• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • Pundri
  • 3.75 Lakh Bags Lying Waiting For Loading In The Market, Due To Lack Of Space In The Market, The Farmers Were Forced To Put Paddy On The Raw Place Outside

धीमा उठान बना समस्या:मंडी में लोडिंग के इंतजार में पड़े 3.75 लाख कट्टे, मंडी में जगह न होने के चलते किसान बाहर कच्ची जगह पर धान डालने को मजबूर

पूंडरीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अनाज मंडी में लोडिंग के इंतजार में पड़े धान के कट्टे। - Dainik Bhaskar
अनाज मंडी में लोडिंग के इंतजार में पड़े धान के कट्टे।

अनाज मंडी में अब भी पीआर धान की आवक जोरों पर हैं। मंडी में सबसे बड़ी परेशानी लोडिंग को लेकर बनी हुई है। जिसके चलते मंडी में जाम की स्थिति हर समय बनी रहती है और किसान मंडी में जगह न मिलने के कारण बाहर बस स्टेंड के सामने, मंडी और हुडा मार्केट की बीच वाली सड़क व अन्य खाली जगह पर धान डालने को मजबूर हैं। जिससे मौसम खराब व चोरी होने का भय हर समय सताता रहता है।

किसान रामपाल, शीशा सिंह, लखपत सिंह, शेर सिंह, धनपत, राजबीर सिंह व रीखा ने बताया कि खेतों में से लगभग पीआर धान आ चुकी है। अब अन्य किस्म 1509 व अन्य 1121, बासमती आदि किस्में पकने पर है। मंडी में इस समय जो धान पड़ा हुआ है, उसका गेट पास न कटने की वजह या फिर ज्यादा नमी, डिस्कलर होने के चलते न बिकने के कारण पड़ा हुआ है और लाखों कट्टे पड़े होने की वजह से जाम की स्थिति बनी हुई है। मंडी में पीआर धान के आए लगभग 8 लाख कट्टे, लोडिंग के इंतजार में पड़े 3.75 लाख कट्टे।

अनाज मंडी में अभी तक लगभग 8 लाख कट्टे आए है। जिसमें से खरीद एजेंसी हैफेड ने 2.75 लाख कट्टे व डीएफएससी द्वारा 5.25 लाख कट्टे खरीद किए और इनमें से हैफेड के 1 लाख व डीएफएससी के 2.75 लाख कट्टे लोडिंग के इंतजार में पड़े हुए है।

मार्केट कमेटी अधिकारियों को बनाएंगे बंधक: मंडी एसोसिएशन के प्रधान सतीश हजवाणा ने कहा कि मार्केट कमेटी के कर्मचारियों की कार्यप्रणाली को लेकर आढ़तियों व किसानों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। गेट पास काटने वाले आढ़तियों के मुनीमों के बिना मतलब चक्कर कटवाते है। कभी कहते हैं कि धान की ट्राॅली लेकर आओ और दिखाओ, कभी कहते है कि पोर्टल में नाम नहीं है।

कमेटी अधिकारी बोलते है कि धान बाहर न डलवाकर अंदर डलवाओ। उठान का कार्य काफी धीमा है, जब तक उठान नहीं होता तब तक किसानों के खातों में पेमेंट नहीं आती है और बिना पेमेंट के किसानों को परेशानियां आ रही है। प्रधान ने रोष स्वरूप कहा कि अगर कमेटी के कर्मचारियों व अधिकारियों ने अपना रवैया ठीक नहीं किया तो वे मजबूरन एसोसिएशन आढ़तियों के साथ ऐसे कर्मचारियों को बंधक बनाएगी।

पीआर धान की खरीद थोड़ा देरी से शुरू होने व एकदम से धान मंडी में अत्याधिक मात्रा में आ जाने से जाम जैसी स्थिति बनी है। इतनी मात्रा में खरीद होने से उसकी लोडिंग करने में कुछ समय लगता है। अब लोडिंग का कार्य भी पर्याप्त चल रहा है। दो दिनों में काफी हद तक लोडिंग करवा दी जाएगी और मंडी में स्पेस खाली हो जाएगा। किसानों को कोई परेशानी न हो इसके लिए अधिक से अधिक धान खरीद करने का प्रयास रहता है।-बजेंद्र सिंह, निरीक्षक डीएफएससी पूंडरी।

खबरें और भी हैं...