पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कृषि कानूनों को लेकर विरोध:टिकैत की अपील दरकिनार कर खेड़ी शीशगरां के किसान ने ट्रैक्टर से रौंदी एक एकड़ गेहूं की फसल

पिहोवा11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पिहोवा | खड़ी फसल पर ट्रैक्टर चलाते कर्मजीत को रोकते दूसरे किसान। - Dainik Bhaskar
पिहोवा | खड़ी फसल पर ट्रैक्टर चलाते कर्मजीत को रोकते दूसरे किसान।
  • 10 एकड़ की फसल नष्ट करने की तैयारी थी, आसपास के किसानों ने मौके पर रुकवाया ट्रैक्टर

केंद्र के तीन कृषि कानूनों को लेकर किसानों में जहां आंदोलन लंबा खींचने पर असंतोष बढ़ रहा है। वहीं टिकैत की अपील का गलत प्रभाव भी अब सामने आने लगा है। राकेश टिकैत समेत तमाम किसान नेता किसानों से फसल नष्ट न करने की अपील कर रहे हैं, लेकिन अपील का भी असर नहीं दिख रहा।

इसे लेकर भी एक तरह से क्रेज सा चल पड़ा है। खेड़ी शीशगरां में एक किसान ने अपनी एक एकड़ गेहूं की फसल ट्रैक्टर चला कर नष्ट कर दी। उक्त किसान अपनी दस एकड़ गेहूं को नष्ट करने की तैयारी में था। ऐन मौके पर आसपास के किसानों ने किसी तरह से ट्रैक्टर रुकवाया।

ताया के ट्रैक्टर से बीजी, उसी से नष्ट किया : गांव खेड़ी शीशगरां के किसान कर्मजीत सिंह ने मंगलवार शाम ट्रैक्टर से अपनी एक एकड़ गेहूं की हरी फसल नष्ट कर दी। कर्मजीत के पास दस एकड़ जमीन है। जिस पर उसने गेहूं बीजी है। खास बात यह है कि उसके पास खुद का ट्रैक्टर नहीं है।

गेहूं बिजाई उसने ताया के ट्रैक्टर से की थी। उसी ट्रैक्टर से ही गेहूं की फसल को नष्ट कर दी। ताया से शाम को ही किसी काम के बहाने ट्रैक्टर मांग कर लाया था। जैसे ही इसकी भनक आसपास के किसानों को लगी तो तुरंत मौके पर पहुंचे। किसान नरेंद्र सिंह गुराह, उत्तम सिंह चट्ठा व मनिंद्र सिंह ने उसे मुश्किल से ट्रैक्टर से नीचे उतारा। उसे समझाया कि इस तरह फसल नष्ट करने से समस्या हल नहीं होगी। नरेंद्र ने कहा कि इस तरह यह लड़ाई नहीं लड़ी जा सकती।

दो दिन पहले ही दिल्ली बार्डर से लौटा था : कर्मजीत ने कहा कि किसानों की कोई सुनवाई नहीं हो रही। लंबे समय से किसान आंदोलन कर रहे हैं। पूरी सर्दी बीत गई, सरकार सुनवाई नहीं कर रही। अब तो सरकार बातचीत भी बंद कर बैठी है। वह दो दिन पहले ही दिल्ली बार्डर से लौटा था। इसी गुस्से में फसल नष्ट की। वह पूरी फसल नष्ट करना चाहता था। सिर्फ एक कनाल गेहूं अपने परिवार के लिए बचाना चाहता था।

वीडियो से की अपील फसलों को नष्ट न करें

बता दें कि किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा था कि किसान अपनी फसलों को आग लगा देगा। उनकी इस बात के बाद ही प्रदेश में कई किसानों ने अपनी फसल नष्ट कर दी। किसान नेता अब यही समझा रहे हैं कि ऐसा कदम न उठाएं। भाकियू अध्यक्ष गुरनाम चढूनी ने भी वीडियो जारी किया है। जिसमें किसानों से अपील की कि वे अपनी फसल को नष्ट नहीं करें। टिकैत के बयान का गलत अर्थ लगाया जा रहा है। उन्होंने भी कभी यह नहीं कहा कि किसान अपनी फसलों को नष्ट करें।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी विशिष्ट कार्य को पूरा करने में आपकी मेहनत आज कामयाब होगी। समय में सकारात्मक परिवर्तन आ रहा है। घर और समाज में भी आपके योगदान व काम की सराहना होगी। नेगेटिव- किसी नजदीकी संबंधी की वजह स...

    और पढ़ें