मिटी प्राचीन निशानी:संस्था का आरोप-नपा ने पेड़ के नीचे से अर्थमूविंग मशीन से हटाई मिट्टी तो बारिश में गिर गया बरगद

पिहोवा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शाम को पक्षियों की चहचहाहट होती थी।जो अब खत्म हो गई

पर्यावरण रक्षकों के तमाम प्रयासों के बावजूद प्राचीन बरगद के पेड़ को नहीं बचाया सका। आरोप है कि नगर पालिका कर्मियों ने योजनाबद्ध तरीके से बरगद के विशाल पेड़ की जड़ से अर्थ मूविंग मशीन से खोद डाली और वहां से मिट्टी को हटा दिया। जिससे यह विशाल बरगद गिर गया। इसमें नपा अधिकारियों की भी भूमिका है।

नपा बनाएगी 48 शोरूम: इस तरह एक प्राचीन निशानी को खत्म कर दिया गया। क्योंकि नगर पालिका यहां पर 48 शोरूम बनाने पर आमादा है। उसे किसी पेड़ से कोई सरोकार नहीं है। न उसे पेड़ का महत्व का कोई इल्म है। पर्यावरण प्रेमी जगदीश गौड़ ने बताया कि इस पेड़ को पूर्व मंत्री स्व. प्यारा सिंह द्वारा लगाया गया था। तब वे यहां पशु अस्पताल का उद्घाटन करने आये थे। इस पेड़ के नीचे अनेक मुसाफिर गर्मी, सर्दी व बारिश में आकर आसरा लेते थे। अनेक पक्षियों का आशियाना इस विशाल बरगद पर था। शाम को पक्षियों की चहचहाहट होती थी।जो अब खत्म हो गई है।

खबरें और भी हैं...