पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

नौ माह से हाउस मीटिंग नहीं:मेयर व भाजपा पार्षदों ने करोड़ों के एस्टिमेट किए पास, सहमति न लेने पर उखड़ा विपक्ष

यमुनानगर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना तो कभी कमिश्नर की ट्रांसफर का बहाना
  • इनेलो व कांग्रेसी पार्षद बोले- बैकडोर से पास कामों पर बिना जवाबदेही मनमानी की मिली छूट

9 माह से नगर निगम यमुनानगर-जगाधरी की हाउस मीटिंग नहीं हुई। डेढ़ साल में 7 जनवरी को हुई तीसरी मीटिंग के बाद कोरोना तो कभी कमिश्नर की ट्रांसफर का बहाना कर मीटिंग स्थगित हुई। हालांकि नगर निगम कार्यालय में अन्य मीटिंग व कार्यक्रम हो रहे हैं, वहीं अब कमिश्नर की ट्रांसफर रुकने पर भी मीटिंग का कोई प्लान नहीं है। विपक्षी पार्षदों का आरोप है कि हाउस में भाजपा को बहुमत है, इसका फायदा उठाते हुए मेयर व भाजपा पार्षद बिना मीटिंग के भी करोड़ों के एस्टिमेट पास कर रहे हैं।

इनमें सहमति न लेने पर उखड़े कांग्रेसी व इनेलो पार्षदों का आरोप है कि बैकडोर से पास हो रहे कामों के एस्टिमेट से लेकर टेंडर व वर्क अलॉटमेंट में भी जवाबदेही नहीं रही। कांग्रेस से वार्ड-4 से देवेंद्र सिंह ने कहा कि विपक्षी पार्षदों के वार्डों में पहली मीटिंग में पास 50-50 लाख के काम नहीं हुए। जबकि बैकडोर से हाउस में बहुमत का फायदा उठाकर मेयर व भाजपा पार्षद अपने वार्डों में करोड़ों के काम प्रस्तावों पर साइन कर पास कर रहे हैं।

बिना चर्चा मंजूर इन कामों में एस्टिमेट से टेंडर व वर्क अलॉटमेंट प्रक्रिया अफसरों व ठेकेदारों मुताबिक हो गई है, जिससे उन्हें मनमानी की छूट मिल गई है। कमिश्नर से इन कामों की जांच व प्रक्रिया को पारदर्शी कर मीटिंग कराने की मांग होगी। वहीं, वार्ड-8 से इनेलो समर्थित पार्षद विनोद मरवाह ने कहा कि हाउस मीटिंग छोड़ नगर निगम में कई मीटिंग व कार्यक्रम हो रहे हैं। हाउस मीटिंग में काेराेना तो कभी कमिश्नर की ट्रांसफर का बहाना कर कामों में देरी व मनमानी पर अफसर जवाबदेही से बच रहे हैं।

1. शहर में चार एंट्री गेट
निगम की सीमा पर चार एंट्री पॉइंट पर महर्षि वाल्मीकि, संत रविदास, गुरु गोबिंद सिंह व यमुनाद्वार नाम से गेट लगने हैं। जो अम्बाला-जगाधरी, कुरुक्षेत्र-यमुनानगर, सहारनपुर-यमुनानगर व जगाधरी-पौंटा मार्ग पर होंगे। ये प्रस्ताव हाउस मीटिंग में पास हुआ, तब चर्चा में कांग्रेसी व इनेलो पार्षद भी थे, किंतु इसके लिए तैयार 1.99 करोड़ के एस्टिमेट के प्रस्ताव को मेयर व भाजपा के 14 व एक कांग्रेसी पार्षद के साइन कर पास कर दिया गया है। अन्य कांग्रेसी व इनेलो पार्षदों की सहमति नहीं ली, जिनका आरोप है कि एस्टिमेट में गड़बड़ हुई है। क्योंकि पहले हर गेट की 35 से 40 लाख लागत बताकर डेढ़ करोड़ खर्च का अनुमान था, जिसे 1,99,27,700 रुपए कर दिया गया।

2. 69 कॉलोनियों में पक्की गलियां-नालियां
दो साल पहले वैध हुईं 69 कॉलोनियों में 22.44 करोड़ से पक्की गलियां-नालियां बननी हैं। इसके लिए सिंगल टेंडर के विरोध पर टुकडों में टेंडर के लिए वेबकोस से एस्टिमेट बनकर आए हैं। इनमें गड़बड़ी के आरोप में भाजपा से ही वार्ड-20 से पार्षद प्रतिनिधि नीरज राणा ने सीएम विंडो व निकाय मंत्री विज को भेजी शिकायत में कहा कि वे गलियां भी एस्टिमेट में हैं, जो पहले ही बनकर तैयार हैं। तैयार गलियों के एस्टिमेट पर लाखों खर्च बर्बाद कर उनके दोबारा टेंडर कर ठेकेदार को पेमेंट करने के शक में जांच की मांग की। बावजूद इसके प्रसार के माध्यम से तैयार एस्टिमेट पर प्रस्ताव मेयर व भाजपा के 14 पार्षदों ने साइन कर सहमति दी है।

4 एंट्री गेट का प्रस्ताव हाउस मीटिंग से ही पास है। बाकी काम भी नियमानुसार पास हो रहे हैं। हाउस मीटिंग के लिए 28 अक्टूबर की तारीख तय की है। -मदन चौहान, मेयर, नगर निगम।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- किसी अनुभवी तथा धार्मिक प्रवृत्ति के व्यक्ति से मुलाकात आपकी विचारधारा में भी सकारात्मक परिवर्तन लाएगी। तथा जीवन से जुड़े प्रत्येक कार्य को करने का बेहतरीन नजरिया प्राप्त होगा। आर्थिक स्थिति म...

और पढ़ें