निगम के ऑनलाइन प्रॉपर्टी बिल में गड़बड़ी:प्रॉपर्टी असेस्मेंट फार्म में गड़बड़ी, सरकारी संपत्ति के घरों में थमा दिए बिल, लोग परेशान

यमुनानगर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • फार्म में टैक्स राशि देखकर चकराए लोग, निगम जाकर भी नहीं मिल रहा संतोषजनक जवाब

नगर निगम की ओर से निगम में शामिल किए गांवों में प्रॉपर्टी असेस्मेंट फार्म दिए जा रहे हैं। कंपनी कर्मियों की ओर से सर्वे के दौरान गड़बड़ी की गई। हरियाणा सरकार की संपत्ति के फार्म घरों में जाकर थमा रहे। इनमें टैक्स राशि देखकर लोग चकरा रहे हैं। उसे ठीक कराने के लिए निगम के चक्कर लगा रहे हैं। मेयर मदन चौहान का कहना है कि यह फार्म फाइनल नहीं है। इसे ठीक कराया जा सकता है। इसलिए परेशान होने की जरूरत नहीं है।

निगम में शामिल बूड़िया निवासी मोहन कुमार ने बताया कि उनके यहां निगम की ओर से प्रॉपर्टी असेस्मेंट फार्म दिया गया। इस फार्म में उनकी जगह ज्यादा दिखाई गई। उनके यहां दुकान दिखाई उसमें शौचालय जबकि उनके यहां दुकान में कोई शौचालय नहीं है। इसके साथ ही घर का कवर एरिया 210 दुकान का 510 स्क्वेयर फीट दिखाया गया है। जब वह उसके लेकर निगम में गए तो कंपनी कर्मी ने उन्हें बताया कि यह प्रॉपर्टी हरियाणा सरकार की है। निगम से ऑनलाइन प्रॉपर्टी बिल दिखा गया तो उसमें उनकी ओर 55 हजार 210 का टैक्स पेंडिंग दिखाया। बाद में जब उनकी प्रॉपर्टी का बिल सामने आया तो उसमें एडवांस टैक्स जमा था। 700 रुपए निगम में पहले से ही टैक्स में जमा है। इसे दुरुस्त करने के लिए कंपनी की साइट पर डाला गया है।

कई की प्रॉपर्टी कर दी गायब| मंगत राम ने बताया कि उनकी जगाधरी और बूड़िया में 17 से 18 दुकानें हैं। निगम ने कंपनी से जो सर्वे कराया है। उसमें उनकी आधी दुकानें गायब दिखा दी गई हैं। इन दुकानों को निगम में चढ़ाने के लिए चक्कर लगाने पड़ रहे हैं। इसी तरह उनके घर की रजिस्ट्री पुश्तैनी है। इसका टैक्स फार्म गलत दिखाया गया है।

उनकी दुविधा यह है कि वह अपने घर के टैक्स को ठीक कराने के लिए प्रूफ के तौर पर क्या दस्तावेज दिखाए। वहीं, जगाधरी पथरोवाला बाजार निवासी सादिक, सोनिया, राजबीर ने बताया कि उनके मकान की रजिस्ट्री नहीं है। अब उनकी रजिस्ट्री हो जाएगी। उनके पास निगम ने प्रूफ के तौर पर फार्म भेजा है। इस पर लिखा है कि अगर कोई आपत्ति है तो वह दावा प्रस्तुत कर सकता है। इसके लिए पहले से ही रजिस्ट्री होनी जरूरी है। जबकि ग्रामीण से शहरी बने लोग इसको अपनी प्रॉपर्टी आईडी का प्रूफ मान रहे हैं।

खबरें और भी हैं...