• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • Pundri
  • At Midnight, The Woman And 2 Innocent People Kept Screaming, No One Came To Save, In The Morning The 10 year old Subtle Came To His Senses And Reached The Neighbors Asking For Help.

हत्यारे ने करी थी कुनबाघाणी:आधी रात को महिला व 2 मासूम चीखते रहे, कोई नहीं आया बचाने, सुबह 10 साल के सूक्ष्म को होश आया तो पड़ाेसियों के पास पहुंचा मदद मांगने

पूंडरीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ये फोटो आप को विचलित कर सकते हैं, लेकिन हत्यारे की दरिंदगी दिखाने के लिए भास्कर ये फोटो प्रकाशित कर रहा है, कमरे में जमीन पर खून से लथपथ पड़ा विधवा गीता देवी का शव। - Dainik Bhaskar
ये फोटो आप को विचलित कर सकते हैं, लेकिन हत्यारे की दरिंदगी दिखाने के लिए भास्कर ये फोटो प्रकाशित कर रहा है, कमरे में जमीन पर खून से लथपथ पड़ा विधवा गीता देवी का शव।
  • सुरेंद्र भारद्वाज/जयपाल शर्मा
  • मोहना गांव में घर में घुसकर हत्यारे ने सोई हुई विधवा व दोनों बच्चों को मौत के घाट उतारने के लिए कुल्हाड़ी से किए अंधाधुंध वार
  • मरा समझकर हत्यारा दीवार फांदकर फरार, होश आने पर सुबह 5:40 मिनट पर सूक्ष्म पहुंचा पड़ोसी मनोज के घर, मां व बहन की मौत

मोहना गांव में विधवा महिला गीता देवी के घर हत्यारा कुनबाघाणी (पूरे परिवार को मारना) के इरादे से घर में घुसा था। एक कमरे में सोए तीनों विधवा महिला गीता देवी, उसकी 8 साल की बेटी स्मृति व 10 साल के बेटे सूक्ष्म पर कुल्हाड़ी से अंधाधुंध वार करने शुरू कर दिए। तीनों जब तक बेसुध होकर नहीं गिरे तब तक हत्यारा वार करता रहा। कुल्हाड़ी के वारों से बचने के लिए महिला की हत्यारे के साथ झड़प भी हुई।

वारदात स्थल पर टूटे हुए बालों के पड़े गुच्छे से ये साबित भी हो रहा है। किसी तरह से मौत से बच सके। इसके लिए मां व दोनों मासूम ने चीख-पुकार कर मदद भी मांगी। लेकिन पड़ाेस से कोई भी उन्हें बचाने के लिए नहीं आया। आसानी से हत्यारा वारदात को अंजाम देकर दीवार फांदकर मौके से फरार हो गया। गनीमत ये रही कि सिर में लगी गहरी चोट के कारण बेहोश हुए सूक्ष्म को सुबह होश आ गया। इसके बाद वह दूसरी गली में पड़ने वाले पड़ाेसी मनोज के घर पहुंचा और बताया कि रात को उनके घर कोई घुस गया। उसने ही उसको चोट मारी है और उसकी मां व बहन लहुलुहान हालत में पड़ी हुई हैं।

सूक्ष्म की इतनी बात सुनकर मनोज व उसके परिवार के अन्य लोग मौके पर पहुंचे तो मां-बेटी मृत मिली। इसके बाद गांव के निवर्तमान सरपंच को इस घटना के बारे में जानकारी दी गई और फिर कंट्रोल रूम को फोन किया गया।

मासूम सूक्ष्म बोला-कमरे की कुंडी बंद होती तो वो नहीं आता, बाकी मैंने इंस्पेक्टर को पूरी बात बता दी

हम सब सोए हुए थे। मेन दरवाजे (गली में लगने वाला) को वे बंद करके सोते हैं। हम जिस कमरे में सोते हैं उस कमरे की कुंडी बंद नहीं होती। इसी कारण वो (हत्यारा) अंदर घुस गया। हम सब सोए हुए थे जब उसने अपनी मां की चीख-पुकार सुनी तो उसकी आंख खूल गई। इसके बाद हत्यारे ने मेरे सिर में भी चोट मारी। जिससे मैं बेहोश हो गया। सुबह जब होश आया तो देखा की उसकी बोबो (बहन) व मां खून से लथपथ पड़ी हुई हैं। इसके बाद मैं घर के पीछे गली में मनोज के घर पहुंचा और घटना के बारे में बताया। बाकी मैंने और सारी बात इंस्पेक्टर को बता दी है । (जैसा 10 साल के मासूम सूक्ष्म ने बताया)

