राय / केंद्रीय राज्य मंत्री कटारिया को एमएलए अरोड़ा का सुझाव-प्लाइवुड फैक्ट्रियों में कच्चे माल के लिए खुले लक्कड़ मंडी

MLA Arora's suggestion to Union Minister of State Katariya - open lumber market for raw materials in plywood factories
X
MLA Arora's suggestion to Union Minister of State Katariya - open lumber market for raw materials in plywood factories

  • केंद्रीय मंत्री रतनलाल कटारिया ने अफसरों के साथ समीक्षा बैठक कर जाने कोरोना को लेकर जिले के हालात

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

यमुनानगर. केंद्रीय सामाजिक, न्याय अधिकारिता एवं जलशक्ति राज्यमंत्री रतनलाल कटारिया ने डीसी ऑफिस में प्रशासनिक अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक कर कोरोना को लेकर जिले के हालात जाने। मीटिंग में शिक्षामंत्री कंवरपाल, विधायक घनश्याम अरोड़ा व मेयर मदन चौहान व डीसी मुकुल कुमार व एसपी हिमांशु गर्ग व अधिकारी शामिल रहे।

मीटिंग से पहले केंद्रीय मंत्री ने राधास्वामी सत्संग भवन तेजली में प्रवासियों को दी जा रहीं सुविधा की जानकारी ली। बैठक में डीसी मुकुल कुमार ने केंद्रीय मंत्री रतनलाल कटारिया को जिले में कोरोना वायरस व लॉकडाउन-4.0 के बारे रिपोर्ट दी। उन्होंने बताया कि जिले में फिलहाल कोई सक्रिय कोरोना का मरीज नहीं है। पांच कंटेंमेंट जोन जिले में बने हैं। जल्द 28 दिन का क्वारेंटाइन काल पूरा होने पर इन्हें भी खोल दिया जाएगा। शिक्षामंत्री कंवरपाल ने कहा कि राष्ट्रहित में सामाजिक दूरी बनाने व मास्क लगाने केे लिए सभी धर्म गुरुओं के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जाए।

विधायक घनश्याम अरोड़ा ने केंद्रीय मंत्री को सुझाव दिया कि प्लाइवुड के फैक्ट्रियां चालू हो गई हैं, लेकिन कच्चे माल के लिए लक्कड़ मंडी खुलनी चाहिए जिससे कच्चा माल फैक्ट्रियों को मिल सके। बैठक के दौरान केंद्रीय मंत्री ने सिविल सर्जन को निर्देश दिए कि जिले में आईईसी के कार्यों काे बढ़ाएं व जागरुकता फैलाने का कार्य करें। इसके साथ ही उन्होंने निर्देश दिए कि जहां भी बॉयोवेस्ट उत्पन्न होता है, वहां इसका पूर्ण निपटान कराया जाए।

जिले में चालू हुईं 1932 फैक्ट्रियों में 88 हजार मजदूर कर रहे काम: डीसी ने बताया कि जिले में 1932 फैक्ट्रियां चालू हो गई हैं, जिनमें 88 हजार मजदूर काम कर रहे हैं। 
अब तक जिले से 2715 सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे गए, जिनमें आठ मरीजों की रिपोर्ट पाॅजिटिव आई। जो उपचार के बाद ठीक हो गए तथा पुन: की गई जांच में रिपोर्ट निगेटिव आने पर उनकी अस्पताल से छुट्टी कर दी गई थी। इनमें एक मरीज गुर्दे की बीमारी के कारण डायलिसिस पर भी है। वर्तमान में भी सभी स्वस्थ स्थिति में हैं तथा इनके 180 संपर्क वालों की भी जांच कराई गई, जो निगेटिव आई।

मोबाइल कैंपों में 1.22 लाख 603 की जांच कर दिया उपचार: सिविल सर्जन

 सिविल सर्जन डॉ. विजय दहिया ने बताया कि जिले में 28 टीमों ने रोडवेज बसों से विभिन्न जगहों पर जाकर अन्य बीमारियों के मरीजों का निरीक्षण व उपचार भी कर रही हैं। 28 टीमों में 10 शहरी क्षेत्र में व 18 ग्रामीण क्षेत्रों में हैं। 14 अप्रैल 2020 से शुरू हुए इन मोबाइल कैंपों में अभी तक 1.22 लाख 603 मरीजों का निरीक्षण व उपचार हुआ। इनमें 45 हजार 762 व्यक्ति सामान्य बीमारियों से ग्रस्त थे व 280 आईएलआई इंफ्लूएंजा लाइक ईलनैस और 5 एसएआरआई सिवियर एक्यूट रेस्पीरेटरी ईलनैस से संदिग्ध पाए गए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना