• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • When Brijpal 5 Went Out To Celebrate Birthday, Vishal Was The Only Brother Of 3 Sisters, The Lamps Of Five Houses Were Extinguished In The Accident.

दिवाली की रात हादसा:जन्मदिन मनाने निकले बृजपाल 5 तो विशाल 3 बहनों के इकलौते भाई थे, हादसे में बुझे पांच घरों के चिराग

झांसा21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
झांसा। टक्कर से उड़े कार के परखच्चे। - Dainik Bhaskar
झांसा। टक्कर से उड़े कार के परखच्चे।
  • नलवी के निकट पेड़ से टकराई मारुती 800 कार, 5 दोस्तों की मौत

दीपावली को बृजपाल के घर में दोहरी खुशी थी। गुरुवार को उसका जन्मदिन था। दिवाली पूजन के बाद रात को बृजपाल अपने 2 दोस्तों को साथ लेकर जन्मदिन मनाने निकला था, लेकिन इसके बाद पांचों दोस्त घर नहीं लौट सके। रास्ते में ही पांचों दोस्त हादसे का शिकार हो गए। नलवी के पास उनकी कार सड़क किनारे खेतों में खड़े पेड़ से टकरा गई।

जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई। मृतक जहां आपस में गहरे दोस्त थे। वहीं बृजपाल व अंकित चचेरे भाई थे। इस हादसे से पांच घरों के चिराग बुझ गए। पांचों घरों व गांवों में खुशियां मातम में बदल गई। मृतकों में अंकित, बृजपाल उर्फ टोनी बसंतपुर के थे। जबकि गुरप्रीत जैनपुर, गोल्डी गौरीपुर, विशाल चोपड़ा नलवी का रहने वाला था।
6 घंटे बाद नजर आई कार :

शाहबाद रोड पर नलवी की तरफ आते समय जसवीर सिंह के खेतों के निकट हादसा हुआ। माना जा रहा है कि हादसा रात करीब एक या डेढ़ बजे हुआ होगा, लेकिन इसका पता शुक्रवार सुबह करीब छह बजे चला। टक्कर से कार के परखच्चे उड़ गए थे। दरअसल जहां हादसा हुआ वहां सड़क काफी ऊंची है।

कार नीचे की तरफ खड़े पेड़ से टकराई। खाई व घासफूस होने के चलते अंधेरे में दुर्घटनाग्रस्त कार नहीं दिखी। सुबह जब आसपास के किसान खेत में पहुंचे तो कार दिखी। सूचना पर एसएचओ प्रेम सिंह की टीम पहुंची। राहगीरों की मदद से करीब तीन घंटे बाद जाकर कार में फंसे शवों को बाहर निकाला जा सका। इसके बाद उनकी शिनाख्त कर परिजनों को सूचित किया।
बहनें देख रही थी राह : बृजपाल पांच बहनों का इकलौता भाई था। इनमें माेनिका अविवाहित है।

जबकि रिंकी, पिंकी, रीतू व रवीना की शादी हो चुकी है। पिता धर्मपाल के मुताबिक एक दिन बाद उसे अपनी बहनों के यहां टीका कराने जाना था। बहनें भी भाई के आने को लेकर उत्साहित थी, लेकिन एक दिन पहले ही इकलौता बेटा हादसे का शिकार हो गया। मां पलिंद्रो देवी काे जब पता चला तो वह बेसुध हो गई। होश में आते ही बोली कि कल भैया दूज है, तेरी बहनों के पास टीका कराने कौन जाएगा। वहीं विशाल भी तीन बहनों का इकलौता भाई था। विशाल के घर पर भी मातम पसरा है। पता चलने पर बहनें भी पहुंच गई।
रोका था, पर दोस्तों के साथ निकल गया था : नसीब संह

गुरमीत उर्फ बबलू 5 भाई बहन हैं। जिसमें से गुरमीत भी अविवाहित था। पिता नसीब सिंह ने बताया कि रात करीब साढ़े दस बजे गुरमीत घर के बाहर पटाखे चला रहा था। तभी गोल्डी पहुंचा। दोनों कहीं जाने को तैयार हुए। तब उसने रोका भी था। उसे क्या पता था कि दोबारा कभी घर नहीं आएगा। गुरमीत व गोल्डी दोनों आदेश अस्पताल में अटेंडेंट लगे थे। दोनों अक्सर नाइट ड्यूटी पर साथ जाते थे। दोनों का गांव भी पास-पास है। ऐसे में दोनों में काफी गहरी दोस्ती थी।

लौटते समय हादसा : पांचों दोस्त शाहाबाद में बर्थडे पार्टी मनाने गए थे। रात करीब 11 बजे तक परिजनों से बातचीत भी होती रही। लौटते समय नलवी के निकट मारूति 800 कार का संतुलन बिगड़ने से सड़क किनारे खेतों में खड़े सफेदे के पेड़ से टकरा गई। संभवत कार की गति तेज थी। पेड़ से टकराने से कार के परखच्चे उड़ गए। एसएचओ प्रेमसिंह के मुताबिक अभी तक हादसे के कारण पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हुए हैं।​​​​​​​

बृजपाल की शादी की तैयारियां चल रही थी
बृजपाल उर्फ टोनी का रिश्ता कुछ समय पहले चीका में हुआ था। उसकी शादी की तैयारियां चल रही थी, लेकिन कुछ दिन पहले ही टोनी के बहनोई की मौत होने के चलते शादी टाल दी। अब फिर से परिवार शादी की तैयारियों में था। शादी को लेकर परिवार सहित आस पड़ोस में खुशी का माहौल था। क्योंकि टोनी पांच बहनों में इकलौता भाई था।
रात को निकले बर्थडे मनाने : बृजपाल ने शाम को दिवाली को लेकर दीये जलाए थे। इसके बाद उसने व दोस्तों ने जन्मदिन सेलिब्रेट की प्लानिंग बनाई। साथ चलने के लिए चचेरे भाई अंकित ने तो गांव के बाहर से ही अपनी बाइक घर भिजवा दी। पलिंद्रो देवी के पास ही बैठी अंकित की मां दीपो देवी का भी रो-रो कर बुरा हाल था।

बार-बार एक ही बात बोलती कि काश उसका बेटा एक बार तो घर आ जाता। आखिरी बार भी घर नहीं आया अगर लौटता तो शायद बच जाता। परिवार के सदस्य दोनों देवरानी जेठानी को संभालने में लगे रहे। नलवी निवासी विशाल चोपड़ा के परिवार सहित पूरे गांव में मातम का माहौल था। क्योंकि विशाल भी तीन बहनों में इकलौता भाई था। मां नेबो व अन्य सदस्यों का रो-रोकर बुरा हाल था। गोल्डी के घर पर भी कोहराम मचा था। मां नरेश रानी और भाई अवतार को लोग संभालने में लगे थे।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...