पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सिविल अस्पताल:पेशेंट वार्ड में बिजली न होने से पंखे नहीं चले, अधिकारियों के खाली कमरों में एसी चलता रहा

यमुनानगर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
यमुनानगर। बिजली न होने पर मरीज़ के परिजन े पंखे से हवा देते, अस्पताल के प्रशासनिक ब्लॉक में चल रहे एसी। - Dainik Bhaskar
यमुनानगर। बिजली न होने पर मरीज़ के परिजन े पंखे से हवा देते, अस्पताल के प्रशासनिक ब्लॉक में चल रहे एसी।

सिविल अस्पताल में पेशेंट बेहाल हैं। यहां पर मंगलवार को सुबह से लाइट नहीं थी। यह लाइट सिर्फ मरीजों के लिए नहीं थी। विभाग के अधिकारियों के लिए नहीं। वार्ड में भर्ती मरीज गर्मी से बेहाल रहे। उनके परिजन कपड़े और हाथ के पंखे से हवा करते रहे लेकिन इसी बीच स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की कुर्सियां एसी की हवा लेती रही। सिविल अस्पताल यमुनानगर के ट्रॉमा सेंटर की बिल्डिंग में अस्पताल और प्रशासनिक ब्लॉक है। मंगलवार को सुबह से अस्पताल में लाइट कट रहा और प्रशासनिक ब्लॉक में लाइट चलती रही। दोपहर करीब तीन बजे अस्पताल में बिजली की सप्लाई शुरू हुई।

वहीं अस्पताल प्रशासन ने इसकी सूचना बिजली निगम के अधिकारियों तक को नहीं दी क्योंकि फाॅल्ट अस्पताल से बाहर लाइन में नहीं बल्कि अस्पताल के अंदर कहीं लाइन में था। सीएमओ डॉक्टर विजय दहिया का कहना है कि दोपहर को जैसे ही उन्हें पता चला कि ट्रॉमा सेंटर में लाइट नहीं है तो तुरंत इस पर एक्शन लिया गया। उसे ठीक करने के पीएमओ और अन्य अधिकारियों को निर्देश दिए थे जिसके बाद अस्पताल की लाइट ठीक कर दी गई। उधर, बिजली निगम के एक्सईएन सुखविंद्र सिंह का कहना है कि उनके पास कोई शिकायत अस्पताल प्रशासन की तरफ से नहीं आई। अगर आती तो तुरंत टीम भेजी जाती क्योंकि अस्पताल हाॅट लाइन पर है।

न ऑपरेशन हुआ और न ही एक्सरे हुए| लाइट न आने से पेशेंट को तो दिक्कत आई ही साथ में ओपीडी के डॉक्टरों को भी परेशानी झेलनी पड़ी। उन्हें कमरे के दरवाजे पर बैठाकर मरीजों को चेकअप किया ताकि गर्मी से कुछ राहत मिल सके। वहीं ऑपरेशन नहीं हो पाए। वहीं एक्सरे मशीन तक नहीं चली। यहां तक कि ट्रॉमा सेंटर की इमरजेंसी तक में लाइट नहीं थी। इमरजेंसी की स्लिप तक नहीं कट पाई। इस तरह से मरीजों को इलाज तो मिला लेकिन पूरा नहीं।

सीएमओ, पीएमओ व अन्य कर्मियों के कमरे में चलते रहे एसी

जब ट्रॉमा सेंटर में बिजली न होने से मरीज बेहाल थे, तब एडमिन ब्लॉक में हर तरफ एसी चल रहे थे। दोपहर पौने एक बजे न सीएमओ रूम में थे और न ही पीएमओ लेकिन दोनों के कमरों में एसी चल रहे थे। पूरा कमरा खाली था। इसी तरह से अन्य एरिया में भी कई जगह कर्मी नहीं थे लेकिन वहां पर पंखे और ऐसी चल रहे थे।

खबरें और भी हैं...