पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

महात्मा गांधी की 150वीं जयंती:प्राचीन प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति को जीवन का हिस्सा बनाएं : डॉ. दहिया

यमुनानगर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सिविल अस्पताल में वीरवार को महात्मा गांधी की 150वीं जयंती एवं प्राकृतिक चिकित्सा दिवस के उपलक्ष्य में सिविल सर्जन कार्यालय में रिटर्न टू नेचर विषय पर आरोग्य भारती व स्वामी विवेकानंद योग सेवा संस्थान की ओर से कार्यक्रम हुआ।

सिविल सर्जन डॉ. विजय दहिया ने बताया कि प्रकृति पंचमहाभूत तत्वों से मिलकर बनी है। जिसमें मिट्टी, पानी, धूप, हवा व आकाश तत्व आते हैं। हमारा शरीर भी इन्ही पंच तत्वों से मिलकर बना है। इसके संतुलित होने से हम स्वस्थ रहते हैं। असंतुलित होने से बीमार पड़ जाते हैं। इसलिए हम सब को प्रकृति की ओर लौटना चाहिए। प्रकृति के नियमों का पालन करना चाहिए।

प्राचीन प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति को अपने जीवन का हिस्सा बनाना चाहिए। उचित मात्रा में जल का सेवन करें, खुली हवा में लंबे गहरे सांस लें। सप्ताह में एक दिन साबुन के स्थान पर मिट्टी का लेप लगाकर स्नान करें। कुछ देर धूप का भी सेवन करें।

सप्ताह में एक दिन शरीर को हल्का रखने के लिए उपवास अवश्य करें। इसे हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति सशक्त बनी रहेगी। हम आयुष विभाग के योग विशेषज्ञ डाॅ. शिव कुमार सैनी ने बताया कि प्राकृतिक चिकित्सा जीवन जीने की एक वैज्ञानिक पद्धति है।

यह चिकित्सा पद्धति 10 सिद्धांतों पर कार्य करती है और समस्त रोगों का कारण शरीर में विद्यमान विजातीय द्रव्य को मानती है। जिसको पंच महाभूत तत्वों की सहायता से बाहर निकालकर मनुष्य स्वस्थ शरीर प्राप्त कर सकता है। माैके पर चिकित्सा अधीक्षक डाॅ. सुनील कुमार, डाॅ. पुनीत कालड़ा व डाॅ. वागीश माैजूद रहे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थिति तथा समय में तालमेल बिठाकर कार्य करने में सक्षम रहेंगे। माता-पिता तथा बुजुर्गों के प्रति मन में सेवा भाव बना रहेगा। विद्यार्थी तथा युवा अपने अध्ययन तथा कैरियर के प्रति पूरी तरह फोकस ...

और पढ़ें