पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

15 घंटे में दो हादसे:बेटी की 29 को शादी, मां को ट्रक ने कुचला, रक्षक विहार नाके के पास कार की टक्कर से प्लम्बर की मौत

यमुनानगर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पति-पत्नी को ट्रक ने तो 22 वर्षीय रियासत को कार ने मारी टक्कर

शहर में 15 घंटे में दो हादसे हुए। रात 9-10 बजे रक्षक विहार नाके के पास अम्बाला रोड पर गोशाला कॉलोनी निवासी 22 साल के रियासत अली को कार ने टक्कर मार दी। उसकी मौत हो गई। रियासत का संस्कार भी नहीं हुआ था कि शहर में दूसरा हादसा हो गया।

महाराणा प्रताप चौक पर गांव खारवन निवासी 52 साल की कंवलजीत कौर और उसके पति पब्लिक हेल्थ विभाग से रिटायर्ड दर्शन सिंह की स्कूटी को गैस सिलेंडर लेकर जा रहे ट्रक ने टक्कर मार दी। इसमें कंवलजीत कौर राइट साइड में गिर गई और ट्रक का पहिया उनके ऊपर से निकल गया।

उसके पति लेफ्ट साइड में गिरने से बाल-बाल बच गए। यह हादसा सुबह 12 बजे हुआ। रियासत की मौत मामले में कार चालक पर जगाधरी शहर पुलिस ने तो कंवलजीत कौर की मौत मामले में शहर यमुनानगर थाना पुलिस ने ट्रक चालक पर केस दर्ज किया है।

रात को निकला था, कुछ देर बाद हादसा
जगाधरी की गोशाला कॉलोनी निवासी मृतक रियासत अली उर्फ गोल्डी के भाई अशरफ ने बताया कि उसका भाई प्लम्बर था। रात 9 बजे वह बाइक से जगाधरी गया था। इसी दौरान पता चला कि रक्षक विहार नाके के पास कार चालक ने उसकी बाइक को टक्कर मार दी। उसका भाई जमीन पर जा गिरा। वे मौके पर पहुंचे और भाई को अस्पताल ले गए। वहां डॉक्टर ने बताया कि इसकी मौत हो चुकी है।

छोटी बेटी के घर जा रहे थे तो हुआ हादसा
गांव खारवन निवासी दर्शन सिंह ने बताया कि उसकी छोटी बेटी की 29 जनवरी को शादी है। घर में शादी की तैयारियां चल रही हैं। शादी के संबंध में ही बड़ी बेटी के घर जाने के लिए निकले थे। इसी दौरान हादसा हो गया। उनका कहना है कि परिवार में शादी की खुशियां गम में बदल गई। ट्रक चालक ने पीछे से टक्कर मारी। ट्रक का पहिया पत्नी कंवलजीत कौर के ऊपर से निकल गया।

खुदाई कर मिट्टी डाली लेकिन सड़क नहीं बनी, हुआ हादसा
खारवन निवासी दर्शन सिंह पत्नी कंंवलजीत को स्कूटी पर लेकर बेटी जसविंद्र कौर के घर चांदपुर जा रहे थे। कमानी चौक पर रेड लाइट हो रही थी। वहां रोड टूटा है। दोपहिया वाहन चालक यहां नियंत्रण खो देते हैं। पिछले दिनों निगम की ओर से इस चौक से सीवरेज लाइन दबाई गई लेकिन यहां अब तक रोड नहीं बनाया गया। मिट्टी डाल दी गई जिससे यहां रास्ता उबड़-खाबड़ है। मंगलवार को हुए हादसे की एक वजह ये भी बना।

रोड सेफ्टी पर अधिकारियों ने काम नहीं किया
जिले में रोड सेफ्टी को लेकर सिर्फ अधिकारी मीटिंग कर रहे हैं। मीटिंग से आगे काम नहीं किया जा रहा है। मीटिंग लेने वाले अधिकारी भी संबंधित विभाग के अधिकारी से काम नहीं करा पा रहे हैं। रक्षक विहार नाका के पास जहां हादसा हुआ है, यह रोड चौड़ा होना है। दो साल से इस पर काम चल रहा है लेकिन आज तक पूरा नहीं हुआ।

रोड इसलिए चौड़ा किया जा रहा है, इस पर काफी हादसे होते हैं। वहीं कमानी चौक के पास सीवरेज लाइन दबाने के नाम पर सड़क उखाड़ दी गई लेकिन सड़क दोबारा करने की बजाए मिट्टी डाल दी जिससे कच्चे रास्ते से भी ज्यादा हालात बदतर यहां पर हैं इसलिए कहना गलत नहीं है कि हादसे इसलिए हो रहे हैं कि अधिकारी हादसे रोकने के लिए काम नहीं कर रहे।

कार चालक को पकड़ कर मृतक के परिजन अस्पताल पहुंचे, वहां से चालक गायब, परिजनों ने किया हंगामा
अशरफ ने बताया कि रात को जब हादसा हुआ तो वे मौके पर पहुंचे। वहां कार चालक भी था। वे उसे पकड़ कर और अपने भाई को गंभीर हालत में पकड़ कर जगाधरी सिविल अस्पताल ले गए। वहां पुलिस के हवाले चालक को कर दिया था। इसके बाद पुलिस ने चालक को अस्पताल के एक कमरे में बैठा दिया। वहीं पुलिस उनके बयान लेने लग गई।

इसके बाद चालक वहां से गायब मिला। उनका आरोप है कि जान-बूझकर चालक को वहां से भगाया गया। इस दौरान वहां पहुंचे पुलिसकर्मी के साथ कहासुनी भी हुई। इस दौरान पुलिसकर्मी कहने लगा कि चालक को वे तलाशते हैं, लेकिन चालक नहीं मिला। इस पर वहां काफी देर तक हंगामा होता रहा।

बाद में जब पुलिस ने सुबह पोस्टमार्टम के लिए परिजनों के बयान लिए तो तभी भी परिजन इसी बात पर अड़े रहे कि चालक को क्यों भगाया गया। उन्होंने यह बात बयानों में लिखने को पुलिस को कहा। बाद में सब इंस्पेक्टर भूपेंद्र राणा ने परिजनों को समझाया और कहा कि जो बयान परिजन देंगे, उसके अनुसार कार्यवाही की जाएगी। इस पर मृतक के परिजन शांत हुए।

हादसे की दो बड़ी वजह
रोड चौड़ा होने का काम दो साल से लटका

महाराणा प्रताप चौक पर सीवरेज लाइन दबाने के बाद रोड बनाया होता तो हादसा न होता

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यस्तता के बावजूद आप अपने घर परिवार की खुशियों के लिए भी समय निकालेंगे। घर की देखरेख से संबंधित कुछ गतिविधियां होंगी। इस समय अपनी कार्य क्षमता पर पूर्ण विश्वास रखकर अपनी योजनाओं को कार्य रूप...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser