• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • Yamunanagar
  • 60% Of The Deaths Are Happening In The Accidents Happening At 54 Points In The District, If The Officials Remove The Shortcomings Here, 70% Of The Accidents Can Be Less.

हादसों को लेकर यमुनानगर बदनाम:जिले में 54 पॉइंट पर हो रहे हादसों में 60% मौतें हो रही, अधिकारी यहां कमियां दूर करें तो 70% हादसे हो सकते हैं कम

यमुनानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सड़क हादसों को लेकर यमुनानगर बदनाम हैं। इसके पीछे यहां की सड़कों के वे 54 पॉइंट हैं, जिन्हें कई साल पहले सर्वे में तलाशा गया। पुलिस की रिपोर्ट के अनुसार एक जनवरी 2018 से 31 मार्च 2021 तक इन 54 पॉइंट पर 283 लोग सड़क हादसे में मारे गए। 479 घायल हुए। चौंकाने वाली बात है कि देश के सबसे बड़ी रोड इंजीनियरिंग एजेंसी एनएचएआई की रोड पर सबसे ज्यादा एक्सीडेंट पॉइंट हैं।

एनएच-73ए पर 12 और एनएच-344 पर 10। यानी 22 एक्सीडेंट पॉइंट एनएचएआई की रोड पर हैं। वहीं दूसरे नंबर पर अपनी स्टेट एजेंसियों के रोड आती हैं। अलग-अलग स्टेट हाईवे पर 18 एक्सीडेंट पॉइंट हैं और अन्य पर 14। 54 खूनी रोड पॉइंट हर दिन हादसे में जिंदगी लील रहे हैं। रोड सेफ्टी की मीटिंग में पुलिस की ओर से यह डाटा पेश किया गया। जिले में हर साल 130 से 180 लोगों की मौत सड़क हादसों में होती है।

70 प्रतिशत हादसे कम हो सकते हैं| रोड सेफ्टी एक्सपर्ट एडवोकेट सुशील आर्य की मानें तो अगर इन पॉइंट पर रोड सेफ्टी को लेकर नियम पूरे कर दिए जाएं तो 70 प्रतिशत हादसे कम किए जा सकते हैं। सर्वे में यह बात साफ हो चुकी है कि इन 54 पॉइंट पर सबसे ज्यादा हादसे हैं। इसलिए इन्हें ब्लैक स्पाॅट की संज्ञान दी गई है।

कई पॉइंप पर छोटी-छोटी कमियां

जिले में जिन 54 पॉइंट पर हादसे हो रहे हैं, अधिकारियों की जांच रिपोर्ट के अनुसार वहां पर छोटी-छोटी कमियां हैं। रेलवे ब्रिज चांदपुर के पास लोहे की ग्रिल टूटी है। लोग क्रॉस करते हैं तो हादसे होते हैं। इसी तरह से हरनौली में स्पीड ब्रेकर तो बना दिया, लेकिन पेेंट नहीं कराया। दूर से वाहन चालक को पता नहीं चलता कि आगे ब्रेकर है। इसी तरह से गांव गधौला के पास ब्रेकर बना दिया, लेकिन पेंट नहीं कराया।

वहीं कई जगह पर साइन बोर्ड तक नहीं हैं। वहीं कैट आई नहीं लगाई गई। कहीं पर ट्रैफिक लाइट लगी है, लेकिन वहां वह चालू नहीं है। इस तरह से चंद पैसा खर्च कर होने वाले काम भी अधिकारी नहीं करा पा रहे। जिसकी वजह से कीमती जिंदगी बर्बाद हो रही। बुधवार को हुई रोड सेफ्टी की मीटिंग में इन पॉइंट पर चर्चा नहीं हुई। बताया यह जा रहा है कि पहले जो लोग इन पॉइंट पर रोड सेफ्टी के लिए काम कर रहे थे उन्हें दरकिनार कर दिया गया। एक संस्था से जुड़े लोग जोड़ लिए गए। जिन्हें फिलहाल इनकी कोई जानकारी नहीं है ।

खबरें और भी हैं...