पुलिस लोगों का छुड़ाएगी नशा, 22 का इलाज शुरू कराया:पुलिस के नशा छुड़ाओ अभियान में 35 लोगों ने खुद को नशे से बचाने की गुहार लगाई

यमुनानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
युवाओं को नशा छोड़ने को प्रेरित करते एसपी। - Dainik Bhaskar
युवाओं को नशा छोड़ने को प्रेरित करते एसपी।

पुलिस के नशा छुड़ाओ अभियान में 35 लोगों ने खुद को नशे से बचाने की गुहार लगाई। पुलिस अब इनका इलाज कराएगी और उन्हें नशे से बचाएगी। वीरवार को 22 लोगों को सिविल अस्पताल ले जाया गया। उनका इलाज शुरू कराया। वहीं 13 लोग किसी कारण से पहले दिन नहीं आ पाए। 22 लोगों को अस्पताल ले जाने से पहले एसपी कमलदीप गोयल ने लघु सचिवालय के सभागार में ड्रग डे एडिक्शन हेल्पलाइन का शुभारंभ किया।

हेल्पलाइन का नंबर 8818001383 है। शुक्रवार दोपहर से ये नंबर काम करने लगेगा। इस पर वाट्सएप की सुविधा भी है। जो लोग नशा छुड़वाना या छोड़ना चाहते हैं ताे वे इन नंबर पर सुबह 9 से शाम 5 बजे तक कॉल कर सकते हैं। इसके अलावा रोगी और सूचना देने वाले की डिटेल अलग-अलग दर्ज की जाएगी। यहां पहचान बताना जरूरी नहीं हाेगा। हेल्पलाइन पर महिला और पुरुष दो ऑपरेटर काम करेंगे। एक माह के बाद दूसरा स्टाफ लगाया जाएगा, ताकि रोटेशन पर आने वाला स्टाफ रूचि से काम कर सके।

पुलिस ने यह अभियान अंबाला रेंज की आईजी भारती अरोड़ा के निर्देश पर शुरू किया है। इससे रोड सेफ्टी एसोसिएट अधिवक्ता सुशील आर्य समेत कई एनजीओ जुड़ी हैं। एडवोकेट सुशील आर्य ने कहा कि एसपी नशा रोगियों के लिए परिवार के मुखिया की तरह काम कर रहे हैं। उनकी अपील है कि रोगी मजबूती से नशे को अलविदा कहें फिर देखें जीवन में कितना आनंद है। जब लाेग नशा छोड़ देंगे तो नशा सप्लायर का काम खुद ही बंद हो जाएगा। इससे पहले एसपी ने रोगियों से कहा कि इलाज शुरू हो गया है। हो सकता है उन्हें कुछ दिक्कतें आएं लेकिन घबराना नहीं है। इलाज में सबसे बड़ा रोल काउंसलिंग का रहेगा। इलाज सिविल अस्पताल के डॉक्टर करेंगे। यदि दवाई की जरूरत पड़ी तो उसका खर्च पुलिस देगी।

खबरें और भी हैं...