हत्यारे ने सिर व गले पर किए कुल्हाड़ी से कई वार

हत्यारे ने तीनों को मौत के घाट उतारने के लिए महिला गीता देवी व उसके दोनों बेटा-बेटी के ऊपर सिर व गले पर कुल्हाड़ी से वार किए। ताकि वे बच न पाएं। सूक्ष्म का उपचार कर रहे पूंडरी के निजी अस्पताल के चिकित्सक ने बताया कि बच्चे के सिर में तेज धार हथियार से वार किया गया है। जब वह उसके पास पहुंचा तो उसकी हालत काफी नाजुक थी। इससे उसकी मौत भी हो सकती थी। सूक्ष्म को सिर में चार टांके लगाए गए हैं। अब उसकी हालत पहले से काफी बेहतर है और वह पूरी तरह से होश में है।

आशंका: जमीन को लेकर चल रही रंजिश में तो नहीं की हत्या

मृतका गीता देवी के पति विक्रम की अपने चचेरे भाइयों दर्शन व सीलू के साथ जमीन के बंटवारे को लेकर पिछले काफी दिनों से रंजिश चल रही थी। नेशनल हाईवे 152-डी के लिए एक्वायर हुई जमीन विक्रम के हिस्से से (जिसे वह बो रहा था) गई थी। इसकी एवज में 18 लाख रुपए मुआवजा मिला था। जमीनी खाता इकट्ठा होने के कारण 6-6 लाख रुपए की राशि 3 बैंक खातों में चली गई। इस पर जमीन के मुआवजा को लेकर विक्रम की उसके चचेरे भाइयों से कई बार कहासुनी भी हुई। वह एक्वायर हुई जमीन के बदले जमीन मांग रहा था।

इसी बीच 2 फरवरी को हार्ट अटैक से विक्रम की मौत हो गई। करीब दो माह पहले मृतका गीता व उसके देवरानी ने पूंडरी थाने में शिकायत कर जमीन मांगी थी। इसके बाद ग्रामीणों ने बीच-बचाव कर पंचायती समझौता करा दिया। अब मां-बेटी की हुई मौत व सूक्ष्म के ऊपर हुए जान लेवा हमले से ये सवाल उठ रहा है कि कहीं ये वारदात जमीनी रंजिश को लेकर तो नहीं की गई। हालांकि पुलिस प्रारंभिक जांच में ऐसा नहीं मान रही।​​​​​​​

पति की मौत बाद दोनों बच्चों को अच्छे से पढ़ा-लिखा रही थी गीता

8 माह पहले पति विक्रम की हुई अचानक मौत के बाद गीता देवी पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा था। उसके पास करीब एक एकड़ पुश्तैनी जमीन है और उसी के सहारे वह अपने दोनों बच्चों को पढ़ा-लिखा रही थी। बेटा 5वीं में व बेटी दूसरी क्लास में पढ़ती थी। भाभी की मौत होने की सूचना पर गांव पहुंची उसकी दो ननद सुनीता व सीता ने बताया कि एक दिन पहले उसकी भाभी गीता से बात हुई थी।

इस दौरान उसने किसी प्रकार की कोई झगड़ा होने की बात नहीं बताई थी। भाई की मौत के बाद उनके लिए भाभी ही बड़ा सहारा थी। पता नहीं किसने किस रंजिश में मां-बेटी को मौत के घाट उतार दिया। हत्यारा घर से भी कुछ लेकर गया है इसकी उन्होंने अभी जांच नहीं की है। ले जाने के लिए गीता के पास था भी ऐसा कुछ नहीं क्योंकि कोई कमाई का तो साधन है ही नहीं। जो मुआवजे के पैसे मिले तो उससे उसके भाई ने मकान बना दिया था।

प्रारंभिक जांच में सामने आया लूट के लिए की वारदात: एसपी

पुलिस ने वारदात के बाद कई लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की थी। इस दौरान मृतका के पड़ाेसी दर्शन के नौकर इस्माइल अली उर्फ राजु निवासी गांव उत्तरफुलवाडी जिला अगरतला ने पुलिस के सामने पूछताछ में बताया कि उसके मालिक द्वारा नौकरी से निकाल दिया था। इसके बाद वह अपने घर भागना चाहता था। इसलिए उसने पैसे लुटने के लिए इस वारदात को कुल्हाड़ी से अंजाम दिया है। पुलिस आरोपी व अन्य लोगों से पूछताछ में लगी हुई है। दूसरे एंगल से भी जांच की जा रही है। जांच पूरी होने के बाद ही पता लग पाएगा कि हत्या की असली वजह का पता लग पाएगा। आरोपी को शुक्रवार को कोर्ट में पेश कर रिमांड पर लिया जाएगा।-लोकेंद्र सिंह, एसपी कैथल​​​​​​​

खबरें और भी हैं...