पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जठलाना:यमुना में आया 14 हजार क्यूसिक पानी, जलस्तर बढ़ने से अस्थाई रास्ता टूटा

यमुनानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पहाड़ी क्षेत्रों में हुई बारिश से यमुना नदी में आए करीब 14 हजार क्यूसिक पानी ने क्षेत्र में नगली घाट पर बने अस्थाई रास्ते को तोड़ दिया। कुछ दिन पहले ही यहां ओवरब्रिज का कंस्ट्रक्शन का कार्य कर रहे ठेकेदार ने लाखों रुपए खर्च कर इस रास्ते को बनाया था। रास्ता टूटने से अब यमुना नदी के उस पार जाने वाले किसानों की परेशानी बढ़ गई है।

क्योंकि यहां पर अभी तक आगामी वर्ष के लिए प्रशासन की ओर से नाव का ठेका अलॉट नहीं किया गया। इस समय धान की रोपाई का सीजन चल रहा है। ऐसे में किसानों को अब यमुना नदी के पार अपने खेतों तक कलानौर के रास्ते से होकर जाना पड़ेगा। इससे किसानों का समय बर्बाद होगा।

यमुना नदी के पार किसानों की हजारों एकड़ भूमि
क्षेत्र के जठलाना, बरसान, लालछप्पर, मारूपुर, गुमथला, संधाला, संधाली, कंडरौली, बरहेड़ी, मोहड़ी, बागवाली व उन्हेड़ी सहित अन्य कई एेसे गांव हैं जिन गांवों के किसानों की हजारों एकड़ भूमि यमुना नदी के उस पार पड़ती है। धान रोपाई का सीजन शुरू हो चुका है। ऐसे में रास्तें के अभाव में किसानों को परेशानियों के दौर से गुजरना पड़ेगा। न तो किसान समय पर अपने खेत तक पहुंच पाएंगे व नही वापस घर लौट पाएंगे। क्षेत्र के कई किसान तो ऐसे है जिनके पास खेतों में आने जाने के लिए साधनों की भी कमी है। किसानों की माने तो अब उनकी रातें अब यमुना नदी के उस पार ट्यूबवेलों के कमरों में ही कटेगी।

खबरें और भी हैं...