पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कचरा निपटान की प्रक्रिया:जींद व फरीदाबाद की फर्म का प्रति एमटी 1900 रेट मंजूरी के लिए निदेशालय भेजा

यमुनानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 11-11 वार्ड के दो जोन में बांट घरों से कचरा लेकर उसकी छंटाई से निपटान प्रक्रिया होगी आउटसोर्स

शहर में घरों से कचरा उठाकर उसकी छंटाई से निपटान की प्रक्रिया पूरी तरह आउटसोर्स होने जा रही है। इसके लिए वार्ड-1 से 11 व 12 से 22 के दो जोन बनाए गए हैं। दोनों में अलग-अलग दो फर्में घरों से कचरा उठाकर उसकी छंटाई व निपटान करेंगी। हालांकि इसके लिए अक्टूबर-2020 में टेंडर कॉल हुए थे, जो रद्द हो गए थे क्योंकि इसी टेंडर को दिलाने के नाम पर रिश्वत लेने के आरोप सीएसआई अनिल नैन पकड़े गए थे।

दोबारा टेंडर कॉल करने पर नौ फर्मों से बिड आई, जिनमें नियम-शर्तों पर खरी उतरी श्रीश्याम एसोसिएट जींद व क्लासिक मैन पावर फरीदाबाद टेंडर के प्रति एमटी (मीट्रिक टन) 1900 रुपए रेट को निदेशालय भेज दिया गया। जहां से मंजूरी मिलते ही दोनों फर्मों को वर्क अलॉट होगा। अफसरों की मानें तो एक मार्च तक वर्क अलॉट की संभावना है।

बता दें कि पहले नगर निगम यमुनानगर-जगाधरी की इंजीनियरिंग ब्रांच अफसरों ने अपने स्तर पर एस्टिमेट तैयार किए थे जो 11-11 वार्ड में बंटे एक जोन के लिए 7.12 व दूसरे में 7.21 करोड़ था। इस एस्टिमेट पर निदेशालय ने मंजूरी न देकर टेंडर कॉल कर सामने से फर्मों के रेट मांगने के निर्देश दिए। इस पर 27 अक्टूबर को दोनों जोन के लिए अलग-अलग दो टेंडर कॉल किए, जिसमें 6 फर्मों से बिड आई थी। टेक्निकल बिड ओपनिंग पर टेंडर दिलाने के नाम पर रिश्वत लेने के आरोप में सीएसआई अनिल नैन को विजिलेंस ने पकड़ा था। आरोप टेंडर में हिस्सेदार ठेकेदार जिंदल कुमार की ओर से था।

पूरी सर्विस आउटसोर्स होने पर नगर निगम को ये फायदे {एक साल के लिए यह काम जिन दो फर्मों को अलॉट होगा, उन्हें निगम अपने 60 में से 30-30 टिपर के अलावा डंपर, जेसीबी व अन्य मशीनरी दोनों जोन के लिए रेंट पर देगा। इन्हें रेंट पर लेने की अनिवार्य शर्त है। {फर्मों को घरों से कचरा लेकर उसे खत्म भी करना है, इसके लिए उसे एमआरएफ (मेटीरियल रिकवरी फेसिलिटी) सेंटर की जरूरत होगी। निगम कई एमआरएफ सेंटर बना चुका है, जिन्हें फर्मों को रेंट पर देगा अन्यथा फर्मों को निगम से जमीन लीज पर लेकर एमआरएफ सेंटर बनाने होंगे। {घरों से कचरा लेने से निपटान तक काम फर्मों के हवाले हो जाने से टिपर पर खर्च हो रहे तेल से लेकर रिपेयर वर्क पर खर्च व स्टाफ के वेतन की बचत होगी। साथ ही निगम के पास सिर्फ नाले-नालियों व गलियों-सड़कों की सफाई का काम रह जाएगा। {फर्मों को काम के बदले नगर निगम उनके दिए रेट के हिसाब से पेमेंट करेगा। इस सर्विस के बदले में पब्लिक से यूजर चार्जेस लेगा।

^जींद व फरीदाबाद से दो फर्में नियम व शर्तों पर खरी थीं, जिनके 1900-1900 प्रति मीट्रिक टन रेट को अप्रूवल के लिए निदेशालय भेज दिया है। मंजूरी मिलने पर काम शुरू होगा। विकास बाल्याण, एक्सईएन, नगर निगम।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज समय कुछ मिला-जुला प्रभाव ला रहा है। पिछले कुछ समय से नजदीकी संबंधों के बीच चल रहे गिले-शिकवे दूर होंगे। आपकी मेहनत और प्रयास के सार्थक परिणाम सामने आएंगे। किसी धार्मिक स्थल पर जाने से आपको...

    और पढ़ें