पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खेल:विदेशी धरती पर देश का परचम लहराकर लौटीं दिव्यांका को रोड शो निकाल स्टेडियम लेकर पहुंचे 150 एथलीट

यमुनानगर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बांग्लादेश के ढाका में साउथ एशियन एथलेटिक्स फेडरेशन मैराथन में जीता ब्रांज मेडल, डीएसओ ऑफिस पहुंचने पर स्वागत

विदेशी धरती पर देश का परचम लहराकर लौटीं दिव्यांका चौधरी का शहर पहुंचने पर स्वागत हुआ। दिव्यांका के सुंदरनगर पार्ट-2 स्थित घर से करीब 150 एथलीट ने रोड शो निकाला। ओपन कार में दिव्यांका के साथ बाइकों पर ढोल बजाते हुए एथलीट तेजली खेल स्टेडियम पहुंचे, जहां डीएसओ ऑफिस में जिला एथलेटिक संघ के सचिव अंजू बाला, कोषाध्यक्ष कृष्ण लाल व डीएसओ राजेंद्र पाल गुप्ता और धर्मेंद्र सिंह मेहता ने स्वागत किया।

अंतरराष्ट्रीय स्तर के शूटिंग स्पर्धा के खिलाड़ी संजीव राजपूत और प्रोफेशनल बॉक्सिंग के नीरज गोयन ने भी दिव्यांका को बधाई दी। सरकारी स्तर पर जिले में एथलेटिक्स कोच प्रवीन कुमार ने बताया कि दिव्यांका बांग्लादेश के ढाका में हुई साउथ एशियन एथलेटिक्स फेडरेशन मैराथन में ब्रांज मेडल जीतकर लौटी है।

चैंपियनशिप में दिव्यांका ने भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व किया और 42 किलोमीटर की मैराथन 3 घंटे 7 मिनट 41 सेकेंड में पूरी कर विदेशी धरती पर देश का राष्ट्रीय ध्वज फहराया। उन्होंने बताया कि जिले ही नहीं, हरियाणा से भी दिव्यांका इकलौती थी, जिसने चैंपियनशिप में हिस्सा लिया। डीएसओ ऑफिस में दिव्यांका के स्वागत के दौरान सहायक नरेश सिंह व सभी खेल कोच उपस्थित रहे, जिन्होंने दिव्यांका से आगे भी ऐसे ही अपना व देश का मान बढ़ाने की कामना की।

राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नाम कर चुकी दिव्यांका की मांग: तेजली में 500 एथलीट की सुविधा को बने सिंथेटिक ट्रैक| 22 वर्षीय दिव्यांका यूपी के जबिरन गांव (सहारनपुर) की है। परिवार की आर्थिक हालत कमजोर होने 12 वर्षों से सेक्टर-17 निवासी खेल विभाग में एथलेटिक कोच प्रवीन कुमार की मुंहबोली बेटी बन रह रही है।

प्रवीन कुमार से कोचिंग पाकर राज्य सहित कई राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर की मैराथन में एक के बाद एक पदक झटक रही है। अब साउथ एशियन एथलेटिक्स फेडरेशन मैराथन में ब्रांज मेडल जीत लौटीं दिव्यांका ने कहा कि तेजली खेल स्टेडियम में 500 एथलीट हैं। इनमें 500 राज्यस्तर के व 50 राष्ट्रीय स्तर के हैं।

अगर इन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर का सिंथेटिक ट्रैक सहित शूज व डाइट जैसी सुविधाएं मिले तो सभी राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपना व देश का नाम कर सकते हैं। उसकी चाहत ओलंपिक में देश काे पदक दिलाने की है इसीलिए अभ्यास का समय बढ़ाकर से रेस में लग रहा समय कम करने में लगी हैं।

अब तक ये पदक जीत चुकी
2016- नेशनल क्रॉस कंटी में ब्रांज
2017- यमुनानगर मैराथन में गोल्ड
2018- नेशनल क्रॉस कंटी में ब्रांज
2019- एमटी मैराथन में गोल्ड
2019- हैदराबाद मैराथन में ब्रांज
2020- नेशनल मैराथन में सिल्वर
2020- आसाम इंटरनेशनल मैराथन में गोल्ड
ऑल इंडिया इंटर यूनिवर्सिटी मैराथन में 2017 में ब्रांज व 2018 में गोल्ड

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यस्तता के बावजूद आप अपने घर परिवार की खुशियों के लिए भी समय निकालेंगे। घर की देखरेख से संबंधित कुछ गतिविधियां होंगी। इस समय अपनी कार्य क्षमता पर पूर्ण विश्वास रखकर अपनी योजनाओं को कार्य रूप...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser