पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

सख्ती:हैफेड डीएम की शिकायत के 67 दिन बाद श्री बाला जी फूड इंडस्ट्री संचालक पर केस

साढौरा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिला न्यायवादी की राय पर पुलिस धारा 406,409 व 420 में दर्ज किया मामला

साढौरा के श्री बाला जी फूड इंडस्ट्री संचालक पर आखिर साढौरा पुलिस ने केस दर्ज कर लिया। हैफेड मैनेजर की शिकायत पर यह केस दर्ज हुआ। उन्होंने 67 दिन पहले फ्लोर मिल संचालक की शिकायत दी थी, लेकिन केस दर्ज करने में पुलिस को लंबा समय लग गया। इसके लिए राजनीतिक दबाव बताया जा रहा है। क्योंकि शिकायत देने के बाद हैफेड अधिकारी भी कुछ करते नजर नहीं आ रहे थे।

अब देखना होगा कि पुलिस आरोपी की गिरफ्तारी से लेकर केस के साक्ष्य जुटा पाएगी या नहीं। क्योंकि दो माह ज्यादा समय निकल गया है। अब मौके पर साक्ष्य मिलेंगे या नहीं यह कोई नहीं बता सकता। हैफेड डीएम की जिस शिकायत पर साढौरा पुलिस ने केस दर्ज किया है उसमें लिखा है कि श्री बालाजी फूड इंडस्ट्री साढौरा को हैफेड द्वारा सप्लाई किए गए गेहूं की पिसाई न करके मैं ओम री शुभ लाभ एग्रीटेक प्राइवेट लिमिटेड मल्लनपुर मध्यप्रदेश से तैयार किया हुआ आटा मंगवाकर हैफेड के कट्टों में भरवाकर धोखाधड़ी की गई है। इस पर जिला न्यायवादी ने राय दी कि इस मामले में धारा-406, 409 और 420 में केस बनता है। इन्हीं धाराओं में पुलिस ने केस दर्ज किया है ।

यह रिपोर्ट हैफेड डीएम की थी| हैफेड डीएम ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि कि श्री बाला जी फूड इंडस्ट्री में निरीक्षण किया गया। वहां पर 225 क्विंटल गेहूं उतारा जा रहा था। जोकि नीले रंग की छपाई वाले कट्टों में था। वहीं 223 कट्टे हैफेड की गेहूं वाले खाली पड़े थे। एक दूसरे गोदाम में हैफेड के कट्टों के साथ ओम शुभ लाभ एग्रीटेक प्राइवेट लिमिटेड यूनिट वन मल्लनपुर मध्यप्रदेश की छपाई वाले और 25 अन्य खराब कट्टे मिले।

मौके पर मौजूद फ्लोर मिल के एक कर्मी से जानकारी मांगी तो वे संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए। जांच में यह भी मिला कि कुछ बिल मिले हैं कि उसमें 500 कट्टे आटा के लिए गए। वहीं एक अन्य बिल में 160 कट्टे आटे के मिले हैं। इस तरह से माना जा रहा है कि जो आटा लिया गया है कि वह राशन डिपो पर सप्लाई के लिए लिया गया था। यहां पर मिले कई क्विंटल आटे की क्वालिटी भी बेहद खराब मिली है।

मई माह में ही जिले के दो फ्लोर मिल को दिया था गेहूं कुटाई का टेंडर, एक रद्द किया था
राशन डिपो पर पात्र लोगों को सरकार ने कुछ माह पहले आटा देने की योजना चलाई है। सरकार प्राइवेट फ्लोर मिल को गेहूं एजेंसी के माध्यम से देती है और उसकी कुटाई कराकर आटा लेती है। कई माह से पंचकूला में एक नेता के फ्लोर मिल से आटा सप्लाई हो रहा था। मई में ही गेहूं कुटाई का टेंडर बाला जी फ्लोर मिल साढौरा और कौशल इंडस्ट्रीज इशोपुर को दिया गया। लेकिन पहले माह ही वे गेहूं की पिसाई नहीं कर पाए थे।

माना जा रहा है कि इसलिए बाहर से आटा मंगवाकर इसे डिपो पर सप्लाई करने की तैयारी कर चुके थे। तब अधिकारियों ने श्री बालाजी फूड इंडस्ट्री से करार रद्द कर दिया था। वहीं उस माह राशन डिपो पर आटा भी सप्लाई नहीं हो पाया था। पात्रों को गेहूं बाटंनी पड़ी थी।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आने से राहत महसूस होगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा और कई प्रकार की गतिविधियों में आज व्यस्तता बनी...

और पढ़ें