स्ट्रीट लाइट्स की जांच पर उठे सवाल / जांच के लिए गठित एसआईटी में चेयरमैन से लेकर सदस्य तक भाजपा के, दो ऐसे, जो शिकायतकर्ता

X

  • जांच कमेटी शहर में लगाई स्ट्रीट लाइट्स में बता चुकी बड़ी गड़बड़ी, 8 हजार स्ट्रीट लाइट्स के टेंडर हुए थे
  • ठेकेदार बोले-कुछ लोग अपने फायदे के लिए रच रहे साजिश, 40 लाख पेमेंट आज तक फंसी

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

यमुनानगर. नगर निगम में सत्ताधारी पार्टी किस तरह से हावी रहती है, यह शहर में लगाई स्ट्रीट लाइट्स की जांच के लिए बनाई जांच कमेटी से पता चलता है। कमेटी में पांच लोग शामिल किए है। जिसमें चेयरमैन से लेकर चारों सदस्य भाजपा से हैं। वहीं दो तो ऐसे हैं जिन्होंने जांच कमेटी गठित होने से चंद दिन पहले स्ट्रीट लाइट्स को लेकर नगर निगम कमिश्नर को शिकायत दी थी। उन्होंने शहर में लगाई गई स्ट्रीट लाइट्स की जांच की मांग की थी। इस पर निगम कमिश्नर ने 25 मार्च 2020 को जो जांच कमेटी बनाई उसमें उन्हें ही जगह दे दी। कमेटी में नॉन टेक्नीकल लोगों ने जांच की। हालांकि उनका दावा है कि इसमें बड़े स्तर पर गड़बड़ी पाई गई। अभी कमेटी की ओर से जांच रिपोर्ट नहीं दी गई है। वहीं इस मामले में मेयर मदन चौहान कह चुके हैं कि रिपोर्ट के आधार पर वे एक्शन लेंगे। वहीं ठेकेदार ने आरोप लगाया है कि गड़बड़ी तो जांच कमेटी बनाने और जांच करने में हुई है। इसे लेकर वे कानूनी लड़ाई लड़ेंगे। इस तरह से स्ट्रीट लाइट्स को लेकर सत्ता पक्ष और ठेकेदार आमने-सामने नजर आ रहे हैं। उधर, नगर निगम कमिश्नर धर्मवीर सिंह का कहना है कि जांच कमेटी निष्पक्ष बनाई गई है। 

कमिश्नर ने इन लोगों की बनाई थी कमेटी| निगम कमिश्नर ने 25 मार्च ने जांच कमेटी बनाने को लेकर लेटर जारी किया था। जिसमें उन्होंने लिखा है कि संज्ञान में आया है कि नगर निगम यमुनानगर-जगाधरी द्वारा साल 2019 में दिए गए स्ट्रीट लाइट्स के ठेके में कुछ धांधली की गई। धांधली की जांच के लिए कमेटी बनाई जाती है। इसमें वार्ड दस से पार्षद सुरेंद्र शर्मा कमेटी के अध्यक्ष होंगे। वहीं डॉ. हर्ष शर्मा, गिरीश पुरी, नरेंद्र गुप्ता और कृष्ण गुप्ता सदस्य होंगे। तब कमेटी को सात दिन में जांच करने का समय दिया गया था। डॉ. हर्ष और गिरीश पुरी शिकायतकर्ता हैं। 
आठ हजार स्ट्रीट लाइट का टेंडर हुआ था| नगर निगम ने शहर में आठ हजार स्ट्रीट लाइट्स लगाने काे दो कंपनियों को टेंडर दिया। एक को छह हजार और दूसरी कंपनी को दो हजार लाइट्स लगानी थी। करीब पौने चार करोड़ रुपए का टेंडर था। एक कंपनी 2300 लाइट्स लगा चुकी है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना