पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

देश के विकास में हिंदी का योगदान:हिंदी भाषा में संस्कृति और संस्कारों का समावेश : सैनी

पिहोवा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

टैगोर बाल निकेतन सीनियर सेकेंडरी स्कूल में हिंदी दिवस के मौके पर देश के विकास में हिंदी का योगदान विषय पर व्याख्यान किया गया। इस मौके पर स्कूल के डायरेक्टर प्रवीण सैनी ने कहा कि हिंदी देश का गौरव और भारत माता के माथे की बिंदी है, लेकिन हम अपने दैनिक जीवन में हिंदी सहित स्थानीय भाषाओं के प्रयोग को कम करते जा रहे हैं।

यह सबसे बड़ा खतरा है। अपने बच्चों के साथ वार्तालाप में हिंदी का अधिक प्रयोग करें। हिंदी केवल भाषा ही नहीं, यह राष्ट्र का सम्मान भी है। विश्व के लगभग 150 देशों में हिंदी बोलने वाले लोग बसे हुए हैं। एमडी चंद्रप्रभा वत्ता ने हिंदी भाषा की वैज्ञानिकता से छात्रों को अवगत कराते हुए कहा कि 14 सितंबर 1949 को हिंदी भाषा को देवनागरी लिपि में भारत की कार्यकारी और राजभाषा का दर्जा अधिकारिक रूप से दिया गया था। हिंदी भाषा भारत की मातृभाषा है। इसके विकास के लिए युवा वर्ग को प्रयास करना चाहिए।

खबरें और भी हैं...