगाने की तैयारी

अम्बाला24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
न्यू लक्की नगर में खराब ट्यूबवेल की मरम्मत की जा रही है। - Dainik Bhaskar
न्यू लक्की नगर में खराब ट्यूबवेल की मरम्मत की जा रही है।
  • पास ही नया ट्यूबवेल लगाने के लिए जमीन तय की विभाग ने, लोग हो रहे परेशान

न्यू लक्की नगर में 10 दिन पहले खराब हुआ ट्यूबवेल अब तक ठीक नहीं हो सका, जिस कारण क्षेत्र में पानी का संकट बरकरार है। न्यू लक्की नगर के साथ-साथ गोल्डन पार्क, दयालबाग क्षेत्रों में भी समस्या आ रही है। विभाग द्वारा अब कुछ क्षेत्रों में पानी के टैंकर भेजकर समस्या का हल किया जा रहा है। ट्यूबवेल लगभग खराब हो चुका है और विभाग द्वारा इसके स्थान पर नया ट्यूबवेल लगाने के लिए जगह भी तय कर ली गई है।

दो वर्ष पहले न्यू लक्की नगर में जनस्वास्थ्य विभाग ने ट्यूबवेल लगाया था। इसकी मरम्मत एक सप्ताह से चल रही है, मगर कामयाबी नहीं मिल पा रही। पानी के साथ-साथ काफी मात्रा में अब भी मिट्टी आ रही है। विभाग को उम्मीद थी कि 3-4 दिन में इस ट्यूबवेल को ठीक कर लिया जाएगा, मगर सप्ताह होने पर भी विभाग किसी नतीजे पर नहीं पहुंचा है।

ऐसी परिस्थितियों में ट्यूबवेल को लगभग खराब माना जा रहा है। इस ट्यूबवेल से करीब 50 फुट दूरी पर ही खाली जमीन पर नया ट्यूबवेल लगाने की योजना भी विभाग द्वारा बनाई जा रही है। मगर यह तभी संभव होगा जब पुराना ट्यूबवेल सही नहीं होगा। नया ट्यूबवेल लगाने में करीब 20 दिन का समय विभाग को और लगेगा। गर्मी चरम पर है और ऐसे में पेयजल आपूर्ति बाधित होने से सैकड़ों लोगों को परेशानी हो रही है।

नहरी पानी से 3 समय सप्लाई, कुछ काॅलोनियों में प्रेशर कम

न्यू लक्की नगर ट्यूबवेल से गोल्डन पार्क, दयालबाग, अजीत नगर क्षेत्रों को पानी सप्लाई हो रही थी। पानी की खपत गर्मी में ज्यादा हो रही है जिस कारण दिक्कत आ रही है। हालांकि अन्य ट्यूबवेल भी इन क्षेत्रों में हैं, मगर न्यू लक्की नगर ट्यूबवेल खराब होने पर अब सप्लाई कम हो गई है। ऐसे में विभाग द्वारा नहरी पानी से आपूर्ति की जा रही है।

सुबह 6 से 8, दोपहर 2 से 4 और शाम 6 से 8 बजे नहरी पानी आपूर्ति हो रही है। मगर समस्या यह है कि दयालबाग व गोल्डन पार्क के कुछ क्षेत्रों में नहरी पानी का प्रेशर कम आ रहा है। इस समस्या से निपटने के लिए विभाग द्वारा इन क्षेत्रों में टैंकरों से पेयजल आपूर्ति की जा रही है।

पुराने ट्यूबवेल को ठीक करने का प्रयास किया जा रहा है, अभी भी पानी के साथ मिट्टी आ रही है। यदि ट्यूबवेल ठीक नहीं होता तो नया ट्यूबवेल लगाने के लिए पास ही जगह का चयन किया गया है। लोग पानी को व्यर्थ न करें, इसका भी वह ध्यान रखें।
रणबीर सिंह, एसडीओ, जनस्वास्थ्य विभाग, अम्बाला

खबरें और भी हैं...