पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

निरीक्षण:राशन डिपो पर पहुंची खराब गेहूं पर अधिकारियों ने लिया संज्ञान, डिपो होल्डर से बात कर टीम बनाई

यमुनानगर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर के डिपो होल्डरों के पास पहुंची खराब गेहूं के मामले पर विभागीय अधिकारियों ने संज्ञान लिया है। मामला हाईलाइट हाेते ही विभाग में खलबली मची है। बुधवार सुबह कुछ डिपो होल्डर बुलाए गए। उनसे बातचीत के बाद जिला अधिकारी ने टीम का गठन किया गया। टीम शहरी डिपो पर जाकर चेक करेगी कि किसके पास खराब गेहूं सप्लाई हुई है। सप्ताह में जांच पूरी करने की जिम्मेदारी है। चर्चा ये भी हो रही है कि अधिकारियों ने एसोसिएशन के पदाधिकारियों को सुबह ही कार्यालय बुलाया। उनसे जवाब तलब किया। उनसे पूछा जा रहा है कि खराब गेहूं का मामला बाहर कैसे गया। किसकी लापरवाही से सूचना लीक हुई है। अभी तक मामले में स्थिति स्पष्ट नहीं हुई है। अब अधिकारी अपने स्तर पर पता लगाएंगे कि जानकारी कार्यालय से बाहर कैसे गई। इससे पहले भी एक बार इस तरह का मामला सामने आ चुका है।

स्टोर से आई गेहूं क्वालिटी नहीं थी ठीक

जिस स्टोर से डिपो पर गेहूं सप्लाई हो रही है। उसकी क्वालिटी ज्यादा ठीक नहीं थी। सप्लाई लेकर आए कर्मी से डिपो होल्डर ने बात की। उसको वापस ले जाने को भी कहा, लेकिन वह नहीं माना। उसने कहा कि ये उसके हाथ में नहीं है। उसका काम केवल सप्लाई डिपो तक पहुंचाने का है। आपत्ति आप कार्यालय आकर जता सकते हैं।

डर रहता है, हम शिकायत करें तो कैंसिल न हो जाए डिपो

खराब गेहूं का जब कुछ होल्डरों ने विरोध किया तो अधिकारी खफा हो गए। सप्लाई देखी तो आपत्ति दर्ज कराई। इस पर कोई सुनवाई नहीं हुई। उल्टा उनको कहा गया कि अगर कोई परेशानी है तो बड़े साहब से बात कर सकते हैं। डिपो रद्द न होने जाए इस डर से किसी डिपो होल्डर ने आवाज न उठाना मुनासिब समझा। एक नहीं सैकड़ों एरिया ऐसे हैं जहां पर निम्न गुणवत्ता वाली गेहूं भेजी गई है। बाहर से बाेरियां साफ नजर आती है, लेकिन अंदर से बढ़िया गेहूं नहीं निकलती है।

खराब गेहूं हमने कहीं सप्लाई नहीं की है। फिर भी इसकी जांच कराई जाएगी। अगर खराब मिलती है तो जांच के बाद एक्शन लिया जाएगा। -सुनील कुमार शर्मा, डीएफएससी।

खबरें और भी हैं...