प्रवचन:प्रभु परमेश्वर निराकार होते हुए भी सभी आकारों का आधार है : ग्रोवर

यमुनानगरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

संत निरंकारी भवन के मुुखी पवन ग्रोवर ने ऑनलाइन बताया कि निरंकार प्रभु परमेश्वर इन्सान का वास्तविक स्वरूप है। निराकार होते हुए भी यह सभी आकारों का आधार एवं कारण भी है। एक गुरसिख के लिए भक्ति का मुख्य आधार केवल सद्गुरु निरंकार ही है।

पारस के सम्पर्क में आने से साधारण लोहा भी सोने में परिवर्तित हो जाता है, पारस की प्रमाणिकता भले ही सन्देह के घेरे में हो सकती है परंतु समय का सद्गुरु असंख्य लोगों की जिंदगी को बदल देने का सामर्थ्य रखता है। वर्तमान समय या इतिहास का जिक्र किया जाए तो इंसान अपने ही कर्म से अपने ही पतन का कारण बनता चला जा रहा है, अंधकार की तरफ अग्रसर हो रहा है लेकिन सद्गुरु का अवतरण जनकल्याण के लिए होता है, इसलिए जब कोई इन्सान सद्गुरु की शरण में पूर्ण श्रद्धा सहित समर्पित होता है। तब सद्गुरु उसे अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाते हैं, इन्सान के अवगुणों को दूर करके अच्छाई की तरफ, नेक कर्मों की तरफ इंसान का रुख कर देते हैं।

सद्गुरु की शरण में इंसान को दंड के बदले सुधरने का अवसर मिलता है, इसलिए सद्गुरु का स्थान सर्वोपरि है, लेकिन पूर्ण सद्गुरु का यह गुण है कि वह अपना नाम नहीं लेता अपितु निरंकार परमेश्वर के नाम पर यह उपकार जीवों पर निरंतर करता है।

खबरें और भी हैं...