पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खनन माफिया:धनौरा गांव में खनन माफिया ने तोड़ा कांडी परियोजना का बांध

बिलासपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • ग्रामीण बोले-जल्द मरम्मत नहीं हुई तो शुरू हो जाएगा भूमि कटाव

धनाैरा गांव में कांडी परियोजना की ओर से सिंचाई के लिए बनाया डैम तोड़ने से लोगों में रोष है। उनका आरोप है कि सोमनदी में खनन कर रही एक कंपनी के लोगों ने उसे मशीन से इसे तोड़ा है। अाराेपी हिमाचल पुलिस के आने पर पोकलेन सहित भागने में कामयाब हाे गए। घाड़ क्षेत्र का गांव धनौरा हिमाचल की सीमा से सटा है।

गांव में सिंचाई के लिए कांडी परियोजना के तहत 1997 में सोमनदी पर तटबंध बनाया गया था। जिससे पानी को रोक कर सिंचाई के काम में लिया जाता था। इससे धनौरा गांव की सैकड़ाें एकड़ जमीन की सिंचाई की जाती है। ग्रामीण जसबीर सिंह, होशियार सिंह ने बताया कि शुक्रवार रात एक कंपनी के कारिंदों ने पोकलेन मशीन की मदद से तटबंध की करीब सौ फीट दीवार को उखाड़ दिया। जिससे तटबंध पूरी तरह से टूट गया। रात में ही सीमा पर लगे पुलिस नाके से हिमाचल पुलिस मौके पर पहुंंची। इससे पहले आरोपी फरार हो गए। सुबह ग्रामीणों ने मामले की सूचना पुलिस, वन विभाग व सिंचाई विभाग को भी सूचना दी गई।

खनन में आसानी हो इसलिए तोड़ा बांध|ग्रामीणों का कहना है कि खनन माफिया ने इस नीयत से बांध को उखाड़ा है कि नदी से मलबा बहकर पानी के साथ आगे धनौरा गांव की सीमा में आ जाए ताकि उन्हें रेत व अन्य सामग्री निकालने में आसानी हो। हिमाचल के देववाला के लोगों का कहना है कि यदि बांध को जल्द ठीक नही किया गया तो सोमनदी के पानी के साथ मिट्टी का कटाव शुरू हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...