वेरिफिकेशन में उलझे पैसे:बीपीएल परिवारों को 3 माह से सरसों के तेल के पैसे का इंतजार, वेरिफिकेशन में फंसे

यमुनानगर4 महीने पहलेलेखक: धर्मेश पांडेय
  • कॉपी लिंक

प्रदेश के 27 लाख 4 हजार 855 बीपीएल परिवारों को पहले हर माह मिलने वाले सरसों के तेल के बदले पैसों का और इंतजार करना होगा। इनको मिलने वाले 250 रुपए वेरिफिकेशन में उलझ गए हैं। जब तक इन परिवारों के बैंक खातों के नंबरों की जांच पूरी नहीं हो जाती है, तब तक सरकार पैसे नहीं डालेगी। इनके खातों के नंबर चेक करने के निर्देश सीएम की ओर से जारी हुए हैं। डीएफएससी कुशल बूरा का कहना है कि सबके अकाउंट हेड ऑफिस में हैं। वहीं से वेरिफिकेशन का कार्य किया जाना है।

गौरतलब है कि सरसों के दाम बढ़ने के बाद तेल के रेट भी बढ़ गए थे। प्रति लीटर तेल की कीमत 160 रुपए तक पहुंच गई। डिपो पर तेल 20 रुपए लीटर की दर से दिया जा रहा था। तब सभी डिपो पर सरसों के तेल की सप्लाई रोक दी गई थी। इसकी एवज में 250 रुपए प्रति लाभार्थी परिवार के खाते में डालने की घोषणा की गई। मई से मिलने वाले ये पैसे अभी तक किसी के खाते में नहीं आए हैं। इधर, विभागीय अधिकारियों ने बताया कि बीपीएल कार्ड बहुत पहले बनाए गए थे। ऐसा पहली बार हो रहा है, जब सरकार की ओर से डिपो पर सामान नहीं भेजा जा रहा है। उसके बदले में पैसे देने की बात की जा रही है। किसी के खाते नंबर न बदल गए हों, इसलिए मिलान के लिए वेरिफिकेशन कराई जा रही है। अधिकारियों ने बताया कि दो दिन पहले ही बैंक खातों की वेरिफिकेशन का पता चला है।

परिवार बोले- सभी कागजात दे चुके हैं
बीपीएल परिवार से साजिदा, मोहन कुमार, मनोज ने बताया कि उनके बीपीएल कार्ड पहले से बने हैं, जिस वक्त उनके परिवार के पीले कार्ड बने थे। उस वक्त जो बैंक खाता नंबर था, वह लिख कर दिया था। इसके बाद उनका नंबर बदला भी नहीं है। बाद में आधार कार्ड मांगे थे। वह जमा करा दिए गए। अब फिर से खातों के नंबर जांच के नाम पर मांगना समझ नहीं आ रहा है। बीपीएल परिवार की संख्या भी अधिक है। ऐसे में जांच में काफी समय लग जाएगा। अभी न तो डिपो से तेल मिला है, न ही खाते में पैसे आए हैं। महंगे दाम में तेल खरीदना पड़ रहा है।

खबरें और भी हैं...