पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परशुराम चौक पर राजनीति:कांग्रेसी बाेले-भाजपा पार्षद ने ही 30 जून की मीटिंग में चाैक पर स्वागत द्वार का प्रस्ताव किया था पास

यमुनानगर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
यमुनानगर। आईटीआई समीप चौक बनाने में लगी लेबर को गाइड करते पीडब्ल्यूडी जेई। - Dainik Bhaskar
यमुनानगर। आईटीआई समीप चौक बनाने में लगी लेबर को गाइड करते पीडब्ल्यूडी जेई।
  • पहले तोड़ने को चलाई जेसीबी, अब एक्सईएन अपने खर्च पर बना रहे चौक

जिस चौक को 4 घंटे की मशक्कत कर पीडब्ल्यूडी ने दो जेसीबी से मदद से तोड़ा, अब उसी चौक को विभाग के एक्सईएन को अपने खर्च पर तैयार कराना पड़ रहा है। हालांकि डीसी के आदेश पर सोमवार को चौक तोड़ने की कार्रवाई के बाद शाम को मौके पर दोबारा निर्माण के लिए निर्माण सामग्री पहुंच गई थी, किंतु काम मंगलवार को लगा। साइट पर लगी लेबर को चौक निर्माण के लिए पीडब्ल्यूडी जेई गाइड करते रहे।

उधर, चौक के बनने-टूटने और दोबारा बनाने का मामला सोशल मीडिया से लेकर जगह-जगह नुक्कड़ पर चर्चा में रहा। वहीं, विपक्ष भी मामले में राजनीति होने के आरोप लगते हुए सामने आया। कांग्रेसी पार्षद ने आरोप लगाया कि चौक तोड़ने के विरोध में आए सी. डिप्टी मेयर व अन्य भाजपा पार्षद गुमराह कर रहे हैं, क्योंकि इनकी मौजूदगी में ही 30 जून की हाउस मीटिंग में चौक की जगह स्वागतद्वार का प्रस्ताव पास हुआ। समाज ने विरोध किया, तब ये लोग चौक टूटने के विरोध में आए।

पार्षद ही लाए चौक की जगह स्वागतद्वार का प्रस्ताव | वार्ड-13 से कांग्रेस पार्षद निर्मल चौहान ने आरोप लगाया कि चौक की जगह स्वागतद्वार का प्रस्ताव खुद वार्ड-21 के पार्षद ने 30 जून की हाउस मीटिंग में दिया। जिसे पास करते वक्त सी. डिप्टी मेयर व अन्य भाजपा पार्षद भी मौजूद थे। अब चौक तोड़ने पर समाज का विरोध देख सी. डिप्टी मेयर समेत भाजपा पार्षद भी उनके साथ आ गए। उन्होंने आरोप लगाया कि यह चौक पर हो रही दोहरी राजनीति है।

विपक्ष के आरोप गलत, स्वागतद्वार बनने पर चौक खुद हटा लेने पर हुए थे राजी | सी. डिप्टी मेयर प्रवीन शर्मा, वार्ड-21 से पार्षद प्रवीन शर्मा, वार्ड-10 से पार्षद पार्षद सुरेंद्र शर्मा ने कहा कि विपक्षी पार्षद के आरोप गलत हैं। यह सही है कि 30 जून की हाउस मीटिंग में चौक की जगह स्वागतद्वार का प्रस्ताव पास हुआ, पर इससे पहले मेयर व कमिश्नर से हुई बैठकों में समाज के प्रतिनिधि स्वागतद्वार बनने पर चौक खुद हटा लेने पर राजी हुए थे। किंतु पीडब्ल्यूडी ने स्वागतद्वार बनने से पहले ही चौक तोड़ने की कार्रवाई कर दी।

चौक के बनने-टूटने से लेकर दोबारा बनने तक | यहां भगवान परशुराम के नाम से चौक का प्रस्ताव 20 जून 2019 की हाउस मीटिंग में वार्ड-21 से पार्षद अभिषेक मोदगिल लाए। इसके मंजूर होने पर 20 जून 2020 को मेयर सहित वार्ड-21 व दूसरे वार्डों से ब्राह्मण समाज से जुड़े पार्षदों ने नींव रखी। चौक बनने पर सीएम विंडो पर कंप्लेंट हुई, जिसमें चौक के निर्माण के अवैध होने के आरोप थे।

जांच में पीडब्ल्यूडी अफसरों ने पाया कि चौक के लिए निगम ने एनओसी नहीं ली। तब निगम को चौक तोड़ने से पहले पीडब्ल्यूडी ने नोटिस दिए, पर जवाब नहीं आया। 19 अप्रैल को चौक तोड़ने की कार्रवाई समाज के लोगों के विरोध पर टल गई। गत सोमवार पीडब्ल्यूडी को फोर्स समेत ड्यूटी मजिस्ट्रेट मिले तो चौक तोड़ दिया गया। समाज के लोग डीसी के पास पहुंचे तो उन्हें डीसी ने स्पष्ट किया कि उन्होंने एक्सईएन को फोन कर कार्रवाई के लिए रोका था।

खबरें और भी हैं...