हाथों की कठपुतली:सरकार पूंजीपतियों के हाथों की कठपुतली, हर व्यक्ति भय के साये में काम करने को मजबूर- ओमप्रकाश

पूंडरी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आठ महीने से दिल्ली में कृषि कानूनों को लेकर किसान धरना दिए बैठे हैं और लगभग 500 किसान जान गंवा चुके

इनेलो के हलकाध्यक्ष एवं अनाज मंडी निगदू के प्रधान ओमप्रकाश कैरा ने कहा कि सरकार पूंजीपतियों के हाथों की कठपुतली बनी हुई है। अनाजमंडी में बातचीत करते हुए कैरा ने कहा कि सरकार ने प्रदेश में ऐसी स्थिति पैदा कर दी है कि हर व्यक्ति भय के साये में काम करने को मजबूर है।

बेलगाम प्रशासनिक अधिकारी जनता के प्रतिनिधियों को कुछ समझते ही नहीं है, क्योंकि मुख्यमंत्री भी उनकी सुनवाई नहीं करते और सरकार को विधायक मंत्री की बजाए अधिकारी चला रहे हैं। आठ महीने से दिल्ली में कृषि कानूनों को लेकर किसान धरना दिए बैठे हैं और लगभग 500 किसान जान गंवा चुके है। इस मौके पर पूर्व प्रधान रामप्रकाश गोगी, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य ईश्वर मैहला मुन्नारेहड़ी व रामदिया शर्मा भी मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...